2009-10 का “कोणार्क पत्रकारिता पुरुस्कार” प्रदीप श्रीवास्तव को

pradeep sriनिज़ामाबाद. कला, संस्कृति एवम पत्रकारिता के लिए दिया जाने वाला “कोणार्कपुरुस्कार” इस बार निज़ामाबाद (आन्ध्र प्रदेश ) के हिंदी भाषी पत्रकार प्रदीप श्रीवास्तव को दिया जा रहा है.यह पुरुस्कार अगले वर्ष 26 जनवरी2010 कों उड़ीसा के कटक में आयोजित 15 से 28 जनवरी तक होने वाले थियेटर ओलंपियाड के दौरान दिया जायेगा. पुरुस्कार थियेटर मूवमेंट द्वारा हर साल “कला – संस्कृति एवम पत्रकारिता” के लिए किये गए उल्लेखनीय कार्य हेतु दिया जाता है . जिसे इस बार निज़ामाबाद से प्रकाशित राष्ट्रीय हिंदी दैनिक “स्वतंत्र वार्ता” के स्थानीय संपादक प्रदीप श्रीवास्तव कों दिया जा रहा है.

यह जानकारी देते हुए मूमेंट थियेटर के महा सचिव श्री जी.बी. दास महापात्र ने बताया कि पुरुस्कार के रूप में शाल, श्रीफल एवम स्मृति चिन्ह दे कर सम्मानित किया जायेगा. मूल रूप से अयोध्या (फैजाबाद) के रहने वाले प्रदीप श्रीवास्तव पिछले 28 वर्षं से हिंदी पत्रकारिता से जुड़े हैं. स्वतंत्र पत्रकारिता के बाद वाराणसी से प्रकाशित हिंदी दैनिक “आज ” के वाराणसी एवम आगरा संस्‍करण के सम्पादकीय विभाग में काम करने के बाद हरियाणा, असम, दिल्ली, महाराष्ट्र के बाद इन दिनों निज़ामाबाद से प्रकाशित हिंदी दैनिक स्वतंत्र वार्ता में स्थानीय सम्पादक हैं. इससे पहले श्री श्रीवास्तव कों अनेकों पुरुस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है.जिसमे प्रमुख हैं 1986 में रोट्रेक्ट क्लब वाराणसी द्वारा “युवा प्रतिभा “, 1993 में लघु समाचार पत्र सम्मेलन द्वारा अहिन्दी भाषी क्षेत्र में हिंदी पत्रकारिता के लिए, कला साहित्य एवम संस्कृति परिषद् मथुरा द्वार हास्य वयंग्य की रचना पर” साहित्य सरस्वती ” की उपाधि, 2006 में इन्डियन एसोसिएसन आफ जर्नलिस्ट, वाराणसी द्वारा “काशी रत्न अलंकरण “, 2006 में निज़ामाबाद शताब्दी के अवसर जिला प्रशासन द्वारा “निज़ामाबाद गौरव “पुरस्कार के साथ निज़ामाबाद रोटरी क्लब, लायंस कलब आफ डायमंड आदि संस्थाओं द्वारा समय-समय पर पुरुस्कार व सम्मान शामिल हैं.

श्री प्रदीप श्रीवास्तव निज़ामाबाद पर्यटन विकास समिति (पर्यटन विभाग) के कार्यकारी सदस्य, संस्कार भारती इन्दुर हिंदी समिति व निज़ामाबाद साइक्लिंग एसोसिएसन के सलाहकार, आन्ध्र प्रदेश रोल बाल एसोसिएसन के प्रदेश उपाध्यक्ष  के साथ-साथ निज़ामाबाद उत्सव समिति एवम स्मारिका उपसमिति के सदस्य के अलावा वे आन्ध्र प्रदेश रेड क्रास सोसायटी के आजीवन सदस्य भी हैं.

Leave a Reply

%d bloggers like this: