प्रकृति का संदेश

0
220

न करो तुम दोहन मेरा ,
न करो तुम दूषित मुझको |
हे ! मानव मै कोई वायरस नहीं
प्रकृति का संदेश है तुझको ||

सदियो से मनमानी करता आया ,
मनमुटाव मुझसे करता है आया |
जल और वायु जो जीवन उपयोगी ,
उनको सदा तू दूषित करता आया ||

धरा और गगन को तूने न छोड़ा ,
उच्चे उच्चे शिखरो को न छोड़ा |
उनको काट कर सुरंग बनाई ,
जीव जन्तुओ को भी न छोड़ा ||

किए तूने नये नये कारनामे ,
गगन पर किए नये फसाने |
चाँद मंगल को भी है घेरा ,
बनाना चाहता है उन पर डेरा ||

सागर का भी मंथन किन्हा,
उसमे रहने वालो का जीवन छीना |
इसमे भी बारूद की सुरंग बिछाई ,
मुश्किल हो गया उनका जीना ||

नये नये अन्वेष्ण है करता ,
अपनी कब्र खुद ही खोदता |
फिर करता प्रकृति पर दोषारोपण ,
नासमझी के काम तू है करता ||

दे रही है प्रकृति तुझको चेतावनी ,
बन्द कर मानव तू अपनी शैतानी |
वरना ये वायरस तुझको खा जायेगा,
फिर तू अपने हाथ मलता रह जायेगा ||

आर के रस्तोगी

Previous articleहाॅटस्पाॅट क्षेत्रों में बढ़ते कोरोना के मरीज
Next articleमोदी सरकार का सच और संघर्ष
आर के रस्तोगी
जन्म हिंडन नदी के किनारे बसे ग्राम सुराना जो कि गाज़ियाबाद जिले में है एक वैश्य परिवार में हुआ | इनकी शुरू की शिक्षा तीसरी कक्षा तक गोंव में हुई | बाद में डैकेती पड़ने के कारण इनका सारा परिवार मेरठ में आ गया वही पर इनकी शिक्षा पूरी हुई |प्रारम्भ से ही श्री रस्तोगी जी पढने लिखने में काफी होशियार ओर होनहार छात्र रहे और काव्य रचना करते रहे |आप डबल पोस्ट ग्रेजुएट (अर्थशास्त्र व कामर्स) में है तथा सी ए आई आई बी भी है जो बैंकिंग क्षेत्र में सबसे उच्चतम डिग्री है | हिंदी में विशेष रूचि रखते है ओर पिछले तीस वर्षो से लिख रहे है | ये व्यंगात्मक शैली में देश की परीस्थितियो पर कभी भी लिखने से नहीं चूकते | ये लन्दन भी रहे और वहाँ पर भी बैंको से सम्बंधित लेख लिखते रहे थे| आप भारतीय स्टेट बैंक से मुख्य प्रबन्धक पद से रिटायर हुए है | बैंक में भी हाउस मैगजीन के सम्पादक रहे और बैंक की बुक ऑफ़ इंस्ट्रक्शन का हिंदी में अनुवाद किया जो एक कठिन कार्य था| संपर्क : 9971006425

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here