लेखक परिचय

मृत्युंजय दीक्षित

मृत्युंजय दीक्षित

स्वतंत्र लेखक व् टिप्पणीकार लखनऊ,उप्र

Posted On by &filed under आलोचना.


tejमृत्युंजय दीक्षित

एक ओर जहां आजकल प्रदेश का कामकाज बेहद सुस्त हो गया है हर विभाग में अफसरों की लापरवाही के परिणाम सामने आ रहे हैं तथा समाजवादी सरकार की लोकलुभावन योजनाएं एक के बाद एक फेल होती जा रही हैं उस समय सैफई में जिस प्रकार से सपा मुखिया मुलायम के पोते तेज प्रताप का बेहद खर्चीला तिलक समारोह आयोजित किया गया उससे तो यह साफ प्रतीत हो रहा है कि अपने आप को गरीबों का मसीहा बताने वाले समाजवादी अब गरीबों के मसीहा नहीं रहे। समाजवादियों की ऐसी शान औ शौकत देखकर तो पूर्ववर्ती समाजवादी डा. राममनोहर लोहिया भी स्वर्ग में बैठकर अपना सिर पीट रहे होंगे। इतने महंगे तिलक व पूर्व में सपा मुखिया का जन्मदिन से तो यही प्रतीत हो रहा है कि अब समाजवादी समाजवादी नहीं रहे अपितु वह भी केवल और केवल वंशवादी परम्परा का सत्ता का नशा हो गये हैं जो सैफई में धूम मचा रहा है। पहले समाजवादी मुखिया मुलायम सिंह ने रामपुर में अपना जन्मदिन मनाने में करोडों खर्च कर डाले तथा वहीं उनकी बहू सांसद डिम्पल यादव ने अपना जन्मदिन विदेश में मनाया।

वर्तमान राजनीति के दौर में राजनेताओं व सत्ताधीश जिस प्रकार से सामाजिक व पारिवारिक उत्सवों को इतने बड़े पैमाने पर आयोजित कर रहे हैं वह केवल और केवल अपने धनबल और जनबल का प्रदर्शन होता है। यह नेता अपने ऐष्वर्य का अद्भुत प्रदर्शन कर रहे हैं। कालाधन का शोर मचाया जा रहा है जबकि वास्तविक काला धन तो हमारे नेताओं के पास देश के अंदर ही मौजूद है। यह लोग केवल गरीबी दूर करने का नारा दे रहे हैं और उसी के सहारे अपनी गरीबी को दूर कर रहे है।

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री तथा चारा घोटाले में सजायाफ्ता लालू प्रसाद यादव ने अपनी बेटी राजलक्ष्मी का विवाह उप्र के पूर्व मुख्यमंत्री सपा मुखिया मुलायम सिंह के पोतेतेज प्रताप यादव के साथ तय किया है। राजनैतिक विश्लेषकों का अनुमान है कि इस वैवाहिक गठबंधन के माध्यम से लालू यादव जनता परिवारके एकीकरण और उप्र तथा बिहार में अपनी राजनैतिक पकड़ को और मजबूत करना चाहरहे हैं। लालू के पोते का तिलक समारोह कई और बहुत से कारणों से भी चर्चा में रहा । इस तिलक समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह,उप्र के राज्यपाल रामनाईक, मध्य प्रदेश भाजपा के वरिष्ठ नेता बाबूलाल गौड़ सहित समाजवादी पार्टी के लगभग सभी प्रमुख नेता शामिल हुए। फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन, अमर सिंह की उपस्थिति भी चर्चा में रही। अगर सबसे अधिक जिसने सुर्खियां बटोरी व लोगों को खुशियां बांटीं उनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही रहे। सैफई का हर कोई शख्श प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ फोटो सेशन करवाना चाह रहा था। प्रधानंमत्री मोदी से राजद नेता लालू यादव ने जिस गर्मजोशी से हाथ मिलाया व फोटो खिंचवाया वह बहुत ही दुर्लभ नजारा था। उन तस्वीरों व क्षणों को देखकर हर कोई आश्चर्यचकित होकर दांतों तलेउंगली दबा रहा था। मीडिया में कहा गया कि यह तो उसी प्रकार से हो रहा है कि जैसे कि शाहरूख- सलमान एक फिल्म में एक साथ काम रहे हों। वैसे ही ऐसे अवसरों को राजनैतिक रूप से नहीं देखा जाना चाहिए। लोगों को यह कतई अनुमान नहीं था कि प्रधानमंत्री मोदी तेजू के तिलक समारोह में उपस्थित होंगे। आजकल देश की राजनीति में कटुता का दौर चल रहा है। व्यक्तिगत रूप से आरोपों – प्रत्यारोपो कादौर चल रहा है। साथ ही अल्पमत बहुमत को डिगाने व झुकाने के लिएहरसंभव प्रयास कर रहा है। राजनीति में सामाजिक समरसता लानेक के उददेश्य से तो यह प्रयास दोनों ओर से ही काबिलेतारीफ है। लेकिन क्या इन समारोहों में मुलाकातों से विपरीत विचारधाराओं मेंआपसी सामंजस्य स्थापित हो सकेगा व देशहित में सबका साथ सबका विकास का नारा हकीकत में परिवर्तित हो सकेगा।

इस समारोह में एक बात और हुई और वह यह है कि सपा सरकार में कद्दावर मुस्लिम नेता व मंत्री आजम खां नहीं उपस्थित हुए थे। कयास लगाये जा रहे हैं कि आजम खां नेता जी से नाराज हो गये हैं। आजम ने मोदी व मुलायम की मुलाकात को बादशाहों की मुलाकात कहकर अपनी नाराजगी भी जाहिर कर दी है। आजकल प्रदेश की राजनीति में मंत्री आजम और राज्यपाल रामनाईक के बीच गहरे विवाद भी चर्चा का केंद्रबिंदु बने है। यह तो था कुछ राजनीति का सकारात्मक पहलू लेकिन इस आयोजन में जिस प्रकार से अनाप- शनाप खर्च किया गया है वह भी कम हैरतअंगेज नहीं है। कहा जा रहा है कि इस परिवार में इतना भव्य समारोह पहली बार हुआ है। करीब एक लाख से अधिक लोगों ने अलग- अलग पंडालों में खाना खाया। पंडालों में समारोह देखने के लिए एलसीडी लगाये गये थे। घरेलू सिलेंडर लगे थे तथा बच्चों से भी काम कराया जा रहा था। बिहार से पंडित आये थे। पीएम नरेंद्र मोदी के कारण सुरक्षा का भी अभूतपूर्व अंजाम था। करीब एक लाख बनारसी पान पूरे समारोह में खप गया। प्रधानमंत्री मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा के साथ लखटकिया सूट पहना तो चुनावी मुददा बना दिया गया लेकिन जब शरद यादव ने चमकीला जैकेट पहना तो मीडिया में वह सुर्खियों में नहीं आया। क्या शरद यादव का सुनहला जैकेट उनकी गरीबी व धर्मनिरपेक्षता का प्रतीक है। तेजू के तिलक समारोह को मीडिया की जबरदस्त कवरेज भी मिल गयी। अगर समाजवादी गरीबों व किसानों के मसीहा हैं तो इतने महंगे उत्सव आखिर किसलिए । एक तरफ समाजवादी सरकार आरोप लगाती है कि प्रदेश में विकास के लिए पैसा नहीं तथा केंद्र सरकार विकास के लिए पर्याप्त धन नहीं देती उस पर से यह शान- औ- शौकत दिखावा नहीं तो और क्या है?

One Response to “प्रदेश में प्रशासन पस्त लेकिन समाजवादी मस्त”

  1. mahendra gupta

    तथाकथित समाजवादियों का फर्जी समाजवाद है यह , नयी पीढ़ी को लोहिया व जयप्रकाश नारायण के नाम पर यह लोग गुमराह कर रहे हैं व व इसका अपना नया संस्करण परोस रहे हैं , अब जनता को ही तय करना है कि इन छद्म समाजवादियों पर कब तक विश्वास किया जाये व समाजवादी गुंडों से मार खाई जाये

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *