लेखक परिचय

बीनू भटनागर

बीनू भटनागर

मनोविज्ञान में एमए की डिग्री हासिल करनेवाली व हिन्दी में रुचि रखने वाली बीनू जी ने रचनात्मक लेखन जीवन में बहुत देर से आरंभ किया, 52 वर्ष की उम्र के बाद कुछ पत्रिकाओं मे जैसे सरिता, गृहलक्ष्मी, जान्हवी और माधुरी सहित कुछ ग़ैर व्यवसायी पत्रिकाओं मे कई कवितायें और लेख प्रकाशित हो चुके हैं। लेखों के विषय सामाजिक, सांसकृतिक, मनोवैज्ञानिक, सामयिक, साहित्यिक धार्मिक, अंधविश्वास और आध्यात्मिकता से जुडे हैं।

Posted On by &filed under कविता, साहित्‍य.


politics newकोई भी दल लोकसभा मे,

बहुमत नही पायेगा,

क्योंकि सभी ने जनता को,

कभी न कभी छला है।

जनता भी असमंजस मे है,

कौन बुरों मे भला है।

 

मौन रहकर मनमोहन ने,

राजमाता और राजकुँवर को ही

बस पूजा है।

दामाद सहित सब मंत्रियों ने,

घोटाले पर घोटाले करके,

देश को बेचा और लूटा है,

फिर भी किसी को भी,

अब तक नहीं मिली सज़ा है।

 

भाजपा मे मोदी का क़द बढ़ा है,

आदमी काम का है पर,

उसके माथे पर भी,

एक कलंक लगा है।

अडवानी अब बूढ़े हो गये है,

फिर अब कौन बचा है ?

बचा है !

इच्छुक दावेदारों की तो,

लम्बी लाइन लगी है,

सुषमा,ममता ललिता और

माया की माया है,

नितीश, मुलायम, और पटनायक

के मन मे इच्छा बड़ी  जगी है।

और कितने नाम गिनाऊं,

हर नेता लाइन मे लगा है।

देश की किसको परवाह है ,

धन और सत्ता के लालच मे,

हर  दल और नेता फंसा है।

 

बिखरी लोकसभा आयेगी,

सांसदो की बोली लगेगी,

प्रधानमंत्री कौन बनेगा,

चिल्लमचिल्ली बहुत मचेगी,

देश की जनता अपने चुने

नेताओं के लियें,

ख़ुद को ही कोसेगी !

 

देश समर्पित नेता मांगे,

संविधान परिवर्तन मांगे,

जनता की,

ये आस कभी क्या पूरी होगी !

,

 

2 Responses to “ये आस कभी क्या पूरी होगी !”

  1. PRAN SHARMA

    भारत की मौजूदा राजनीति की सच्ची तस्वीर प्रस्तुत करने के लिए
    बीनू जी को बधाई और शुभ कामनाएँ .

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *