More
    Homeविविधाखतरा भारत पर एटम बम के हमले का

    खतरा भारत पर एटम बम के हमले का

    -राघवेन्द्र सिंह

    अमेरिका ने जापान की घनी आबादी वाले शहर नागासाकी तथा हीरोसीमा पर परमाणु आक्रमण किये थे। 80 हजार लोग कालकवलित तथा लाखो अपंग हुए जिसका असर दशकों तक रहा। बच्चे अंग-भंग तथा बीमार पैदा होते रहे। कहा जाता है, जापान आज भी उक्त विस्फोट के रेडिएशन से पूरी तौर पर मुक्त नहीं हो पाया है। जब कि उक्त बम मात्र 13 तथा 18 टन टी0 एन0 टी0 के था। आज विज्ञान ने काफी तरक्की कर ली है। स्वाभाविक है। इस क्षेत्र में भी हुयी। नतीजन हमारे जगजाहिर पड़ोसी दुश्मन देश पाकिस्तान के पास भी नौ हजार से बारह हजार टन टी0 एन0 टी0 क्षमता वाले एटमबम आ गये।

    हमारे देश की सरकार आज भी मध्ययुगीन व्यवस्था में जी रही है, जिसकी पोल मुम्बई के आतंकी हमले में खुल चुकी है। ईश्वर न करे कभी देश को परमाणु हमले की विभीषिका का सामना करना पड़े यदि ऐसा हुआ तो उसकी तैयारी की भी एक झलक हमारे सामने आ चुकी है। दिल्ली के मायापुरी इलाके में स्क्रैप कोबाल्ट के रेडिएशन से कुछ लोग प्रभावित हुए जिसे समझने में डाक्टरों को कई दिन लग गये। समझने के बाद चिकित्सको द्वारा उनके इलाज की व्यवस्था किस प्रकार की जाय समझ नहीं आ पाया। अन्त में भाभा एटामिक रिसर्च सेन्टर की मद्द के बाद उक्त समस्या का निदान हुआ। जिसमें काफी दिन लग गये।

    जरा हम इस बात की कल्पना करे। मात्र एक मेंगा टन का एटम बम यदि कही गिरता है तो तबाही का मंजर क्या होगा। बम गिरने वाले स्थान से छह मील के दायरे में सभी भवन ध्वस्त तथा जितनी भी आबादी होगी, गामा किरणों के कारण मोम की तरह पिघल धुएँ में विलीन हो जाएगी। उनका पता भी नहीं चलेगा वे कहाँ चले गये। उक्त विस्फोट से एक आग का गोला बनता है जिसे यदि कोई पचास मील दूर से भी देख ले तो उसे जीवन भर के लिये धुधला दिखने लगता है। विस्फोट स्थल से सौ मील के दायरे में तबाही का मंजर बेहद भयावह होगा। लोगों के शरीर आंशिक गले होगे, शरीर की मौलिक्यूलर संरचना टूटने लगेगी, सिर के बाल झड़ने लगेगे तथा उक्त प्रभावित क्षेत्र में लोगों को इस कदर प्यास लगेगी जो पानी से नहीं भुझेगी। व्यक्ति को लगेगा जीवन से मौत बेहतर।

    आज यह समय परमाणु बम उचित है या अनुचित की चर्चा का नहीं है। विषय है देश की निरीह जनता की सुरक्षा का। देश की सरकार विभिन्न कम उपयोगी या बेवजह की योजनाओं पर बेतहाशा खर्च करती है परन्तु अपने समक्ष उत्पन्न होने वाले सम्भावित इस संकट के बारे में विचार करने की चिंता नहीं है उसे। यह बात सत्य है किन्हीं परिस्थितिओं में पाकिस्तान एटामिक आक्रमण करता है। चाहे वह युध्द हो या आतंकियो का हमला पलटवार में भारत ही भारी पड़ेगा लेकिन उन कुछ एक मिनटों में हमारे देश में जान-माल की जो तबाही होगी उसकी कल्पना भी भयकारी है। भारत के दोनों पड़ोसी देश चीन तथा पाकिस्तान परमाणु बम सम्पन्न राष्ट्र है और आज उनकी गलबहियाँ जगजाहिर है। चीन भी भारत का हितौशी नहीं है। जो पूर्व तथा वर्तमान की कुछ घटनाओं से स्पष्ट हो चुका है। जो अत्यन्त चिन्ता का विषय है।

    इस बात को हम किंचित मात्र भी नकार नहीं सकते है कि भारत पर एटमबम आक्रमण का खतरा बराबर बना हुआ है। कोई भी देश या आतंकी संगठन जो वैश्विक स्तर पर अपनी ताकत को दिखाने के लिये कर सकता है। अत: हम हाथ पर हाथ रखकर नहीं बैठ सकते । यह मुमकिन है कि आतंकी संगठनों के पास परमाणु बम आ चुके हो। यदि नहीं भी तो हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान में उनकी पहुँच से दूर नहीं है। चूँकि वहाँ लम्बे समय से अस्थिरता का वातावरण बना हुआ है। कट्टरपंथियों के दबाव में सरकार लगातार है। अमेरिका चाहे जितनी भी कोशिश कर ले या गारंटी ले ले पाक एटमबम की, सब निरर्थक ही है। वहाँ किसी भी समय कुछ भी घटित हो सकता है।

    आक्रमण रूपी विभीषिका भारत पर अचानक ही आयेगी। स्वाभाविक है उनका लक्ष्य राजस्थान का मरूस्थल न होकर घनी आबादी का क्षेत्र ही होगा। हमारे देश की सरकार एटमबम के हमले के विषय पर कानों में तेल डालकर बैठी है। मानो हमलावर उन्हें समय दे तथा बताकर आक्रमण करेगा। अचानक एक मिशाईल एटमबम के साथ भारतीय सीमा को चिरती हुयी अपने लक्ष्य पर गिरेगी और तबाही का मंजर मानव सभ्यता के अन्त तक हमेशा याद रखा जायेगा। हमारी सरकार इस बात को दावे से नकार नहीं सकती कि आतंकियों के पास एटमबम नहीं है। वह विश्व को दहलाने के लिये अमेरिका या अन्य ताकतवर देश हमला करने वाले नहीं। उनके लिये सबसे शुलभ देश भारत ही है। तीन तरफ समुद्री खुली सीमाएँ तथा कमजोर सुरक्षातंत्र उनके सोने पर सुहागा होगा। जिस प्रकार आतंकियो ने मुम्बई पर हमलाकर सम्पूर्ण विश्व को अपनी अराजकता के संदेश को भेजने का कार्य किया वे इसी प्रकार का कुछ एटमबम विस्फोट से भी घटित कर सकते है। पाकिस्तान का परमाणु बम चाहे जितनी भी सुरक्षा में हो वहाँ की सरकार ही आतंकियो से पूरी तरह असुरक्षित है। पाक में उक्त बम की सुरक्षा बेईमानी सी लगती है। हमारे देश की भारत सरकार को चाहिये उक्त विभीषिका से निपटने के लिये ईमानदारी से समाज के निचले स्तर से ऊपर की ओर जागरूकता अभियान चलाये। समाज को उसकी भयंकरता, सम्भावित सुरक्षा तथा उपचार के तरीके बताने चाहिये। जो विभिन्न प्रचार माध्यमों से हो सकते है। उपचार की औषधियाँ नि:शुल्क या अत्यधिक कम कीमत पर सरकारी अस्पतालों तथा दवाखानों में पर्याप्त मात्रा में हमेशा उपलब्ध रहे। जिसे व्यक्तियों को अपने घरों में पहले से रखने का आग्रह सरकार द्वारा बराबर किया जाना चाहिये। इस कार्य में स्वयं सेवी संस्थाओं की भी मद्द ली जा सकती है। चूँकि एक बार रेडिएशन फैलने के बाद बचे हुये लोगों का इलाज किसी भी तरीके से सरकार नहीं कर सकती। अत: उसे अपनी योजना का विकेन्द्रीयकरण करना चाहिये। उक्त समस्या के इलाज हेतु स्वयं व्यक्ति को सरकार द्वारा इतनी जानकारी उपलब्ध करायी जाये कि वह कम से कम अपनी तथा अपने परिवार की आकस्मिक चिकित्सा कर सके। इस सम्भावित विभीषिका का सामना करने के लिये सरकार को देश की जनता का मानस ईमानदारी से बिना किसी राजनैतिक सोच या हानि लाभ के बनाये रखना चाहिये। इस विषय पर पक्ष-विपक्ष या अन्य सहयोगी पार्टियों को भी सरकार का पूरा सहयोग करना चाहिये।

    उक्त एटमबम तबाही से पहले यह नहीं भेद करेगा कौन सरकार तथा कौन विपक्ष, वह अमीर तथा गरीब भी नहीं देखेगा, उसे हिन्दू तथा मुसलमान भी नहीं नजर नही आयेगे और न ही दिखेगा पंथ तथा मजहब की आड़ में एक दूसरे को शंका की दृष्टि से देखने वाले। वो सभी को एक ही झटके में अपनी कठोर एवं निष्ठुर मारक क्षमता का एहसास करा देगा तथा दे जायेगा हमेशा के लिये न भूलने वाली वेदना भरी असहनीय पीड़ा। ऐसा नहीं है कि बम तबाही के तुरन्त बाद सब कुछ ठीक हो जायेगा। उक्त बम विस्फोट आगे आने वाली पीढ़ी को कैंसर, ल्यूकेमिया जैसी घातक बीमारी के असीमित वेदना देता रहेगा। कुल मिलाकर जो लोग उक्त तबाही से जिन्दा बच भी गये उनकी आगे की नस्लें भी लम्बे समय तक तबाह रहेगे।

    पाकिस्तान की सरकार को भी चाहिये चूँकि आणविक बम मानव सभ्यता के प्रश्न चिन्ह के रूप में उभरा है। अत: उसे पूरी संजीदगी से इस विषय पर चिन्ता करनी चाहिये । उसे इस विषय पर पूरी ईमानदारी से ध्यान देना चाहिये कि किसी प्रकार भी गैर जिम्मेदार व्यक्ति या संस्था के हाथ में वह न पड़ने पाये। जिससे अनर्थ की सम्भावना हजार गुना बढ़ जायेगी। इस विषय पर वह भारत के साथ मिलकर साझी योजना भी बना सकते है। चूँकि उक्त विषय से भारत ही सबसे अधिक प्रभावित होने वाला है। अत: उसे भी पूरी निष्ठा से सहयोग देना चाहिये। पाकिस्तान को बेवजह अपनी राजनैतिक, भौगोलिक तथा आर्थिक कमजोरियों को कम से कम भारत से नहीं छिपाना चाहिये। ईमानदारी से उससे चर्चा कर सहयोग की अपेक्षा करनी चाहिये। निश्चित ही व्यक्ति, समाज या राष्ट्र के लिये अपनी कमजोरियों को छिपाना अन्त में कष्टदायक ही होता है। कष्ट के समय उसे समय रहते किसी को उसका भागीदार न बनाने की भूल याद आती है। किन्हीं भी कारणों से भारत पर एटामिक आक्रमण हुआ। पलटवार में पूरा पाकिस्तान इतिहास में बदल जायेगा। दोनों देशो में तबाही का वह मंजर होगा जिसे देखकर प्रकृति भी कांप उठेगी। इसलिये दोनो देशों को चाहिये अपनी जनता के हितो की रक्षा के लिये पूरी जिम्मेदारी तथा ईमानदारी से अपने-अपने कर्तव्‍यों का निर्वाह करें।

    राघवेन्द्र सिंह
    राघवेन्द्र सिंह
    117/के/145, अम्बेदकर नगर गीता नगर, कानपुर उत्तर प्रदेश-208025

    3 COMMENTS

    1. श्री राघवेन्द्र जी बिलकुल सही कह रहे है. यह तो सही है की एक भी परमाणु बम फूटेगा तो तीसरे विश्व युद्ध की शुरुआत हो जाएगी और हो सकता है यही आज के समाज का अंत भी हो क्योंकि जिस पर बम गिरेगा वह चूड़ी पहनकर तो नहीं बठेगा. हां हो सकता है किसी देश विशेष की सत्ता राजनेतिक मजबूरी बश ऐसा न करने दे.

      हालांकि हमने इतिहास से पूरा सबक नहीं लिया है. हालाँकि हमारी सेन्य छमता तो बहुत अछि है किन्तु राजनेतिक इक्षाशक्ति बहुत कमजोर है.

      सरकार डिसास्टर priparedness कोर्से तो चलती है किन्तु बहुत कम है. कुछ एन.जी.ओ. भी कोर्से करते है किन्तु वास्तवक समस्याओं को ध्यान में रखते हुए उन्नत प्रशिक्ष्रण की जरुरत है.

      ताकत से बड़ी चीज है डर.
      काश पाकिस्तान, चीन और अन्य देशो में यह विश्वाश हो जाये की अगर वे भारत पर एक परमाणु बम फेकेंगे तो भारत उन पर पच्चीस बम फेकेगा. फिर हम निशिंत हो सकते है.

    2. क्या परमाणु आक्रमण से किसी को कोई भी लाभ मिल सकता है ?
      मेरा निवेदन है की लेखक भाग-२ लिखने का चिंतन करें और परमाणु आक्रमण करने वाले को इससे क्या लाभ और हानी हो सकती है – समझाने की कोशिश करे .
      धन्यवाद .

    3. इस विषय पर शीतयुद्धकालीन आलेख .कथाएं .कवितायेँ काफी चर्चित रहे हैं .
      एक मुहावरा चल पड़ा था की एटम बम का युद्ध में जो भी पहले प्रयोग करेगा .विनाश उसका भी तय है .जिस पर हमला होगा वो कुछ भी न करे तब भी वे यदि पडोसी हैं तो घातक विकरणों की चपेट में आने से दोनों ही नहीं बचेंगे ..
      अब हर कोई तो अल्वर्ट आइन्स्टीन को पढ़ता नहीं जो जाने की इस विषय में उनके क्या विचार थे .उन्होंने कहा था “ये तो पता नहीं की तीसरा विश्व युद्ध होगा या नहीं ;किन्तु एटम बम के प्रयोग के बाद मानव जाती आइन्दा पेड़ की टहनियों और पथ्थरों से लड़ेगी .वह भी अपनी पाषाण युगीन जंगली अवस्था में बची खुची
      आदिम barbar sabhyta के sath .

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    * Copy This Password *

    * Type Or Paste Password Here *

    11,622 Spam Comments Blocked so far by Spam Free Wordpress

    Captcha verification failed!
    CAPTCHA user score failed. Please contact us!

    Must Read