बेनकाब हुई हिन्‍दू धर्माचार्य को बदनाम करने की साजिश

-मयंक चतुर्वेदी

चित्रकूट तुलसी पीठ के पीठाधीश्वर एवं विकलांग विश्वविद्यालय के कुलाधिपति जगद्गुरु रामानन्दाचार्य स्वामी रामभद्राचार्य को हिन्दू विरोधी शक्तियों द्वारा विवादित और बदनाम करने की साजिश का आखिरकार खुलासा हो गया। उनके बारे में यह भ्रम फैलाया जा रहा था कि वह संत तुलसीदास की कृति रामचरित मानस को अशुद्धियों से भरा मानते हैं और उसमें उन्होंने 3 हजार से ज्यादा गलतियां ढूढ निकाली हैं। समाचार पत्रों में यह विवादास्पद समाचार प्रकाशित होने के बाद से हिन्दू समाज में लगातार उनके विरुध्द जन आक्रोश भडक रहा था, जिसका कि आखिरकार पटाक्षेप अखिल भारतीय अखाडा परिषद अयोध्या के अध्यक्ष महंत ज्ञानदास के सार्वजनिक वक्तव्य आने के बाद हो गया।

गौरतलब है कि यह 24 अप्रैल को एक समाचार एजेंसी द्वारा यह समाचार प्रमुखता से प्रसारित किया गया था कि जगतगुरू रामभद्राचार्य पर अखिल भारतीय अखाडा परिषद ने तुलसीदास कृत रामचरित मानस में गलतियां ढूढने के बाद उन पर 7 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है, वहीं रामभद्राचार्य ने स्वयं को संशोधित रामचरितमानस की सभी प्रतियों को महंत ज्ञानदास के निर्वाणी अखाडे को सौंप दिया है। आचार्य ने अपनी गलती मानते हुए सजा स्वीकार्य करने के साथ जुर्माना अदा कर दिया है। इसके अलावा रामभद्राचार्य ने खुद यह बात स्वीकार्य की है कि उनसे भारी भूल हो गई। उन्हें रामचरित मानस में गलतियां नहीं निकालनी थी। ज्ञातव्य हो कि इस खबर के आने के बाद से पिछले तीन दिनों से घटनाक्रम तेजी से बदला और संत तुलसीदास के प्रति आदरभाव रखने वाले रामभद्राचार्य के विरुध्दा मुहिम चलाने लगे थे। आखिरकार स्थिति को भांपते हुए अखिल भारतीय अखाडा परिषद के अध्यक्ष महंत ज्ञानदास सामने आ गए हैं। ”हिन्दुस्थान समाचार” से दूरभाष पर बातचीत के दौरान उन्होंने रामभद्राचार्य की संशोधित रामचरित मानस की गलतियों से संबंधित सभी बातों को सिरे से खारिज कर दिया। उनका कहना था कि जगद्गुरू रामभद्राचार्य के प्रति उनके अंदर सम्मानजनक भाव है। कहीं कोई विवाद नहीं। समाचार एजेंसी से जो समाचार प्रेषित हुआ तथा बाद में वह कई समाचार पत्रों में प्रकाशित हुआ वह मिथ्या है। उसमें कोई सच्चाई नहीं। उन्होंने स्वामी रामभद्राचार्य को सर्वसम्मति से लिए गए अखाडा परिषद के निर्णय में निर्विवाद ठहराया है।

महंत ज्ञानदास का कहना है कि स्वामी रामभद्राचार्य से रामचरित मानस को लेकर अखिल भारतीय अखाडा परिषद का कोई विवाद नहीं है। उन पर परिषद ने किसी प्रकार का जुर्माना नहीं लगाया। यह किसी षडयंत्रकारी की खुरापात है तथा हिन्दू धर्माचार्यों को बदनाम करने की साजिश है। स्वामी रामभद्राचार्य हमारे निर्विवाद जगदगुरू हैं, थे और रहेंगे। महंत ज्ञानदास ने यह भी बताया कि अखिल भारतीय अखाडा परिषद ने हरिद्वार महाकुंभ के दौरान चार जगद्गुरु घोषित किए हैं, जिनमें चित्रकूट, तुलसी पीठ पर स्वामी रामभद्राचार्य-पूर्व, स्वामी रामाचार्य-पश्चिम, हंस देवाचार्य-उत्तर तथा नरेंद्रचार्य को दक्षिण पीठ का सर्वसम्मति से पीठाधीश्वर बनाया गया है।

इस सम्बन्ध में तुलसीपीठाधीश्वर रामभद्राचार्य ने उत्पन्न विवाद पर खेद जताया है। उनका कहना है कि वे निर्विवाद जगदगुरू हैं, जगदगुरू पर कोई जुर्माना नहीं लगाया जा सकता। जो मेरी प्रतिभा को सहन नहीं कर पा रहे हैं वे लोग इस प्रकार का षड्यंत्र रच हिन्दू संतों को अपमानित करने का कार्य कर रहे हैं। मैंने मूल रामचरित मानस का एक भी अक्षर संशोधित नहीं किया, सिर्फ संपादन किया है। उन्होंने कहा कि सम्यक प्रस्तुति को संपादन कहते हैं और इसे स्वयं तुलसीदास ने रामचरित मानस के उत्तर काण्ड दोहा 130 में व्यक्त किया है। अभी तक रामचरित मानस के अनेक संपादक हो चुके हैं, किसी पर ऐसी आपत्ति नहीं की गई, जिस तरह मेरे संपादन किए जाने पर उभर कर सामने आईं हैं। उनका रामचरितमानस पर कोई विवाद नहीं। स्वामी भद्राचार्य का कहना है कि अखाडा परिषद् के अध्यक्ष महंत ज्ञानदास उनके परम मित्र हैं, वे अनेक बार इस बात का खंडन कर चुके हैं कि मुझे लेकर कहीं भी कोई विवाद शेष नहीं है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: