रघुवंश की दो चिट्ठी, अलग-अलग मायने

मुरली मनोहर श्रीवास्तव                                 

कल तक राजद से इस्तीफा देने के बाद जहां दूसरे दलों में जाने के कयास लगाए जा रहे थे। वहीं पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ.रघुवंश प्रसाद सिंह के निधन की खबर ने देश को गमगीन कर दिया। सभी जगह चर्चाएं होने लगी सादगी के उस महानायक की जिसने राजनीति को कभी सत्ता सुख नहीं बनाया बल्कि इसको सेवा भाव के रुप में ही जीते रहे। लालू प्रसाद के अच्छे दिनों से लेकर बूरे दिनों में भी साथ निभाया मगर इधर कुछ दिनों से राजद की कार्यशैली उन्हें रास नहीं आ रही थी। इसी वजह से उन्होंने पहले दल के पद से और बाद में दल से ही इस्तीफा दे दिया। सारे बंधनों से मुक्त हो गए। हलांकि लालू ने इनके इस्तीफे को मंजूर नहीं किया और लिखा- कि आप कहीं नहीं जा रहे हैं। मगर होनी को तो कुछ और ही मंजूर था। रघुवंश बाबू नहीं लौटने वाली अन्नत यात्रा पर निकल गए। यह संयोग नहीं तो क्या कही जाए, कि अपने जीवन से जुझ रहे जिन्हें राजनीति में ‘ब्रह्म बाबा’ के नाम से भी जाना जाता है, ने दो चिट्ठी लिखी दिल्ली एम्स से, एक लालू के नाम और एक नीतीश के नाम। इन दोनों चिट्ठियों के अलग अलग मायने हैं। इसकी गहरायी में जाकर सोचने का विषय है। एक चिट्ठी लालू से रिश्ते तोड़ने के लिए तो दूसरी नीतीश कुमार को, जिनसे उन्हें उम्मीदें थी, कि जो उनका सपना है उसे वही पूरा कर सकते हैं। रघुवंश बाबू के निधन पर प्रधानमंत्री ने भी अपील कर दी कि जो रघुवंश बाबू की आखिरी ख्वाहिश है नीतीश जी उसको पूरा कीजिए, हम भी आपके साथ हैं।

प्रोफेसर जो राजनेता बनेः

बिहार ही नहीं देशभर में डॉ. रघुवंश प्रसाद सिंह की पहचान एक प्रखर समाजवादी नेता के रुप में रही। ईमानदार, बेदाग और बेबाक अंदाज वाले रघुवंश बाबू को पढ़ने और लोगों के बीच में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने का शौक था। रघुवंश बाबू बिहार यूनिवर्सिटी से डॉक्टरेट की डिग्री प्राप्त करने के बाद राजनेता तो बाद में बने लेकिन प्रोफेसर पहले बन गए। वर्ष 1969 से 1974 के बीच करीब 5 सालों तक सीतामढ़ी के गोयनका कॉलेज में बच्चों को गणित का पाठ पढ़ाते रहे। रघुवंश बाबू वैसे तो कई बार जेल गए मगर पहली बार टीचर्स मूवमेंट के दौरान 1970 में जेल गए।

कर्पूरी सरकार में पहली बार मंत्री बनेः

कहते हैं पूत के पांव पालने में ही दिख जाते हैं। अपनी बेबाकीपन और कार्य करने की शैली की वजह से रघुवंश बाबू उस समय के जमीनी और समाजवादी नेता कर्पूरी ठाकुर से काफी प्रभावित हुए और उनके साथ हो लिए। इसके बाद वर्ष 1973 में संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के आंदोलन के दौरान फिर से जेल चले गए। इसके बाद तो उनके जेल आने जाने का सिलसिला ही शुरू हो गया। कॉलेज में में गणित के कलकुलेशन ने इन्हें राजनीति का भी सफल मैथेमैटिशियन बना दिया। तभी तो वर्ष 1977 में पहली बार रघुवंश प्रसाद बेलसंड से विधायक चुन लिए गए और यह सिलसिला 1985 जारी रहा। लेकिन 1988 में कर्पूरी ठाकुर के निधन से रघुवंश बाबू काफी आहत हुए।

लालू औऱ रघुवंश जब करीब आएः

कर्पूरी ठाकुर के जाने के बाद उनकी बिरासत को लेकर विवादों बाजार गर्म हुआ। लालू प्रसादकर्पूरी के खाली जूतों पर अपना दावा जता रहे थे। इस दौर में लालू प्रसाद का डॉ.रघुवंश प्रसाद सिंह ने साथ दिया और यहीं से शुरु हुई दोनों युवा नेताओं के बीच दोस्ती। वर्ष 1990 का दौर था,  बिहार विधानसभा के लिए चुनाव हुआ। कांग्रेस नेता दिग्विजय प्रताप सिंह से बहुत कम मतों से रघुवंश प्रसाद सिंह चुनाव हार गए। हलांकि उस हार के लिए रघुवंश प्रसाद सिंह ने जनता दल के भीतर के ही कई नेताओं को जिम्मेदार ठहराया। रघुवंश बाबू चुनाव तो हार गए मगर जनता दल को बड़ी कामयाबी मिली और लालू प्रसाद मुख्यमंत्री बन गए। लालू प्रसाद ने अपने साथी को नहीं छोड़ा और उन्हें विधान पार्षद तो बनाया ही वर्ष 1995 में अपने मंत्रिमंडल में उन्हें ऊर्जा और पुनर्वास मंत्री बनाकर दोस्ती निभायी।

मनरेगा कानून के असली शिल्पकारः

बिहार की सियासत में अपनी अलग पहचान कायम करने वाले रघुवंश बाबू देश में भी अपनी कार्यशैली और गंवई अंदाज में बोलने के लिए जाने जाते रहे। वर्ष 1996 में हुई लोकसभा चुनाव में लालू के कहने पर इन्होंने लोकसभा चुनाव वैशाली से लड़े और पूर्व मंत्री वृषण पटेल को मात देकर दिल्ली आसीन हुए। केंद्र में जनता दल की सरकार आयी एचडी देवेगौड़ा प्रधानमंत्री बने तो बिहार कोटे से रघुवंश बाबू पर पशु पालन और डेयरी महकमे का स्वतंत्र प्रभार सौंपी गई। मगर 1997 में देवेगौड़ा की कुर्सी चली गई और आई के गुजराल प्रधानमंत्री बने तो रघुवंश बाबू को खाद्य और उपभोक्ता मंत्रालय में भेज दिया गया। भारत में बेरोज़गारों को साल में 100 दिन रोज़गार मुहैया कराने वाले इस क़ानून को ऐतिहासिक माना गया था। यूपीए दो को जब फिर से 2009 में जीत मिली तो उसमें मनरेगा की अहम भूमिका थी।

सवर्ण होकर भी पिछड़ों के प्रियः

जहां सियासत में अगड़े पिछड़े की राजनीति हो रही है, वहीं रघुवंश बाबू एक ऐसे नेता थे जो सवर्ण समुदाय से आने के बावजूद भी पिछड़े समाज में काफी प्रभावी रहे। रघुवंश प्रसाद सिंह राजद में सबसे पढ़े-लिखे नेताओं में से एक थे। रघुवंश सिंह बिहार के वैशाली लोकसभा सीट से सांसद का चुनाव लड़ते थे। हालांकि पिछले दो चुनावों से वो हार रहे थे।

आप इतनी दूर चले गएः

राजद सुप्रीमो लालू यादव ने मार्मिक ट्वीट किया है। लालू यादव ने ट्वीट कर लिखा है कि प्रिय रघुवंश बाबू ये आपने क्या किया? मैंने परसो ही आपसे कहा था आप कहीं नहीं जा रहे लेकिन आप इतनी दूर चले गए। निशब्द हूं बहुत दुखी हूं , बहुत याद आएंगे।

रघुवंश की चिट्ठी नीतीश के नामः

रघुवंश बाबू ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखकर मांग रखी की, 15 अगस्त को मुख्यमंत्री पटना और राज्यपाल विश्व के प्रथम गणतंत्र वैशाली में राष्ट्रध्वज फहराएं। 26 जनवरी को राज्यपाल पटना और मुख्यमंत्री वैशाली गढ़ के मैदान में राष्ट्रध्वज फहराएं। मुख्यमंत्री को 26 जनवरी, 2021 को वैशाली में राष्ट्रध्वज फहराने की मांग की थी। आगे उन्होंने मनरेगा कानून में सरकारी और एससी-एसटी की जमीन में काम का प्रबंध है, उस खंड में आम किसानों की जमीन में भी काम होगा, जोड़ दिया जाए। इस आशय का अध्यादेश तुरंत लागू कर आने वाले आचार संहिता से बचा जाए। रघुवंश प्रसाद ने भगवान बुद्ध के पवित्र भिक्षापात्र को अफगानिस्तान के काबुल से वैशाली लाने की भी मांग की थी। वहीं उन्होंने वैशाली के सभी तालाबों को जल-जीवन-हरियाली अभियान से जोड़ने का आग्रह किया था। गांधी सेतु पर गेट बनाने और उसपर ‘विश्व का पहला गणतंत्र वैशाली’ लिखने का आग्रह किया था।

Leave a Reply

%d bloggers like this: