विकास का दीपक जलता रहे,मेरे इस देश में |

विकास का दीपक जलता रहे,मेरे इस देश में |
घर घर दीवाली मने,हर क्षेत्र और हर वेश में ||

न की ज्योति जलते रहे,कोई भी अछूता न रहे |
हर बालक को शिक्षा मिले,कोई भी अनपढ़ ने रहे ||

स्वच्छ भारत हम बनाये,कही भी हम गंदगी न करे |
स्वच्छ हवा स्वच्छ जल,सबको मिले ऐसा प्रयत्न करे ||

इस दिवाली पर प्रण करे,कही भी प्रदुषण न फैलाये |
जो रूठ गये है हमसे,उनको दिवाली पर गले लगाये ||

पोलिथीन से मुक्त हो देश,इसका हम सब बायकाट करे |
खाये कसम इस दिवाली पर,कोई इसका उपयोग न करे ||

करे विदेशी सामान का बायकाट,इसकी खरीदारी न करे |
हर हाथ को रोजगार मिले,हम ऐसी देश में व्यस्था करे ||

कोई भी भूखा न सोये,गरीबी का उन्मूलन करे देश में |
विकास का दीपक जलता रहे,इस हमारे भारत देश में ||

आर के रस्तोगी

1 thought on “विकास का दीपक जलता रहे,मेरे इस देश में |

Leave a Reply

%d bloggers like this: