लेखक परिचय

डॉ. राजेश कपूर

डॉ. राजेश कपूर

लेखक पारम्‍परिक चिकित्‍सक हैं और समसामयिक मुद्दों पर टिप्‍पणी करते रहते हैं। अनेक असाध्य रोगों के सरल स्वदेशी समाधान, अनेक जड़ी-बूटियों पर शोध और प्रयोग, प्रान्त व राष्ट्रिय स्तर पर पत्र पठन-प्रकाशन व वार्ताएं (आयुर्वेद और जैविक खेती), आपात काल में नौ मास की जेल यात्रा, 'गवाक्ष भारती' मासिक का सम्पादन-प्रकाशन, आजकल स्वाध्याय व लेखनएवं चिकित्सालय का संचालन. रूचि के विशेष विषय: पारंपरिक चिकित्सा, जैविक खेती, हमारा सही गौरवशाली अतीत, भारत विरोधी छद्म आक्रमण.

Posted On by &filed under विविधा.


वैद्य राजेश कपूर

जिस प्रकार पृथ्वी पर लगभग 68 से 70  प्रतिशत जल है, ठीक उसी प्रकार हमारे शरीर में भी 68 % से 70% तक जल है।

पानी और स्वास्थ्य

पानी की गुणवत्ता पर बहुत अधिक यह निर्भर करता है कि हमारा स्वास्थ्य कैसा होगा। हम जैसा पानी पीयेंगे वैसा हमारा स्वास्थ्य होगा। उसका प्रभाव हमारे शरीर पर और मन पर भी होगा। पर आज स्थिति यह है कि हमको अच्छा पानी  लगातार दुर्लभ होता जा रहा है।

यह जल शुध नहीं प्रदूषित है

शुद्ध जल के नाम पर अनेक वर्षों से हम बोतलबंद, रसायनों से भरा पानी पीरहे हैं; यह कहकर कि यह मिनरल वाटर है। अनेक वर्ष तक यह ठगी चलती रही है। अब जाकर बोतलबंद पानी के ऊपर यह लिखने पर प्रतिबंध लगा है कि यह मिनरल वाटर है। पर फिर भी लोगों को आदत पड़ चुकी है और वे विषैला बोतलबंद पानी आज तक पीये जा रहे हैं।

घरों, संस्थानों व कार्यालयों में जो पानी पीने के लिए मिलता है वह भी पीने योग्य नहीं होता। RO का पानी हमारे स्वास्थ्य को बहुत हानि पहुंचाता है, अब विश्व स्वास्थ्य संगठन भी कहने लगा है। पर फिर भी आरओ का प्रचलन किसी प्रकार कम नहीं हुआ है।

सारे संसर में प्रतिबंधित क्लोरीन वाला पानी हम अभीतक पी रहे हैं। सारी दुनिया जानती है कि इससे भयावह रोग होते हैं। हार्ट फेल, सैल म्यूटेशन, कैंसर, विकृत संन्तानों का जन्म होता है। जिस अमेरीका ने क्लोरीनेशन हम पर थोंपी थी, जनमत के दबाव में अब तो उसने भी जलशोधन में कलोरीन का प्रयोग बन्द कर दिया है। पर हम भारत के लोग बेहोशी में वही विशाक्त जल पीये जारहे हैं।

जल के लिये युद्ध

अनेक विश्व स्तर के संगठनों ने कहा है कि अगला युद्ध अब पानी के लिए लड़ा जाएगा। यानी मीठे पानी,  पीने के पानी का अकाल पड़ने की पूरी तैयारी है।

इसमें कोई संदेह नहीं कि पानी के लिए केवल विश्वयुद्ध नहीं होंगे, हरगांव, हर गली-मोहल्ले में पानी के लिए युद्ध होंगे।

पर हम इसके बारे में अभी तक जागरुक नहीं हुए हैं। परिणाम काफी गंभीर होने वाले हैं। ऊपर से विडम्बना यह है कि समाधान के लिए हमें जो सुझाव दिए जा रहे हैं, वे सुझाव बहुत विश्वसनीय नहीं लगते।

पानी की कमी प्रयोजित तो नहीं?

पानी समाप्त करने में सरकारी सहयोग

ऐसा लगता है की धरती पर पानी की कमी मानवीय भूलों के कारण कम है, इसके पीछे मानवीय षड्यंत्र होने की संभावना अधिक है। अनेक कारण हैं जिनसे लगता है कि पानी की कमी प्रायोजित है, योजनाबद्ध है। जानबूझकर पानी की कमी पैदा की जा रही है। हमारी केन्द्रीय व प्रान्त सरकारें बिना सोचे-समझे विदेशों से प्रायोजित उन कार्यक्रमों को लागू कर देती हैं। यह जल सुखाने वाले वृक्षों का रोपण आखिर क्यों.हो रहा है? कौन है इसके पीछे?

पानी की कमी के जो कारण गिनाए जा रहे हैं, वे आंशिक रूप से ठीक हो सकते हैं, पर पूरी तरह से सही नहीं लगते। केवल वृक्षों का कटान, ग्लोबल वार्मिंग जैसे कारण पूरा सच नहीं हैं।

पानी तो भरपूर था, सूख गया

हम बचपन से देखते आ रहे हैं की हिमाचल के पहाड़ी क्षेत्रों में कई स्थानों पर बहुत पुराने पानी के चश्मे थे। मैदानी क्षेत्रों में जल से भरपूर कूएं, बावड़ियाँ होती थीं। चश्मों, में बहुत स्वादिष्ट पानी रहता था। गर्मियों में भी वह पानी कभी सूखा नहीं। अनेक वर्षों से मैदानी कूएं व नदी, नाले सूखते जारहे हैं। पर पिछले दो-चार साल में अचानक हमारे पहाड़ के अनेक चश्मे सूख गये, सदियों से बहता पानी लुप्त हो गया।

इतनी बड़ी दुर्घटना कभी चर्चा का विषय नहीं बनी, कभी मुद्दा नहीं बनी, मीडिया ने इसके ऊपर कोई स्टोरी नहीं की। हमारा जागरूक मीडिया हमें क्रिकेट और फिल्मी वरांगनाओं के सोने, खाने, नहाने के विवरण परोसता रहा। सरकार ने कोई ध्यान नहीं दिया। समाज सेवी संस्थाएं मौन बैठी हैं।

आखिर यह हो क्या रहा है। हम अपनी बर्बादी की इबारत स्वयं अपने हाथ से लिख रहे हैं और बोल कोई नहीं रहा। कोई जाग नहीं रहा, सभी सोए पड़े हैं।

नगरों में जहाँ पहले हर रोज एक बार पानी आ जाया करता था, अब 5 – 7 दिन तक पानी के दर्शन नहीं होते। गावों में सिंचाई और पीने का पानी गायब होता जा रहा है। लोग खूब परेशान हो रहे हैं पर पानी की कमी के मूल कारणों पर कभी कोई चर्चा नहीं होती।

पहाड़ों में पानी के खजाने

# चूने के पहाड़ों में पानी पर्याप्त मात्रा में होता है। चूने के पत्थर बरसात में  पानी का संग्रह कर लेते हैं और पूरे वर्ष धीरे-धीरे पानी को छोड़ते रहते हैं। जिसके कारण पहाड़ों के चश्मों में पानी निरन्तर आता रहता है।

दूसरे  पानी का स्रोत  बर्फानी नदियाँ होती हैं। शीतकाल में पहाड़ों पर पड़ी बर्फ़ जम जाती है। गर्मियों में यह बर्फ़ धीरे धीरे पिघलती है और वह पानी नदियों में बहता है। इसीलिए पहाड़ी नदियों में गर्मियों के मौसम में  पानी भरपूर उपलब्ध रहता है। जितनी गर्मी पड़ती है उतनी बर्फ़ पिघलती है और भरपूर गर्मी में भी नदियों में पानी की मात्रा कभी कम नहीं होती। पर अब पहाड़ी नाले, नदियाँ, चश्मे, कूएं, बावड़ियाँ क्यों सूख रही हैं? पानी क्यों गायब होता जा रहा है?

पानी की कमी के अस्ली कारण

हमने, हमारी सरकारों ने पिछले 40 साल से भी अधिक समय में  वृक्षारोपण के नाम पर ऐसे वृक्ष लगाए हैं जो पर्यावरण की बर्बादी का बहुत बड़ा कारण हैं। उनके कारण  तेजी से पानी समाप्त हो रहा है। पहाड़ी क्षेत्रों के जंगलों में वन विभाग द्वारा करोड़ों चीड़ के वृक्ष लगाये गये हैं। चीड़ एक ऐसा वृक्ष है जो बड़ी तेजी से  भूमि को सुखा देता है। इसकी विषैली पत्तियों के विषैले प्रभाव से जंगल की लगभग सारी वनस्पतियाँ, पौधे, वृक्ष समाप्त हो जाते हैं। इन वृक्षों के अत्यधिक ज्वलनशील पत्तों के कारण हर वर्ष हजारों अग्नि कांड होते हैं। कारण करोड़ों जीव मरते हैं, जंगल नष्ट होते हैं, और भूमि जल सूख जाता है। सैंकड़ों-हजारों साल में बना वह ह्यूमस नष्ट हो जाता है जिसमें अनगिनत वृक्ष, पौधे पनपते हैं। करोड़ों एकड़ भूमि बंजर बन गयी है। वनों की वर्षा जल को रोकने की क्षमता लगभग समाप्त हो गयी है। परिणामस्वरूप वर्षाकाल में मैदानों में भयंकर बाढ़ होती है। वनो की जल संग्रह क्षमता समाप्त होने के कारण सूखा पड़ता है, जल संकट होता है। हमारे सदा सलिल रहने वाले नदी, नाले, चश्मे सूख़ने लगे हैं।

फिर भी हम  पागलों की तरह  वृक्षारोपण के नाम पर चीड़ के वृक्ष लगाते चले गए  और अपनी बर्बादी के बीज होते चले गए। अब जाकर कहीं चीड़ लगाने का पागलपन रुका है। इसप्रकार हम कहसकते हैं कि यह पानी का अभाव, सूखा और बाढ़ सरकारों द्वारा प्रयोजित है। पर सच तो यह है कि यह हमारी नासमझियों का परिणाम है। बिना समझे विदेशी आयातीत योजनाओं का या शरारतों का शिकार बन जाना हमारी दुर्दशा का कारण है।

सही मुद्दों पर चर्चा हो

पर आज भी इन भयंकर भूलों को एक मुद्दे के रूप में नहीं उठा रहा। हम जब तक इन भूलों को ठीक से समझेंगे, तब तक हम इसी प्रकार की और भूलों को करते चले जाएंगे। इसलिए जरूरी है कि वृक्षारोपण की नीतियों, भूलों पर ठीक से परिचर्चा हो और इसके समाधान व समस्याओं के निराकरण के ऊपर विचार किया जाए।

भयावह भूलों का मूल कारण

मौलिक प्रश्न यह है कि ऐसी भयावह भूलें हमसे होती क्यों हैं? कहीं भारत को दुर्बल बनाने वाले शरारती तत्व जानबूझकर हमको ऐसी गलत योजनाएं, ऐसे गलत कार्यक्रम हम पर थोंप तो नहीं रहे जिनसे हम हर स्तर पर दुर्बल होते चले जाएं,बर्बाद होते जायें, हमारी समस्याएं निरन्तर बढ़ती जाएं? क्या कारण है कि हम हम सही कारणों को समझकर सही समाधान क्यों नहीं कर रहे? कहीं ऐसा तो नहीं कि जिन शरारती तत्वों ने भारत को कमजोर बनाने के लिए गलत प्रकार का वृक्षारोपण करवाया, वे संस्थाएं, वे वैश्विक संगठन नहीं चाहते कि हम पानी की कमी के वास्तविक कारणों को समझें और उसका समाधान करें? वरना कोई कारण नहीं की आसानी से नजर आने वाले इस कारण की उपेक्षा की जाती।

समाधान

अब सीधा सा समाधान तो यही है कि जिस वन विभाग ने चीड़, पापुलर, युकेलिप्टिस जैसे करोड़ों  वृक्ष लगाकर पर्यावरण को बर्बाद किया है पानी की भयंकर कमी पैदा की है, उसी विभाग द्वारा ऐसे वृक्ष लगाए जाए जो पानी को संग्रहित करते हैं, पानी को रोकते हैं। इस प्रकार के वृक्षों में पहाड़ों के लिये बियूंस (विलो), बान, खरशू आदि बहुत कारगर सिद्ध होसकते हैं। इनमें बियूंस बहुत आसानी से लग जाता है। बरसात के मौसम में इसकी टहनियां काटकर गाड़ दी जाएं दी जाएं तो आसानी से जड़ें निकल आती है और वृक्ष बन जाता है। उंचाई पर देवदार, रखाल, बुरास आदि वृक्ष लगसकते हैं। जलसंग्रह इसकी क्षमता बहुत बढ़िया है।

मैदानी क्षेत्रों में पीपल, पिलखन, नीम, आम, जामुन आदि उत्तम हैं। रेतीली भूमि के लिये खेजड़ी, बबूल, कैर आदि हैं।

कुल मिलाकर हमारे स्वदेशी अनगिनत वृक्ष हैं जो जलसंरक्षण व पर्यावरण के लिये अनुकूल हैं।

हमें यदि अपने कल को बचाना है, पानी के लिए नहीं तरसना तो जल संग्रह करने वाले करोड़ों वृक्ष-पौधे लगाने पड़ेंगे।

विषैला वृक्षारोपण

वृक्षारोपण को लेकर भी हमारी पिछली सरकारों की

नीतियां बहुत नासमझी पूर्ण, अदूरदर्शी रही हैं। यदि यह कहा जाए की हमने बहुत मूर्खतापूर्ण,आत्मघाती वृक्षारोपण किया है तो गलत ना होगा।

हम ध्यान दें कि हमने हरियाली, पर्यावरण की रक्षा के नाम पर कौन से वृक्ष व पौधे लगाए हैं? रोबीनिया, लुसीनिया, एलस्टोनिया, सिल्वर ओक, पॉपुलर, नकली अशोक, यूकेलिप्टिस, बाटलब्रश जैसे नकारा वृक्ष और पौधे लगाए हैं। ये सब जल और वायु प्रदूषण करने वाले हैं, प्राणियों के स्वास्थ्य पर गंभीर दुष्प्रभाव करने वाले हैं। पर हम बिना सोचे समझे इन पेड़-पौधों को अभी तक लगाते चले जा रहे हैं।

हमने बंगाल से लेकर हिमाचल तक सर्वेक्षण किया और पाया है कि जितने भी ऐक्ज़ाटिव वर्ग के पौधे हैं, वे सब के सब नकारात्मक ऊर्जा वाले व हानिकारक हैं। हो सकता है कि कोई अच्छे हों पर हमे जितने भी ऐक्ज़ाटिव पौधे/वृक्ष मिले वे सब नकारात्मक प्रमाव वाले थे। उनसे हवा, पानी, भूमि प्रदूषित होती है, प्रणियों के स्वस्थ्य, शरीर, मन पर गम्भीर दुष्प्रभाव होते हैं। सभी विदेशी पौधे विषैले नहीं होते। अनेकों वनस्पतियाँ उपयोगी भी हैं। पर उनकी जाँच तो ठीक से होनी चाहिये।

नकली और हानिकारक पौधे

स्मरणीय है कि तुलसी, पीपल, नीम, धतूरा, हारसिंगार आदि के नकली वृक्ष, पौधे बन चुके हैं और भारत में लगवाए जा चुके हैं। इनका प्रभाव पर्यावरण व स्वास्थ्य पर हानिकारक होता है। हम इन्हे बीटी या जीऐम कह सकते हैं।

इस पर ध्यान देना बहुत जरूरी है। हम जो भी विदेशी पौधे अच्छे समझ कर लगा रहे हैं वास्तव में उनमें से अधिकाँश अच्छे नहीं हैं। हमारे वनस्पति वैज्ञानिकों को विधिवत प्रयोगशाला में इनकी जांच करनी चाहिये और उसके बाद ही कोई पौधा भारत की धरती पर लगाने की अनुमति देनी चाहिये।

नासभझी है कि मुसीबतों के बीज हम बोते हैं

बहुत आश्चर्य की बात है कि हम अपनी मुसीबतों के बीज स्वयं बो रहे हैं। कारण केवल एक ही समझ आता है कि हमें अपनी बुद्धि से सोचने की आदत नहीं रही है। विदेशी शक्तियां जो शरारतपूर्ण योजनाएं हमारे सामने परोसती हैं, हम आंखें बंद करके उसे अपना लेते हैं और उसके भयानक परिणाम होने पर भी जागते नहीं। न सरकार जाती है न समाज सेवी संस्थाएं ध्यान देती हैं। परिणाम बुरे से बुरे होते चले जा रहे हैं। हम एक जाल से निकलते हैं और दूसरे में फ़ंस जाते हैं। शरारती ताकतें एक के बाद एक जाल फैलाकर बैठी हैं। अतः जरूरत है कि हम अपनी समस्याओं को, उनके कारणों को अपनी आंखों से देखें, समझें और उसके समाधान के प्रयास करें।

समस्याओं का समाधान अपनी सोच से

केवल विदेशियों के दावों को जैसे का तैसा स्वीकार करने का कोई कारण नहीं है। हमें भूलना नहीं चाहिये कि हरितक्रांति, श्वेतक्रांति, विदेशी ऐसीना फोएटीडा केंचुआ से बनी विषैली खाद, विश्वभर में प्रतिबंधित पॉलीहाउस और विदेशी विषैली गोवंश, विषाक्त वृक्षारोपण की योजनाएं विदेशियों के द्वारा हमें दी गईं। इनके द्वारा  दुष्परिणाम देश आज तक भुगत रहा है। नासमझ पूर्व सरकारों ने जो मूर्खताएं कीं, अब तो वे रुकनी चाहियें। कम से कम अब तो उसकी ओर हमें ध्यान देना होगा। हम जब अपनी समस्याओं को अपनी नजर से देखेंगे और अपने तरीकों से उनका समाधान करेंगे, तभी हमारी समस्याएं सुलझेंगी। अन्यथा हम समस्याओं के मकड़ जाल में फ़ंसते ही जाएंगे। पर मैकाले की शिक्षा के उत्पाद ये आईएऐस प्रशासक, ये पशचिमी सोच के योजनाकार भारत और भारत की समस्याओं को समझेंगे व उनका समाधान करेंगे, यह संम्भव नहीं हो सकता। सबसे पसले तो समस्याओं को पश्चिमी चश्मे से देखने वाले प्रशासकों की.सोच को सुधारने का काम करना होगा। यह कैसे होगा, आज की बहुत बड़ी, मूल समस्या यही है।

वंदे मातरम।

12 Responses to “पानी समाप्त होने के कारण और भी हैं”

  1. डॉ. मधुसूदन

    डॉ. मधुसूदन

    प्रिय बंधुओं.
    नर्मदा बाँध और भूमि अधिग्रहण पर लिखा निम्न पतेवाला आलेख पढने का अनुरोध.–
    *कुछ लोगों को असुविधा पर अधिकतर लोगों को लाभ* हो तो हल स्वीकारा जाना ही पानी की समस्या का स्थायी हल है.
    कुछ किसानों को असुविधा होगी ही.
    राष्ट्रीय वृत्ति से सोचिए.
    निम्न कडि पर जाकर आलेख सूक्ष्मता सहित, आद्योपांत पढिए. उसके नीचे ही प्रश्न पूछिए. (एक सप्ताह बाहर रहूँगा.)

    https://www.pravakta.com/narmada-dam-statistics-and-land-acquisition/

    Reply
  2. डॉ. मधुसूदन

    डॉ. मधुसूदन

    बंधुओं.
    नर्मदा बाँध और भूमि अधिग्रहण पर लिखा निम्न पतेवाला आलेख पढने का अनुरोध.–
    *कुछ लोगों को असुविधा पर अधिकतर लोगों को लाभ* हो तो हल स्वीकारा जाना ही पानी की समस्या का स्थायी हल है.
    कुछ किसानों को असुविधा होगी ही.
    राष्ट्रीय वृत्ति से सोचिए.
    निम्न कडि पर जाकर आलेख सूक्ष्मता सहित, आद्योपांत पढिए. उसके नीचे ही प्रश्न पूछिए. (एक सप्ताह बाहर रहूँगा.)

    https://www.pravakta.com/narmada-dam-statistics-and-land-acquisition/

    Reply
  3. डॉ. मधुसूदन

    डॉ. मधुसूदन

    देशहित के चिन्तकों —
    (१)समस्याओं का हल लाभ-और घाटे से मिश्रित होता है. कभी किसी भी समस्या का समाधान १०० % लाभकारी नहीं होता. कुछ न कुछ कीमत(घाटा) हमें चुकानी पडती है.
    (२) लाभ की मात्रा घाटे की मात्रासे अधिक हो. तो हल सही समझा जाता है. ऐसा हल विचार कर स्वीकारा जाता है.
    इसके स्पष्ट लाभ होते हैंं.
    (३) और लाभ यदि घाटे (कॉस्ट)के दोगुना हुआ तो बहुत अच्छा माना जाता है.
    (४)लोग भूमि अधिग्रहण का विरोध करते थे. बाँध का विरोध करते थे.**तो अब पानी के अभाव की शिकायत क्यों?**
    (५)सारांश:** कोई भी हल १००% लाभ और शुन्य % घाटे का नहीं होता.
    (६)समस्या पर, **चिन्तकों की दृष्टि राष्ट्रीय होनी चाहिए-और राजनैतिक नहीं होनी चाहिए.
    (७) गुजरात का भी हल १००% समस्या रहित नहीं है. ८० % लाभ का मैं मानता हूँ.
    (८)मैं ने विश्वविद्यालय में Engineering Economics पढाया है.
    (९) प्रवास पर रहूँगा एक सप्ताह. उत्तर देने में विलम्ब होगा.
    आप प्रश्न पूछ सकते हैं.

    Reply
  4. डॉ. मधुसूदन

    डॉ. मधुसूदन

    गुजरात में पानी की समस्या प्रायः समाप्त हो गई है.
    अहमदाबाद में २४ घण्टे नल में पानी होता है, यह प्रत्यक्ष अनुभव किया है.
    ————————————————————————————
    पढा हुआ (परोक्ष या अप्रत्यक्ष समाचार निम्न है.)
    खेतो में उसके पूर्व भी (चेक डॅम) -छोटे तालाब -हर खेत में बनते हैं, वर्षा का पानी समुण्दर मे बहाने के पहले उसे इन तालाबों में जमा किया जाता है. जो फिर भूमि के नीचे के स्तरों को झरता हुआ गिला रखता है.
    यह मेरी जानकारी प्रत्यक्ष नहीं है. पर सुनी-सुनाई-पढी बातो पर आधारित है.
    —————————————————————————-
    मोदी जी से जब वे (मुख्य मंत्री ते तभी) मेरी उनके साथ भेंट हुई थी.
    उस भेंट में उन्हों ने पूरा संच (सेट) (१०+ पुस्तिकाएँ) मुझे दिया था.
    ——————————————-
    गुजरात का उदाहरण पूर्वाग्रहॊं से मुक्त होकर, पहले पूरा अध्ययन करे. क्यों आज भी गुजरात में पानी की समस्या नहीं है?
    कच्छ की भूमि भी प्रति वर्ष ३ से ४ फसले देने में सक्षम हो रही है, यह कुछ अनुमान और कुछ समाचार में है.
    —————————————
    जानकार पहले खुलकर जाने तो सही! कोई जबदस्ती नहींं.
    मेरा अनुरोध अध्ययन के लिए ही है; कोई दबाव नहीं.

    Reply
    • डॉ. राजेश कपूर

      Rajesh Kapoor

      आपकी मार्गदर्शक टिप्पणियों के लिए धन्यवाद

      Reply
  5. अशुतोष शर्मा

    ज्ञानवर्धक एवं जागरूक करने वाला लेख। अब हमें चाहिये कि निजी तौर पर जितना संभव हो लेख में सुझाये गये पौधों का वृक्षारोपण करें, एवम अपने अपने स्तर पर वन विभाग को लिखें। असली बीज / पौध कहाँ से उपलब्ध हो सकते हैं, ये भी बताएं।
    सादर।

    Reply
    • डॉ. राजेश कपूर

      Rajesh Kapoor

      आशुतोष जी धन्यवाद।
      https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=377185979453856&id=100014873708719
      Facebook के इस लिंक पर जाकर आप समझ सकते हैं कि किसी चीज की अच्छी और बुरी ऊर्जा की जांच कैसे की जाती है। इसे समझने के बाद हम पेड़ पौधों की जांच भी इस तकनीक से कर सकते हैं। यह तकनीक प्रयोग करके हम गलत पेड़ पौधों को लगाना बंद कर सकते हैं, केवल अच्छे पेड़ पौधे ही लगाने का अभियान चला सकते हैं। हमारा अभी तक का अनुभव यह है कि जितने भी एक्सोटिक वर्ग के पेड़ पौधे हैं, वे अधिकांश नकारात्मक उर्जा वाले हैं। उनको हथेली के मध्य में स्पर्श करने से शरीर की शक्ति तुरंत कम हो जाती है और हमारा आभामंडल या औरा दुर्बल पड़ जाता है।
      आश्चर्य की बात तो यह है कि एरिका पाम जैसे लोकप्रिय पौधे की ऊर्जा भी नकारात्मक है, हानिकारक है। ऐसा लगता है कि हमने विदेशी वैज्ञानिकों के कथनों पर और शोधपत्रों पर आंखें बंद करके भरोसा कर लिया। हमारे देश के वनस्पति वैज्ञानिकों ने कभी इसकी जांच नहीं की। यह जांच की जानी चाहिए। हम पहले भी हालस्टीन फ्रीजीयन और जर्सी गऊओं के मामले में बड़ा धोखा खा चुके हैं, इसका हमें ध्यान रखना चाहिए।
      इस बरसात में अच्छी प्रकार के पौधे लगाने के लिए हो सकता है कि हमें पर्याप्त मात्रा में पौधे न मिलें। इसके समाधान के लिए हम दो काम कर सकते हैं।
      1. हम जो भी फल खाएं उनकी गुठलियां संभाल कर रखें और बरसात में उनको उचित स्थानों पर लगा दें। 2. हमारे जितने भी देसी पेड़-पौधे कलम से लगते हैं, उनकी हजारों-लाखों कलमें बनाकर जमीन में नमी वाले स्थान पर उनका रोपण कर दें। जैसे सहजन, शहतूत,, गुड़हल इत्यादि सभी टहनी गाड़ने से सरलता से लग जाते हैं। लगाने से पहले उन्हें दोनों सिरों पर तिरछा काटकर तब लगाएं और यथासंभव उनकी देखभाल भी करें।
      एक उपाय यह भी हो सकता है कि आप किसी नर्सरी में हजारों कलमें लगाकर तैयार करलें और अगले वर्ष उन्हें जमीन में लगाएं। इससे कम संख्या में पौधों के मरने की दर कम होगी। धन्यवाद।

      Reply
  6. डॉ. मधुसूदन

    डॉ. मधुसूदन

    जानकारों ने इस आलेख पर कोई टिप्पणी क्यों नहीं दी? इस विषयपर चर्चा होनी चाहिए. आग लगनेपर कूँआ खोदना असंभव होगा.

    Reply
    • इंसान

      मैंने आपकी टिप्पणी दो एक बार पढ़ी तो न जाने क्यों विवशता का अहसास होने लगा और मैं निस्तब्ध सोचता हूँ कि आप किन जानकारों की बात करते हैं और वे क्योंकर प्रवक्ता.कॉम पर अपनी टिप्पणी देंगे? अधिकतर अंग्रेजी माध्यम में पढ़े हमारे देश के जानकार स्वयं बिस्कुट खाते हमें रोटियों के बारे में क्या बता सकते हैं? विडंबना तो यह है कि अपने ज्ञान द्वारा केवल आजीविका में लगे तथाकथित जानकार एवं उनके पाठक अथवा अनुगामी कभी राष्ट्र-हित जानकार होते ही नहीं हैं| वे तो केवल उन्हें मिले निदेश का पालन करते अपना जीवन बिता देते हैं| डॉ. राजेश कपूर और स्वयं आप अपने में एक लोक सेवी संस्था के समान हैं जो प्रायः अपने विचारों को व्यक्त करते पाठकों के हृदय में राष्ट्रवाद जगाते रहते हैं| मेरा साधुवाद|

      Reply
      • डॉ. राजेश कपूर

        Rajesh Kapoor

        टिप्पणी के लिए धन्यवाद। वर्तमान परिस्थितियों के बारे में आपका मूल्यांकन बिल्कुल सही है।
        मित्रवर कितनी भी कठिन परिस्थितियों में उसके समाधान के लिए प्रयास करना मानव का स्वभाव।विकट परिस्थितियों किस युग में नहीं थी? सदा रही है। केवल समस्याओं के स्वरूप बदलते हैं, समस्याएं समाप्त नहीं होती। मानव समाज के इतिहास के साथ समस्याएं और उनके समाधान के प्रयास चलते ही रहते हैं। प्रयासों के सुखद परिणाम भी मिलते ही हैं।
        अतः निराशा अथवा हताशा का कोई कारण नहीं।
        हम सबको अपना कर्तव्य पालन करना ही है। विचारशील लोग समाज में उत्साह जागृत करने वाले विचार संप्रेषित करते रहें तो उसके सदा सुखद परिणाम होते हैं। समाज उत्साह के साथ समस्याओं के समाधान के लिए प्रेरित होता है।

        Reply
    • डॉ. राजेश कपूर

      Rajesh Kapoor

      आदरणीय प्रो.मधुसूदन झावेरी जी,
      एक अत्यावश्यक विषय पर पाठकों का ध्यान आकर्षण करने के लिए आपका आभार, धन्यवाद।

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *