लेखक परिचय

सुप्रिया सिंह

सुप्रिया सिंह

स्वतंत लेखिका

Posted On by &filed under राजनीति.


हालात की चाल : – हमारे देश मे हर दूसरे दिन कोई न कोई त्यौहार देश के किसी न किसी कोने मे मनाया ही जाता है लेकिन एक त्यौहार ऐसा भी है जो हर पाँच साल बाद मनाया जाता है और उसकी तैयारी कुछ साल पहले से ही धीमी रफ्तार मे शुरु कर दि जाती है । ये त्यौहार एक राजनैतिक त्यौहार है और इस त्यौहार का सबसे अद्भुत पल जब होता है जब हर दूसरा व्यक्ति अपने आप को एक बड़ा राजनैतिक विश्लेषक समझकर चुनावी परिणामों का अनुमान लगाने लगता है और अपने आप को एक जागरुक नागरिक साबित करने की पुरजोर कोशिश करने लगता है लेकिन जब कुछ ही पलों मे उसके इस राजनैतिक विश्लेषण का आधार पता चलता है तो लगता है कि शायद जागरुकता की परिभाषा बदल गई है ।

 

चुनावी बिगुल बजने के साथ टिकटों के बंटवारे की कुश्ती मे जिस तरह जाति , धर्म , सम्प्रदाय की कुश्ती देखने को मिलती है उससे देश की राजनीति की दशा सोचनीय लगने लगती है । समाज के अधिकांश लोग चुनावों मे होने वाले टिकट बंटवारे के दौरान जातिगत आधार की आलोचना तो करते है लेकिन अगले ही पल बड़ी उत्सुकता से ये जाने का भी प्रयास करने लगते है कि उनकी जाति के किस व्यक्ति को कहाँ से टिकट मिला है ?

 

राजनीति की और राजनेताओं की आलोचना करने के लिए समाज का एक बड़ा वर्ग पहली पंक्ति मे खड़े होने के लिए तैयार हो जाता है और पहली पंक्ति मे खड़े होने की आपाधापी मे वे यह भूल जाता है कि देश की राजनीति की दिशा और दशा के निर्धारण मे उसकी भूमिका महत्वपूर्ण है इसीलिए राजनीति को गंदा करने मे उसकी भी अप्रत्यक्ष भूमिका है । राजनीति की आलोचना करने वालो मे से एक वर्ग ऐसा भी है जो आलोचना के समय उतावले पन मे तो पहले नम्बर पर होते है लेकिन देश के प्रति कर्त्तव्यों की पूर्ति के मामले मे पिछले नम्बर पर होता है ।

 

राजनेताओं पर और उनकी पार्टियों पर आरोप लगाया जाता है कि वे जातिगत आधार पर टिकट देते है लेकिन हम जब यह आरेप लगाते है तब यह क्यो भूल जाते है कि हम बँटते है तभी वे हमे बाँटते है । सोचने वाली बात है कि वैज्ञानिक युग मे पहुँचने के बाद हम आज भी विकास की तुलना मे जाति के आधार पर अपने वोटों का चयन करते है । अगर हम वाकई मे देश और उसकी राजनीति मे सुधार के पक्षधर है तो हमे अपनी सोच को जाति , धर्म के खांचों से बाहर निकालना होगा और समाज को प्रगति के पथ पर ले जाने वाले उम्मीदवार को वोट देना होगा फिर चाहे वे किसी भी जाति , धर्म या सम्प्रदाय का क्यों न हो ।

 

तर्क की बौछार मे जब ये तर्क दिया जाता है कि एक जाति का नेता ही अपने जाति का सबसे अच्छे से विकास कर सकता है तब यह बात समझ से परे लगती है कि फिर आज तक हमारे समाज के प्रत्येक वर्ग का विकास क्यों नही हो पाया ?  चुनावों मे हर बार जातिगत आधार पर टिकटों का बँटवारा किया जाता है और आंखो पर हर बार जाति की सहानभूति की पट्टी बांध दी जाती है और हम हर बार वास्तविकता की अनदेखी कर काल्पनिकता मे विश्वास करने लगते है ।

समाज को अब समय के साथ बदलाव को स्वीकार करना चाहिए और अगर नीचले तबके को छोड़ भी दे तो कम से कम पढ़े – लिखे तबके को इस बदलाव का अग्रधर बनना चाहिए । हमे विकास के पक्षधर और योग्य उम्मीदवार के चयन पर जोर देना चाहिए न कि जाति और धर्म के आधार पर उम्मीदवारो का चयन कर क्षेत्र की बांगडोर उनके हाथ मे दे दे । यह माना जा सकता है कि बदलाव एकाएक नही होगा लेकिन नई शुरुआत करने से ही उसके नतीजे आने शुरु होते है । अगर मतदाता निश्चय कर ले की उसे जाति , धर्म से ऊपर उठकर विकास के नाम पर और योग्य उम्मीदवारों को ही मत देना तो मजबूरन ही सही लेकिन पार्टियाँ अगली बार से टिकटों का बंटवारे मे कुछ सुधार तो जरुर करेंगी । जरुरत है तो बस बदलाव की मजबूत नींव रखने की जिसके आधार पर मजबूत लोकतन्त्र का विकास हो सकें ।

2 Responses to “देश की राजनीति के लिए आप भी तो जिम्मेदार है !”

  1. डॉ. मधुसूदन

    डॉ. मधुसूदन

    कारण, मतदाता अलग अलग सोच रखते हैं। कोई जाति के आधारपर मत देता है। कोई मज़हब के आधार पर देता है। और कई सारे तो नारों के आधारपर मतदान करते हैं। इसी लिए पार्टियाँ भी ऐसे सारे पहलुओं को ध्यान में रख अपना प्रत्याशी चुनती हैं। हमारे सभी मतदाता सभी के सभी देशहित को सामने रखकर मत देते नहीं है। —पर ऐसा पढा लिखा समजदार मतदाता मुझे अमरिका में भी नहीं दिखा।
    और फिर समग्र भारत भी किसी एक नियम के अनुसार मतदान भी नहीं करता।प्रत्येक प्रदेश की जनता अलग अलग अनुपात में, अलग प्रकार से मतदान करती है।
    बडे बडे वचन-वादों से भी लोग फाँसे जाते हैं।कुछ जातिसे, कुछ मज़हब द्वेष से प्रभावित हो मत देते हैं। तो मुझे दिल्ली जैसे जागरुक(?) मतदाता अचरज में डालते हैं।
    बिहार जैसे (अनपढ) नारोंपर मत देनेवाले भी है। शायद कुछ लॆपटॉप से, कुछ शराब की बॉतल(?) से।
    —मेरा विश्लेषण भी गलत हो सकता है। अन्य अलग प्रतिक्रियाएँ पढना चाहता हूँ। यह पत्थर की लकीर नहीं।

    Reply
  2. इंसान

    “देश की राजनीति के लिए आप भी तो जिम्मेदार है !” में है और कदाचित हैं के अंतर ने शालिनी तिवारी जी के राजनीतिक निबंध की ओर खिंची मेरी जिज्ञासा को उग्र और तुरंत शांत करते हुए भी मुझे अरविन्द केजरीवाल के समक्ष ला खड़ा कर दिया है| आज देश की राजनीति के लिए आप अर्थात हम जिम्मेदार नहीं हैं| हां, यदि हमारी कुछ जिम्मेदारी है भी तो मैं उस जिम्मेदारी को अरविन्द केजरीवाल पर मढ़ आप को, मेरा मतलब, हम सब को दोषमुक्त करता हूँ! जब से होश संभाला है अपनी आयु के सत्तर वर्षों से लोगों को सदैव राष्ट्रद्रोही राजनीतिज्ञों के साथ देख रहा हूँ| नई पीढ़ी से उजागर हुए अरविन्द केजरीवाल ने मेरा विश्वास जीत लिया और इस बूढ़े ने तुरंत उसका हाथ पकड़ते उस पर कविताएँ लिख मारीं! १८८५ में जन्मी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस व उनके सहयोगी राष्ट्रविरोधी राजनैतिक दलों के विरुद्ध आआपा को एक मात्र विकल्प समझ मैं नव भारत के सपने देखने लग गया| इसी बीच नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में पुनर्गठित राष्ट्रीय राजनैतिक दल बीजेपी में फिर से मेरा विश्वास जगा और मैं राष्ट्रवादी बीजेपी और आआपा को द्विदलीय सहयोग में बंधे भारत के भाग्य में एक अलौकिक घटना देख बहुत संतुष्ट था| लेकिन हाय रे भारत, दिल्ली में कुशल राजनीति की जिम्मेदारी ले अरविन्द केजरीवाल राष्ट्रद्रोहियों के पक्ष में जा बैठ आज आए दिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विरुद्ध अनादरपूर्ण वक्तव्य दे रहा है| देश की राजनीति के लिए जिम्मेदारी बस यहाँ आ कर धराशायी हो जाती है!

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *