विपिन किशोर सिन्हा

हम सेक्युलर हैं, क्योंकि —

१. हम भारत के संविधान में निहित प्रावधानों का उल्लंघन करके अल्पसंख्यकों को आरक्षण देते हैं।

२. हम बांग्लादेश के घुसपैठी मुसलमानों का हिन्दुस्तान में सिर्फ़ स्वागत ही नहीं करते, बल्कि राशन कार्ड और मतदाता पहचान पत्र बनवाकर भारत की नागरिकता भी देते हैं।

३. हम हिन्दू-तीर्थस्थलों की यात्रा के लिए एक पैसा भी नहीं देते, उल्टे टिकट और अन्य सुविधाओं के लिए सर्विस टैक्स भी वसूलते हैं।

४. हम सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले को दरकिनार करके हज़ यात्रियों को हिन्दुओं पर जाजिया टैक्स लगाकर भारी सब्सिडी देते हैं।

५. हम हिन्दुओं के लिए एक पत्नी रखने का कानून बनाते हैं और मुसलमानों के चार पत्नियां रखने के अधिकार को जायज ठहराते हैं।

६. हम हिन्दू लड़कियों के घटते वस्त्र को नारी स्वातंत्र्य का जीवन्त उदाहरण मानते हैं और मुसलमानों की बुर्का प्रथा का समर्थन करते हैं।

७. हम भारत माता और हिन्दू देवी-देवताओं की नंगी तस्वीर बनाने वाले को सर्वश्रेष्ठ पेन्टर का खिताब देते हैं।

८. हम भारत माता को सार्वजनिक रूप से डायन कहने वाले को कैबिनेट मंत्री के पद से सम्मानित करते हैं।

९. हम राष्ट्रगीत “वन्दे मातरम” को अपमानित करने वालों को राज्य और केन्द्र सरकार में ऊंचे ओहदे देते हैं।

१०. हम १५ अगस्त के दिन पाकिस्तानी झंडा फ़हराने वालों और तिरंगा जलानेवालों को दिल्ली में बुलाकर बिरयानी खिलाकर वार्त्ता करते हैं।

११. हम कश्मीर घाटी से हिन्दुओं को जबरन खदेड़े जाने पर चुप्पी साध लेते हैं और असम के कोकराझार के बांग्लादेशियों के विस्थापन को राष्ट्रीय शर्म (शेम) मानते हैं।

१२.हम अमेरिका में बनी फ़िल्म “इनोसेन्स आफ़ मुस्लिम्स” के खिलाफ़ हिन्दुस्तान में हर तरह के प्रदर्शन, हिंसा, दंगा, तोड़फ़ोड़ और आगजनी को जायज मानते हैं।

१३.हम गोधरा में साबरमती एक्सप्रेस की बोगियों में आग लगाकर हिन्दुओं को ज़िन्दा जला देने की घटना पर चुप्पी साध लेते हैं और प्रतिक्रिया में उपजी हिंसा को दुनिया की सबसे बड़ी सांप्रदायिक घटना मानते हैं।

१४.हम देश के बंटवारे के लिए जिम्मेदार मुस्लिम लीग से केरल और केन्द्र में सत्ता की साझेदारी करते हैं और राष्ट्रवादी संगठन आरएसएस पर बार-बार प्रतिबंध लगाते हैं।

१५ हम बाबरी ढांचा गिराने के अपराध में यूपी, एमपी, राजस्थान और सुदूर हिमाचल प्रदेश की सरकारें पलक झपकते बर्खास्त करते हैं तथा कश्मीर में मन्दिरों को तोड़नेवालों के साथ सत्ता की साझेदारी करते हैं।

१६.हम मदरसों में आतंकवाद की शिक्षा देनेवालों को सरकारी अनुदान देते हैं एवं सरस्वती शिशु मन्दिरों पर नकेल लगाते हैं।

१७. हम भारतीय नरेन्द्र मोदी को राष्ट्रीय खलनायक मानते हैं और इटालियन को राजमाता – Long live our queen.

१८. हम भारत के प्रथम राष्ट्रपति डा. राजेन्द्र प्रसाद, सरदार पटेल और कन्हैया लाल माणिक लाल मुन्शी के प्रयासों से सोमनाथ मन्दिर के पुनर्निर्माण को सेक्युलर मानते हैं और राम मन्दिर निर्माण को घोर सांप्रदायिक।

१९.हम रामसेतु तोड़कर जलमार्ग बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं और बाबरी निर्माण के लिए भी कृतसंकल्प हैं।

२०. हम १९८४ के सिक्खों के कत्लेआम को इन्दिरा गांधी की मृत्यु से उत्पन्न सामान्य प्रतिक्रिया मानते हैं और गुजरात की हिंसा को महानतम सांप्रदायिक घटना।

२१.हम मज़हब के आधार पर देश के विभाजन को मिनारे पाकिस्तान पर जाकर मान्यता देते हैं और अन्यों को भी भविष्य में इसी घटना की पुनरावृत्ति के लिए प्रोत्साहन देते हैं।

२२. हम देश की प्राकृतिक संपदा पर मूल निवासी होने के कारण मुसलमानों का पहला हक मानते हैं और हिन्दुओं (आर्यों) को बाहर से आया हुआ बताते हैं।

२३. हम मस्जिदों में जमा अकूत आग्नेयास्त्रों की खुफ़िया जानकारी प्राप्त होने के बाद भी छापा नहीं मारते हैं और हिन्दू मन्दिरों की संपत्ति छापा डालकर रातोरात ज़ब्त कर लेते हैं।

२४. हम मन्दिरों की संपत्ति और रखरखाव के लिए सरकारी ट्रस्ट बना देते हैं और अज़मेर शरीफ़, ज़ामा मस्ज़िद की संपत्ति से नज़रें फेर लेते हैं।

२५. हम हिन्दुओं के शादी-ब्याह, जन्म-मृत्यु, उत्तराधिकार, जीवन शैली, पूजा-पाठ के लिए सैकड़ों कानून बना देते हैं लेकिन मुस्लिम पर्सनल ला की चर्चा करना भी अपराध मानते हैं।

२६. हम मुसलमानों को रास्ता रोककर नमाज़ पढ़ने की इज़ाज़त देते हैं और मन्दिर प्रांगण में एकत्रित श्राद्धालुओं पर लाठी चार्ज करते हैं।

२७. हम “वीर शिवाजी” पर आधारित टी.वी. सिरीयल पर प्रतिबंध लगाते हैं और “मुगले आज़म” को राष्ट्रीय पुरस्कार देते हैं।

२८. हम मुसलमानों को अपना व्यवसाय खोलने के लिए आसान किश्तों पर ५ लाख रुपए का ऋण कभी न चुकाने के आश्वासन के साथ देते हैं और हिन्दू किसानों को ऋण न चुकाने के कारण आत्महत्या के लिए प्रेरित करते हैं।

२९. हम रमज़ान के महीने में राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और अन्य गण्यमान व्यक्तियों द्वारा सरकारी पैसों से रोज़ा अफ़्तार का आयोजन करते हैं तथा होली-दिवाली पर एक पैसा भी खर्च नहीं करते।

३०. हम हज़रत मोहम्मद पर डेनमार्क में बने कार्टून पर बलवा करनेवालों पर लाठी के बदले फूल बरसाते हैं और राम-कृष्ण को गाली देनेवालों को पद्म पुरस्कार देते हैं।

३१. हम म्यामार और कोकराझार की घटना पर पूरी मुंबई के यातायात और संपत्ति को उग्र मुस्लिम प्रदर्शनकारियों के हवाले कर देते हैं और हिन्दुओं की बारात पर भी लाठी चार्ज करते हैं।

३२. हम पाकिस्तान से आए हिन्दुओं को ज़बरन भेड़ियों के हवाले कर देते हैं और बांग्लादेशियों के लिए स्वागत द्वार बनाते हैं।

३३. हम जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में “गोमांस पार्टी” का आयोजन करते हैं और बाबा रामदेव के शहद को प्रतिबंधित करते हैं।

३४. हम अलीगढ़ मुस्लिम युनिवर्सिटी की शाखाएं देश के कोने-कोने में खोलने के लिए सरकारी पैकेज देते हैं और काशी हिन्दू विश्वविद्यालय का अनुदान रोक देते हैं।

३५. हम आतंकवादियों के घर (आज़मगढ़) जाकर आंसू बहाते हैं और शहीद जवानों की विधवाओं और बच्चों को भगवान भरोसे छोड़ देते हैं।

३६.हम आतंकवादियों से मुठभेड़ को फ़र्ज़ी एनकाउंटर कहते हैं और हिन्दू साधु-सन्तों को आतंकवादी।

३७. हम सलमान रश्दी को भारत आने की अनुमति नहीं देते, तसलीमा नसरीन को भारत में रहने की इज़ाज़त नहीं देते लेकिन वीना मलिक को अनिश्चित काल के लिए सरकारी मेहमान बनाते हैं।

5 thoughts on “हम सेक्युलर हैं, क्योंकि —

  1. लेखक महोदय, अब आपने भी नफरत फैलाना शुरू कर दिया.
    संविधान ने तो भारत को सेकुलर ही बनाया था लेकिन आप संघियों ने इसे सेकुलर नहीं रहने दिया. देश में आप लोग ज़हर घोल रहे हो.
    १.आप भारत के संविधान में निहित प्रावधानों का उल्लंघन करके भारत को हिंदू राष्ट्र कहते हैं।
    २.बंगलादेश से आने वाले मुसलमानों को घुसपैठी कहा जाता है और पाकिस्तान से आने वाले हिंदुओं को नागरिकता दी जाती है.
    ३.कुम्भ मेला और दुसरे मेलों पर सरकार हजारों करोड खर्च करती है. हज सब्सिडी से सरकार और एयरलाइंस कंपनियों को फ़ायदा होता है, सब्सिडी चिल्लाने से पहले इसके तकनीकी पहलुओं को देखें.
    ४.मुसलमानों के ४ पत्नियाँ जायज़ ज़रूर है, लेकिन इस देश में एक से अधिक विवाह हिंदुओं ने ही ज्यादा किये हैं.
    ५.आपको कौन मना कर रहा है बुर्का पहेनने से अगर आपको लगता है, बुर्का पहेनना सरकारी सुविधा है तो ये आपको भी मिलनी चाहिए.
    ६.सुप्रीम कोर्ट में सरकार द्वारा बाबरी मस्जिद की हिफाज़त का हलफनामा देने के बावजूद मस्जिद शहीद हो गयी. सरकार और सुप्रीम कोर्ट तमाशा देखते रह गए.
    ७.भारत के किस मदरसे में आतंकवाद की शिक्षा दी जाती है अगर आपको मालूम है तो बताइए नहीं दोबारा ऐसी घटिया बात मत लिखियेगा. क्या आजतक आप लोगो के द्वारा इतनी अफवाह फ़ैलाने के बावजूद किसी मदरसे का नाम आतंकवाद में आया है? आप लोगो ने बहुत अफवाह फैलाई लेकिन सच्चई सामने आचुकी है, कि इस देश आतंवाद संघ वाले फैला रहे हैं. समझौता एक्स., मक्का मस्जिद हैदराबाद, अजमेर शरीफ और माले गांव के धमाकों में संघ का हाथ साबित हो चुका है.
    ८.नरेंद्र मोदी आपके नायक ज़रूर होंगे लेकिन हजारों लोगों के हत्यारे को दुनिया खलनायक ही कहेगी.
    ९.मस्जिद शहीद करके मंदिर बनाना साम्प्रदायिकता नहीं तो और क्या कहलायेगा? भारत से धर्मनिरपेक्षता तो उसी दिन खत्म हो गयी जब बाबरी मस्जिद शहीद हुई थी.
    १०.वो राम सेतु नहीं बल्कि आदम पुल है, राम के नाम को अब और विवादित मत कीजये. जब करुना निधि ने पुछा था राम के बारे तो आपने जवाब दिया था?
    ११.सिखों के कत्ले आम से साबित होता है की भारत में कोई भी अल्पसंख्यक महफूज़ नहीं है. मुसलमानों के साथ ज्यादा भेदभाव होता है, जबकि सिख, बौद्ध और जैन हिंदू धर्म से ही बने हैं.
    १२.भारत में मुसलमानों को कभी उनका हक नहीं मिलता हमेशा वो सताए जाते जाते हैं. इतिहास कहता है कि आर्य बाहर से आयें हैं आप इसे क्यों झुठला रहे हैं?
    १३.आखिर भारत की किस मस्जिद में आग्नेयास्त्र हैं? जब आपको जानकारी है तो मीडिया को बताते क्यों नहीं? मीडिया को न सही भाजपा वालों को तो बताइए. शर्म आनी चाहिए आपको ऐसा कहते हुए, कभी मदरसों और दरगाहों में जा कर देखए आप को सच्चई पता चलेगी. आपने लेखन में सचचाई लाइए. ऐसी बेहूदा आरोपों का जवाब देना अच्चा नहीं लगता, आरोप में भी दम होना चाहिए.
    १४.मन्दिरों की संपत्ति और रखरखाव के लिए सरकार ट्रस्ट बना देती है और मस्जिदों पर पुरातत्व विभाग सीधा सीध कब्ज़ा ही कर लेता है. दिल्ली में सैकड़ों मस्जिदों में नमाज़ पढ़ने पर भी रोक लगी है.
    १५.मुसलमान रास्ते में नमाज़ पढते है क्योंकि उनकी कुछ मस्जिदों पर सरकार का कब्ज़ा है और कुछ शहीद हो गयी. मुसलमान आप लोगों की तरह हर जगह सरकारी ज़मीन पर कब्ज़ा करके मस्जिद नहीं बना सकते. आप लोग तो हर सड़क, स्टेसन, बस स्टैंड और मार्केट में पहले पत्थर रखते हो, फिर फोटो फिर मूरत फिर छोटा मंदिर और फिर …………
    १६.किसानों को भी आपने हिंदू मुसलमान में बाँट दिया खैर ये संघ वालों की आदत है. हिंदू किसान आत्म हत्या कर रहे हैं तो क्या मुसलमान ऐश कर रहे हैं? हिंदू किसानों का आपने ज़िक्र किया लेकिन देश को लूटने वाले हिंदू भ्रस्ताचारियों को आप भूल गए.
    १७. सरकारी पैसे से रोज़ा इफ्तार में सभी को बुलाया जाता है. लेकिन हर सरकारी निर्माण से पहले भूमि पूजन क्यों किया जाता है. क्यों सरकारी पैसे से विश्वकर्मा पूजा और जन्म अष्टमी मनाया जाता है, और सरकारी विभागों में ये पूजा होती क्यों है, यही सेकुलर भारत है?

    1. आपके सारे प्रश्न ऐसे ही है जैसे किसी मछली से पूछा जाये की तू पानी में क्यों रहती है वास्तव में हिन्दू अपने आप में सेकुलर ही होते है परन्तु आज जो सेकुलर की परिभाषा है उसके अनुसार सिर्फ मुस्लिम हित ही सेकुरिज्म है
      इस देश के सारे निवासी हिन्दू ही है ऐसा संघ मानता है जिसमे सारे धर्म और सम्प्रदाय आ जाते है परन्तु कुछ लोगो ने अधर्म का रास्ता पकड़ लिया है तो इसमें संघ का क्या दोष इसलिए ये राष्ट्र हिन्दू राष्ट्र ही है
      आपके सारे प्रशन कंग्रेशियो से जुड़ते है और कांग्रेस इसाइयों के द्वारा संचालित है इसलिए कांग्रेसी क्या करते है इसमें हिन्दुओ का कोई दोष नहीं
      जहा तक सवाल है मंदिर मस्जिद मदरसा आतंकवाद विस्फोट विस्व्क्रमा पूजा नमाज और किसी बारे में जो भी प्रश्न है उसके लिए में आपको इस लिंक पर आमंत्रित करूँगा जहा पर आपके अस्तिव तक को हिला देने वाले प्रशन व् उत्तर है तो आइये इस पेज पर और थोडा दो दो हाथ हो जाये

      https://www.facebook.com/saffronhindurashtra?ref=स्ट्रें

      http://hindurashtra.wordpress.com/

      देखते है आप अपनी असलियत स्वीकार कर पाते है या नहीं

  2. संक्षेप में हिन्दू का विरोध,मुस्लमान का घोर समर्थन, ही सेकुलर होना है,यह हमारे वोते बैंक को पक्का करता है,यह बात अलग है कि जरा सा भी मुसलमानों के खिलाफ होते ही, या होने कि सम्भावना पर यह सर्कार के सिरमें ऐसी गली करते हैं कि संदेह होता है कि यह कैसा लोकतंत्र है,कैसा सेकुलरिज्म है,बहुसंख्यक को दबा कर अलाप्संख्यक वर्ग को बढ़ावा देना भारतीय लोकतंत्र में ही संभव है.अन्य किसी भी सेकुलर देश में यह आपको नहीं मिलेगा.

  3. जब तक देश हित की सोचने वाले घर में बेठे रहेंगे सेक्युलर के शैतान अपना नंगा नाच करते रहेंगे !

    देश को चाहने वालो !!!!!! बातो से कुछ नहीं होगा क्योंकि इन सेक्युलारो का दिमाग अंग्रेजी और मुघ्ली गुलामी से बहार नहीं आया ?

    अब इनको आज़ाद करना होगा ??????? या हमें भगतसिंह और चंद्रशेखर आज़ाद बनना होगा ??

    आज माँ भारती की नजरे धुंध रही है कहाँ गए उसके लाल !!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

    बहोत ही सटीक विवेचना के लिए धन्यवाद —-नमश्कार

  4. मगर ये सेकुलर शैतान तो मुस्लिम तुष्टिकरण को ही धरमनिर्पेक्षता मानते हैं. गाँधी जी भी जिन्ना को खुश करने को १४ बार मिले, कायदे आज़म के खुशामदी अलंकारं से भी नवाज़ा …मगर …..सटीक विवेचना के लिए साधुवाद…. उतिष्ठकौन्तेय

Leave a Reply

%d bloggers like this: