लेखक परिचय

श्रीराम तिवारी

श्रीराम तिवारी

लेखक जनवादी साहित्यकार, ट्रेड यूनियन संगठक एवं वामपंथी कार्यकर्ता हैं। पता: १४- डी /एस-४, स्कीम -७८, {अरण्य} विजयनगर, इंदौर, एम. पी.

Posted On by &filed under राजनीति.


 केन्द्रीय  मंत्री गिरिराज सिंह और उनके जैसे अन्य अपरिपक्व  भाजपा नेताओं  के  रंगभेदवादी और नस्लवादी वयानों से उन  समस्त भारतीय महिलाओं का घोर अपमान  हुआ है जो गोरे  रंग की नहीं हैं। इन  घटिया वयानों  से दुनिया भर  में भारत  की भद्द पिट रही है। सरकर  का  भी  भद्दा मजाक उड़ाया जा रहा है।ये ढीठ बतौलेबाज- मुँहफट नेता और उनकी पार्टी सत्ता के लायक तो कदापि नहीं है। ये सिर्फ विपक्ष की भाषा ही जानते हैं। शासन  में  बने रहने का शऊर इनमें किंचित नहीं है। यह  जनता की भी भयंकर भूल है कि ‘बादल देखकर सुराही फोड़  देती है ‘। नागनाथ की जगह सांपनाथ को सत्ता में बिठा  देती है। मीडिया की मेहरवानी से उसे सर्वहारापरस्त ईमानदार हरावल दस्तों के रूप में  सही विकल्प नजर  ही नहीं आता। मोदी सरकार की जय-जैकार करने वाले  बताएं की क्या अब  रेलें समय पर चल रहीं हैं ? क्या गाड़ियाँ  पटरी से नहीं उत्तर रहीं ? क्या कालाधन वापिस आया है?  क्या  किसान  को मदद मिल रही है?  क्या मजदूर को मजदूरी मिल रही है ? क्या भृष्टाचार पर अंकुश लगा है? क्या रिश्वतखोरी  पर कोई काबू है ? क्या  महँगाई पर किसी का कोई नियंत्रण है ? क्या  सीमाओं पर शांति है? क्या  कश्मीर सहित सम्पूर्ण भारत  में अमन है ? क्या  हत्या -बलात्कार और नारी उत्पीड़न में कोई   कमी आयी है ? क्या  बिजली-पानी -स्वाश्थ  या शिक्षा में कोई ठोस सकारात्मक बदलाव हुआ है ? क्या यह सच नहीं है  कि  मौजूदा चुनौतियों और समस्याओं से जनता का ध्यान भटकाने के लिए- कभी धर्मांतरण ,कभी घर वापिसी  , कभी गाय-गीता -गंगा का काल्पनिक विमर्श, कभी जाति  – धर्म का विमर्श ,कभी देशी-विदेशी का विमर्श ,कभी काले-गोरे का विमर्श और कभी किसी की वैयक्तिक जिंदगी-शादी -व्याह के विमर्श  को रहस्य  रोमांच  के साथ  बचकानी  दंतकथा के रूप में पेश करने का शौक सत्तारूढ़ नेताओं को चर्राया है ? क्या  तथाकथित हिंदूवादी सरकार के  मंत्रियों से  यह  अपेक्षा नहीं  थी कि  कम से कम अपने संतों की पावन  वाणी का  अनुशीलन वे खुद करते? क्या वे नहीं जानते  कि :-

                     बोली एक अमोल है ,जो कोई बोले जान !
ह्रदय तराजू तौलकर ,फिर मुख बाहर आन ! !
—   श्रीराम तिवारी

One Response to “क्या वे नहीं जानते कि:- बोली एक अमोल है ,जो कोई बोले जान?”

  1. mahendra gupta

    गिरिराज सिंह जैसे लोग ही भारतीय जनता पार्टी के बड़े बोझ है , लेकिन इस बोझ से मुक्त होने की जिम्मेदारी भी पार्टी की ही है ,जो अनुशासन के डंडे से दूर की जा सकती है संघ के दबाव में शायद वह ऐसा नहीं कर रही लेकिन यह भी विचारणीय है कि क्या संघ इस प्रकार के ध्रष्टतापूर्ण बयान दिलवा कर अपनी हिन्दू संस्कृति की छवि रख पायेगा/ आखिर हिन्दू व भारतीय संस्कृति इस प्रकार के बयानों की पक्षपाती नहीं है गिरिराज, साध्वी प्राची, महंत अवेधनाथ आदि मोदी के सारे प्लान को धराशायी कर रहे हैं ,वैसे ही मोदी सरकार ने अनावश्यक मोर्चे खोल कर , मृतप्राय कांग्रेस में जान डाल दी है , और यही सिलसिला चला तो मोदी को दस साल राज करने का सपना देखना छोड़ देना चाहिए व भा ज पा को भी यह यकीन कर लेना चाहिए कि इस सरकार के बाद उसे कम से कम दस से 15 साल तो वापिस सत्ता प्राप्त होने वाली नहीं है , अभी तक मोदी सरकार ने एक साल में कोई ऐसा नायाब कार्य नहीं किया है जिसमें जनता उसे पूर्ण अंक दे सके , और इसीलिए अब मोदी जादू फीका पड़ने लगा है

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *