women 1प्रभु की अनुपम कृति ,
अनुपम रचना,वह है नारी,
सो जब रचा था प्रभु ने इस कृति को,
सोचा सब अर्पण कर दूँ ,
इसकी खाली आँचल को खुशियों से भर दूँ ।

सो दिया उन्होंने
रूप रंग,सोंदेर्ये ,
वह सामर्थ ओंर सहनशीलता
वह अतुलनीय नारी शक्ति ।

प्रभु को गर्व हुआ
अपनी इस कृति पर
सोचा क्यों न इसे ओर ऊँचा उठाऊ ,
क्यों न इसे जगत जननी बनाऊ ,
क्यों न इसी से इस दुनिया पर राज कराऊँ ।

पर वह कृति वह नारी अब बोल पड़ी
मै माता , मै जननी पावन बन जाऊँगी
धरा धाम पर रंग-बिरंगे नव पुष्प खिलाऊँगी ,
अपने उदरो में संसार समाऊँगी
लेकिन मै ठहरी चिर प्यासी,
अपने प्रियवर की अभिलाषी,
मै अपने जीवन को प्रियवर के चरणों मे पाऊँगी,
उनके चरणो की धूल अपने माथे से लगाऊँगी
हाथ पकड़कर उनका ,मै दुर्गा, मै काली बन जाउँगी ।
लकिन अन्तिम  क्षण तक
मै प्यासी
अभिलाषी
प्रियवर की चरणों की दासी “


Leave a Reply

%d bloggers like this: