लेखक परिचय

इक़बाल हिंदुस्तानी

इक़बाल हिंदुस्तानी

लेखक 13 वर्षों से हिंदी पाक्षिक पब्लिक ऑब्ज़र्वर का संपादन और प्रकाशन कर रहे हैं। दैनिक बिजनौर टाइम्स ग्रुप में तीन साल संपादन कर चुके हैं। विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में अब तक 1000 से अधिक रचनाओं का प्रकाशन हो चुका है। आकाशवाणी नजीबाबाद पर एक दशक से अधिक अस्थायी कम्पेयर और एनाउंसर रह चुके हैं। रेडियो जर्मनी की हिंदी सेवा में इराक युद्ध पर भारत के युवा पत्रकार के रूप में 15 मिनट के विशेष कार्यक्रम में शामिल हो चुके हैं। प्रदेश के सर्वश्रेष्ठ लेखक के रूप में जानेमाने हिंदी साहित्यकार जैनेन्द्र कुमार जी द्वारा सम्मानित हो चुके हैं। हिंदी ग़ज़लकार के रूप में दुष्यंत त्यागी एवार्ड से सम्मानित किये जा चुके हैं। स्थानीय नगरपालिका और विधानसभा चुनाव में 1991 से मतगणना पूर्व चुनावी सर्वे और संभावित परिणाम सटीक साबित होते रहे हैं। साम्प्रदायिक सद्भाव और एकता के लिये होली मिलन और ईद मिलन का 1992 से संयोजन और सफल संचालन कर रहे हैं। मोबाइल न. 09412117990

Posted On by &filed under महिला-जगत.


इक़बाल हिंदुस्तानी

 केवल कानून बनाना ही नहीं बल्कि उनका संघर्ष और सशक्तिकरण है समस्या का सही हल?

अन्नपूर्णा मित्तल जी ने प्रवक्ता डॉटकॉम पर जब महिलाओं के साथ होने वाले अन्याय और अत्याचार पर लेख लिखा होगा तो सोचा होगा कि यहां उनको बहस का एक ऐसा मंच मिलेगा जहां उनके दर्द को केवल महिलाएं ही नहीं बल्कि पुरूष लेखक और पाठक भी समझेंगे और सोच विचार कर उसका कोई ठोस समाधान निकालने का प्रयास करेंगे लेकिन यहां तो एक दो प्रतिक्रियाओं को छोड़कर सब उनके पीछे ऐसे हाथ धोकर पड़ गये जैसे उन्होंने सारे पुरूष समाज की थाने में रपट करा दी हो। वास्तव में ऐसा ही अकसर यूपी के थानों में पीड़ितों के साथ होता है कि जब वे किसी सामर्थवान या वीआईपी की शिकायत लेकर वहां एफआईआर लिखाने जाते हैं तो पुलिस आरोपी से फीलगुड कर उल्टा उसको ही जेल की हवा खिला देती है। यह सवाल बार बार उठता है कि समाज में नारी के साथ पक्षपात और अन्याय कब तक होता रहेगा। हमारा जवाब सदा यही होता है कि जब तक वे इस अत्याचार और शोषण को सहती रहेगी।

हालांकि आज के ज़माने में उनके साथ यह सब कुछ केवल इसीलिये ही नहीं होता क्योंकि वे महिला हैं बल्कि इसकी एक वजह यह भी है कि वे कमज़ोर हैं। मिसाल के तौर पर बच्चो, विकलांगों, कमज़ोरों, मज़दूरों और गरीबों के साथ भी कमोबेश वह सब कम या ज़्यादा अकसर होता है जो महिलाओं के साथ होता है। सबसे बड़ी समस्या यह है कि हम दिखावे और ढोंग के कारण यह सच स्वीकार ही नहीं करते कि नारी के साथ लिंग के कारण भी पक्षपात होता है जिसके लिये हमारे धर्म, परंपरायें , स्वार्थ, अनैतिकता और पुरूषप्रधान समाज और शोषणवादी सोच ज़िम्मेदार हैं।

मिसाल के तौर पर 17 नवंबर को ही सुप्रीम कोर्ट ने एयर इंडिया को यह आदेश दिया है कि वह विमान में उड़ान के दौरान काम करने वाली महिलाओं को सुपरवाइज़र बनाने से वंचित करके संविधान के खिलाफ काम कर रहा है। लिहाज़ा उनको भी पुरूषों की तरह सुपरवाइज़र बनाया जाये। इतना ही नहीं रिटायरमेंट की उम्र भी एयर इंडिया में महिला और पुरूष कर्मचारियों की अलग अलग होती है। महिला कर्मचारी नियुक्ति के बाद चार वर्ष के भीतर अगर गर्भवती हो जाती थी तो उसको नौकरी से निकाल दिया जाता था। उसका वज़न मानक से अधिक होने पर विमान से बाहर की सेवा पर भेज दिया जाता था। देश की पहली आईपीएस किरण बेदी को एक महिला होने के कारण सरकार ने कई बार प्रमोशन से वंचित रखा।

सेना में कमीशन को लेकर भी बार बार महिलाओं के साथ दोहरे मापदंड अपनाने की शिकायतें मिलती रहती हैं। समान काम के बावजूद उनको समान वेतन नहीं दिया जाना तो आम बात है। उनको यह भी कहा जाता है कि रात की पारी में काम न करें। कानूनी भाषा में महिला के लिये ‘‘रखैल’’ शब्द का इस्तेमाल हाल तक अदालतों में होता रहा है। संविधान का अनुच्छेद 15 हर नागरिक को बिना लैंगिक और जातीय पक्षपात के मुक्त जीवन का अधिकार देता है। लड़की की ऑनर किलिंग एक कड़वी सच्चाई है ही।

व्यवहार में देखा जाये तो लड़की की भ्रूणहत्या से लेकर दहेज़ के लिये उसे बहु बनने पर जलाकर मारने की घटनायें आज भी बड़े पैमाने पर हमारे समाज में हो रहीं हैं। उनको खिलाने पिलाने से लेकर पढ़ाने लिखाने तक में पक्षपात होता है। जब हम शादी के लिये लड़के का रिश्ता तलाश करते हैं तो अकसर लड़की को लड़के से उम्र, लंबाई और पढ़ाई में थोड़ा छोटा रखते हैं। वजह वही पुरूष का अहंकार जिसमें उसकी पत्नी उससे बड़ी नहीं बल्कि बराबर भी नहीं चाहिये। यही कारण है कि जहां महिला नौकरी या कारोबार करती है वहां परिवार में अकसर उससे टकराव शुरू हो जाता है वह आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर होकर गलत बात सहन नहीं करती और पति व सास ससुर उसे भोली गाय समझकर पहले की तरह दबाते और सताते हैं।

इसका नतीजा कई बार अलगाव के रूप में सामने आता है तो पुरूषप्रधान समाज कहता है कि जिस घर में महिला कमायेगी वहां तो यह अशुभ और मनहूस झगड़ा होगा ही। ऐसे ही लड़की एक बेटी, बहन और पत्नी के रूप में बाप, भाई और पति की अपनी सुरक्षा के लिये मोहताज रहती है। रात तो रात महिला दिन में भी अकेले जाने पर छेड़छाड़ और बलात्कार का अकसर शिकार हो जाती है। खुद करीबी रिश्तेदार यहां तक कि कई बार बाप, भाई और गुरूजन तक उसकी अस्मत का न केवल सौदा कर देते हैं बल्कि खुद भी मुंह काला करने से बाज़ नहीं आते। वेश्यावृत्ति के धंधे में भी अधिकांश मामलों में महिला को पुरूष ही धकेलते हैं। अपवादों से कोई सटीक राय नहीं बनाई जा सकती।

जहां तक महिला द्वारा महिला पर जुल्म करने का आरोप है तो वह तो ठीक ऐसे ही है जैसे देश की गुलामी में खुद कई गद्दार भारतीय जयचंद और मीरजाफर भी शामिल थे। महिलाओं के कम या उत्तेजक कपड़ों की वजह से अगर बलात्कार होते तो बुर्केवाली, आदिवासी और बच्चियों के साथ दुराचार क्यों होते हैं ? यह सवाल अपने आप में बेहद गंभीर है कि एक उच्चशिक्षित महिला के साथ भी अगर उसका पति और सास ससुर खुद उच्चशिक्षित होकर भी लालच और पुरूषप्रधान समाज की सोच के कारण ऐसा वहशी और दरिंदगी वाला दर्दनाक व्यवहार करते हैं तो यह एक बार फिर से सोचना पड़ेगा कि हम कितने सभ्य और संस्कृत हैं?

महिला का भावुक और त्यागी होना भी उसके साथ अन्याया का कारण बनता है। वह जज़्बात में बहकर पुरूषों पर बहुत जल्दी भरोसा कर लेती है जिससे उसके साथ धोखा और ब्लैकमेल होता है। ऐसा लगता है कि हम आज भी जंगलयुग में रह रहे हैं जहां शेर जो करता है वही सही होता है। यह तो मत्स्य न्याय वाली बात है कि छोटी मछली को बड़ी मछली आज भी हमारे समाज में खा रही है। लगातार महिला सशक्तिकरण और अन्याय और अत्याचार के खिलाफ संघर्ष की इसका एकमात्र समाधान है। इसमें कुछ समय लगेगा लेकिन यकीन कीजिये लंबे समय तक महिलाओं के साथ यह गैर बराबरी चल नहीं पायेगी। नारी जाति की ओर से एक शेर यहां सामयिक लग रहा है-

हम आह भी करते हैं तो हो जाते हैं बदनाम,

वो क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होता।

One Response to “महिलाओं से अन्याय तब तक होगा जब तक वे सहेंगी!”

  1. BADRI NATH TIWARI

    इकबाल जी सदर धन्यवाद और साधुवाद आपको| कोई पुरुष इस तरह जब सच को सच कहने लगे तो वो दिन दूर नहीं जब हमारी बहनों की इज्जत और मर्यादा हमारी तरह ही होगी और कोई भेद भाव नहीं होगा| इकबाल जी मई एक स्वंय सेवी संस्था में काम करता हु | मै पिछले ११ वर्षो से महिला सशक्तिकरण के लिए ही काम कर रहा हु| जब कोई पुरुष इस तरह क विचार रखता है तो अच्छा लगता है| धन्यवाद

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *