बिन आग के तू आग लगा देती

बिन आग के तुम आग लगा देती |
बिन पानी के तुम इसे बुझा देती ||

सीखा है कहाँ से तुमने ये हूनर |
मुझको भी जरा तुम सिखा देती ||

लग जाती तन बदन में आग पहले |
अगर पहले तुम्हे दीदार दिखा देती ||

लग जाती अगर आग दीदार दिखाने से |
तुम आईने में पहले आग लगा देती ||

कहते हो बात आईने में आग लगाने की |
मै तो बहते पानी में भी आग लगा देती ||

कर लेते दीदार तुम पानी बहने से पहले |
मै तो तुम्हे पहले ही पानी पानी कर देती || 

रस्तोगी कहता है ये बहस बंद करो तुम |
ये रिश्ता ऐसा है,कुदरत पहले बना देती ||

आर के रस्तोगी 
गुडगाँव (हरियाणा) 
मो 9971006425  
  

Leave a Reply

%d bloggers like this: