आपकी बिजली की ज़रूरत ले रही है शायद इनकी जान

इस वक़्त अगर आप इस ख़बर को पढ़ रहे हैं तो मतलब आपके पास बिजली की सप्लाई है। और इस बात की भी पूरी उम्मीद है कि जिस बिजली से आपने अपने फोन को चार्ज किया या कम्प्यूटर को सप्लाई दी, वो कोयले के जलने से आयी होगी।
ये भी हो सकता है कि इसी बिजली की मदद से आपने अपने घर में एयर प्यूरीफायर लगा कर अपने लिए कुछ साफ हवा का इंतज़ाम किया होगा। सोचने बैठो तो आप वाक़ई ख़ास हैं। कम से कम झारखंड में रामगढ़ ज़िले के मांडू ब्लॉक की कोयले की खदानों के आसपास रहने वालों से तो आप ख़ास हैं ही और काफ़ी हद तक बेहतर हालात में हैं। आपके घर को रौशन करने के लिए सिर्फ़ वहां का कोयला नहीं जल रहा। वहाँ के लोगों का स्वास्थ्य भी जल कर ख़ाक हो रहा है। मतलब, शायद आपकी बिजली की ज़रूरत ले रही है इनकी जान।
दरअसल पीपुल्स फ़र्स्ट कलेक्टिव के चिकित्सा और सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा किए गए एक स्वास्थ्य अध्ययन में झारखंड में रामगढ़ ज़िले के मांडू ब्लॉक (प्रखंड) में कोल माइंस (कोयले की खानों) के आसपास रहने वाले निवासियों में गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं पाई गई हैं। कोयला खनन के स्वास्थ्य और पर्यावरणीय प्रभावों के शीर्षक के अध्ययन – रामगढ़ ज़िले, झारखंड में खदानों के करीब रहने वाले लोगों के स्वास्थ्य का अध्ययन, ने रामगढ़ के मांडू ब्लॉक में कोयला खदानों के 5 किलोमीटर के भीतर से 600 से अधिक लोगों का सर्वेक्षण किया गया। ब्लॉक में चरही, दुरुकसमर, पारेज, तपिन, और दुधमटिया विशेष रूप से प्रभावित हैं – कोल माइंस और कोयला वाशरी इन गांवों के क़रीब हैं, और कुछ गांव खनन कार्यों के स्थान से 50 मीटर तक के क़रीब हैं। इन गांवों के निवासियों ने कई स्वास्थ्य समस्याओं की शिकायत की है, जिनका कारण वे पास की खानों और वाशरीयों के प्रदूषकों को मानते हैं। अध्ययन के निष्कर्षों की तुलना देवघर ज़िले के एक तुलनात्मक स्थल पर किए गए निष्कर्षों से की गई, जहां जनसंख्या समान जातीय, सामाजिक और आर्थिक हालात की थी, लेकिन कोयले से संबंधित प्रदूषकों से न्यूनतम जोखिम में और कोयला खानों से 40 किमी से अधिक दूरी पर थी ।
रिपोर्ट के अनुसार, “इस अध्ययन में प्रतिभागियों के बीच कोयले की खानों के पास के प्रतिभागियों में पहचानी जाने वाली स्वास्थ्य संबंधी शिकायतें काफी अधिक हैं। सर्वेक्षण में शामिल निवासियों में दस सबसे प्रचलित क्रोनिक (पुरानी) स्वास्थ्य स्थितियों में बालों का झड़ना और ब्रिटल (भंगुर) बाल; मस्कुलोस्केलेटल जोड़ों का दर्द, शरीर में दर्द और पीठ दर्द; सूखी, खुजलीदार और / या रंग बदलाव वाली फीकी हुई त्वचा और फटे तलवे, और सूखी खांसी की शिकायत शामिल हैं।” इसके अलावा, अध्ययन के लेखकों के अनुसार, “स्वास्थ्य संबंधी शिकायतें ज्यादातर क्रोनिक (पुरानी) हैं, और संक्रामक के बजाय उत्तेजक हैं। दूसरे शब्दों में, कारण कारक संभवतः सूक्ष्मजीव के बजाय पर्यावरणीय हैं ”।
रिपोर्ट में पाया गया है कि “खनन गतिविधियों के क़रीब रहने वाले लोग अपने स्वास्थ्य के मामले में बदतर हैं। दूसरे शब्दों में, निष्कर्ष बताते हैं कि जितनी अधिक दूरी पर खदानें हैं, आबादी के स्वास्थ्य पर उतना ही कम प्रभाव पड़ेगा ”। रिपोर्ट में आगे पाया गया है कि “खानों के क़रीब रहने वाले निवासियों में स्वास्थ्य शिकायतों का अधिक प्रसार है – एक या तीन शिकायतों के विपरीत छह या अधिक शिकायतें”।
अध्ययन के प्रमुख जांचकर्ताओं में से एक के अनुसार, “इस अध्ययन के निष्कर्ष महत्वपूर्ण हैं और तत्काल उपचारात्मक उपायों की मांग करते हैं। हमारी रिपोर्ट बताती है कि बड़े पैमाने पर खनन ने झारखंड के रामगढ़ क्षेत्र में पीढ़ियों से रह रही आबादी पर नकारात्मक प्रभाव डाला है। उनके पर्यावरण, शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के साथ गंभीर रूप से समझौता हुआ है। ”
रिपोर्ट के सह-लेखक डॉ प्रबीर चटर्जी के अनुसार, “स्वास्थ्य अध्ययन के निष्कर्ष स्पष्ट रूप से संकेत देते हैं कि कोयला खदानों के आसपास रहने वाले निवासी ऊपरी श्वसन संबंधी बीमारियों जैसे ब्रोंकाइटिस और COPD (सीओपीडी) या यहां तक कि गठिया और पीठ के दर्द के लिए, कोयला खदानों से दूर क्षेत्रों में रहने वालों की तुलना में, लगभग दो गुना भेद्य हैं। आँख, त्वचा, बाल और पैर के रोगों के संबंध में, कोयले की खदानों के पास के निवासी दूर रहने वाले लोगों की तुलना में 3 से 4 गुना अधिक भेद्य हैं। उच्च स्तर पर जहरीले रसायनों और भारी धातुओं की उपस्थिति और अध्ययन स्थल पर स्वास्थ्य शिकायतों की अधिकता से संकेत मिलता है कि गांवों के निवासियों द्वारा सामना की जाने वाली स्वास्थ्य समस्याओं की संभावना कोयला खानों से विषाक्त पदार्थों के संपर्क में आने के कारण है, और अन्य विविध कारणों से नहीं। “
अध्ययन के लिए चिकित्सा कैंप का नेतृत्व करने वाले डॉ स्माराजित जना के अनुसार, “खानों के पड़ोस में बहुत कम स्थानीय निवासी अच्छे स्वास्थ्य का अनुभव करते हैं। हमने लोगों के बीच कई स्वास्थ्य शिकायतों को देखा और चिकित्सकीय रूप से यह विषाक्त पदार्थों के संपर्क के एक से अधिक मार्गों को इंगित करते हैं। हमने एक से अधिक परिवार के सदस्यों को एक ही या समान स्वास्थ्य शिकायतों का सामना करते देखा। कम उम्र के लोगों में मस्कुलोस्केलेटल स्वास्थ्य संबंधी शिकायतों के उच्च स्तर को देखना चौंका देने वाला था। हमें सूखी और उत्पादक खांसी की अधिक शिकायतें मिलीं, जो रोगजनकों को नहीं बल्कि एलर्जी को इंगित करते हैं जो इन लक्षणों का कारण बन रहीं हैं। ये स्वास्थ्य लक्षण इस क्षेत्र में पानी, हवा और मिट्टी के पर्यावरणीय नमूने में पाए जाने वाले जहरीले रसायनों के प्रभाव को पुष्ट करते हैं। ”
अध्ययन में खानों का व्यापक स्वास्थ्य प्रभाव आकलन पूरा होने और मशविरे लागू होने तक मौजूदा खानों के किसी और विस्तार या नई कोयला खानों की स्थापना पर रोक लगाने की सलाह दी गई है। यह राज्य और केंद्रीय एजेंसियों को कोलमाइंस के पास के वातावरण में प्रदूषकों की प्रकृति और सीमा की पहचान करने के लिए एक अधिक गहन अध्ययन करने के लिए भी कहता है, और – वायु, मिट्टी और जल स्रोतों (सतह और भूमिगत) को साफ़ करने के उपायों का कार्य करने के लिए भी। यह अध्ययन राज्य सरकार से तत्काल प्रभाव के साथ कोयला क्षेत्र 5 किलोमीटर के भीतर रहने वाले सभी निवासियों के लिए उचित स्वास्थ्य देखभाल और विशेष उपचार मुफ्त में उपलब्ध करने का भी आह्वान करता है।
पर्यावरणीय नमूने के परिणामों के बारे में: 2019 में, चेन्नई स्थित एक संगठन, कम्युनिटी एनवायरोमेन्टल मॉनिटरिंग (सामुदायिक पर्यावरण निगरानी), जिसकी पर्यावरण नमूनों के परीक्षण और निगरानी में विशेषज्ञता है, ने रामगढ़ जिले के मांडू ब्लॉक में कोलमाइंस के आसपास एक अध्ययन किया था। एक प्रतिष्ठित प्रयोगशाला में कुल 5 हवा के नमूने, 8 पानी के नमूने, 5 मिट्टी के नमूने और 1 तलछट के नमूने का विश्लेषण किया गया। “बस्टिंग द डस्ट” शीर्षक वाली इसकी रिपोर्ट में दुरुकसमर, तपिन, दुधमटिया और चरही गाँवों के आस-पास हवा, पानी, मिट्टी और तलछट के नमूनों को गंभीर रूप से दूषित पाया।
अध्ययन के परिणामों ने यह भी बताया कि:

  1. एल्यूमीनियम, आर्सेनिक, कैडमियम, क्रोमियम, मैंगनीज, निकल, लोहा, सिलिकॉन, जिंक, लेड, सेलेनियम और वैनेडियम सहित कुल 12 जहरीली धातुएँ वायु, जल, मिट्टी और / या तलछट में पाए गए।
  2. पाए जाने वाले 12 जहरीले धातुओं में से 2 कार्सिनोजेन्स हैं और 2 संभावित कार्सिनोजन हैं। आर्सेनिक और कैडमियम कार्सिनोजेन्स के रूप में जाने जाते हैं और लेड और निकल संभावित कार्सिनोजन हैं।
  3. पाए जाने वाले धातु सांस की बीमारियों, सांस की तकलीफ, फेफड़ों की क्षति, प्रजनन क्षति, जिगर और गुर्दे की क्षति, त्वचा पर चकत्ते, बालों के झड़ने, भंगुर हड्डियों, मतली, उल्टी, दस्त, पेट दर्द सहित मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द और कमजोरी आदि हानिकारक स्वास्थ्य प्रभावों की एक विस्तृत श्रृंखला पैदा कर सकते हैं।
  4. धातुओं में से कई श्वसन विकार, सांस की तकलीफ, फेफड़ों की क्षति, प्रजनन क्षति, जिगर और गुर्दे की क्षति, त्वचा पर चकत्ते, बालों के झड़ने, भंगुर हड्डियों, मतली, उल्टी, दस्त, पेट दर्द, मांसपेशियों और जोड़ों के दर्द और कमजोरी आदि का कारण हैं। ।
    बड़ा सवाल यहाँ ये उठता है कि इन लोगों के बिगड़ते स्वास्थ के लिए कौन ज़िम्मेदार है?

Leave a Reply

%d bloggers like this: