लेखक परिचय

विजय कुमार

विजय कुमार

निदेशक, विश्व संवाद केन्द्र सुदर्शन कुंज, सुमन नगर, धर्मपुर देहरादून - २४८००१

Posted On by &filed under धर्म-अध्यात्म.


– विजय कुमार

एक बार राजा युद्धिष्ठिर के पास एक किसान का मामला आया। उसके खेत में चोरी करते हुए चार लोग पकड़े गये थे। उनमें से एक अध्यापक था, दूसरा पुलिसकर्मी, तीसरा व्यापारी और चौथा मजदूर। किसान ने युद्धिष्ठिर से उन्हें समुचित दंड देने को कहा।

युद्धिष्ठिर ने मजदूर को एक महीने, व्यापारी को एक साल, सैनिक को पांच साल और अध्यापक को दस साल सश्रम कारावास का दंड दिया। जब लोगों ने एक ही अपराध के लिए चारों को अलग-अलग दंड का रहस्य पूछा, तो युद्धिष्ठिर बहुत न्यायपूर्ण उत्तार दिया।

उन्होंने कहा कि मजदूर स्वयं निर्धन है, हो सकता है उसके घर में खाने को अन्न न हो। ऐसे में यदि उसने चोरी कर ली, तो इसे बहुत गंभीर अपराध नहीं माना जा सकता। इसलिए उसे एक महीने का कारावास पर्याप्त है।

व्यापारी का अपराध कुछ अधिक है। उसे किसान की फसल को उचित मूल्य पर खरीदने और बेचने का अधिकार तो है; पर चोरी का नहीं। इसलिए उसे एक साल का दंड दिया गया है।

पुलिसकर्मी राज्य की आंतरिक सुरक्षा व्यवस्था का आधार है। यदि वह खुद ही चोरी करेगा, तो फिर चोरों को पकड़ेगा कौन; यदि जनता का देश की सुरक्षा व्यवस्था से विश्वास उठ गया, तो इस अराजकता से निबटना राज्य के लिए भी संभव नहीं है। इसलिए उसे पांच साल की सजा दी गयी है।

जहां तक अध्यापक की बात है, उसका कृत्य केवल अपराध ही नहीं, पाप भी है। उसका काम देश की नयी पीढ़ी को सुसंस्कारित करना है। यदि उसका आचरण गलत होगा, तो फिर वह नयी पीढ़ी को क्या सिखाएगा ? इसलिए उसका अपराध सबसे बड़ा है और उसे दस साल की सजा दी गयी है।

इस कसौटी पर उन पांच न्यायधीशों और तीन वकीलों की सजा के बारे में विचार करें, जो प्रोन्नति और वेतन वृद्धि के लिए काकातिया वि0वि0 वारंगल में दी जा रही एल.एल.एम की परीक्षा में नकल करते हुए पकड़े गये हैं।

4 Responses to “युद्धिष्ठिर का न्याय”

  1. अनुज कुमार

    anuj kumar

    श्रीमान विजय कुमार जी को मेरा प्रणाम
    आपने एक बहुत ही अच्छे मुद्दे पर अपना लेख लिखा है इसके लिए आप बधाई के पात्र हैं परन्तु आपने जो उदाहरण जिस व्यक्ति युधिष्ठिर का दिया है उसे धर्मराज नहीं कहा जा सकता क्योंकि वह व्यक्ति जुए में अपनी पत्नी को हार जाता है तो फिर कैसा धर्मराज. वैसे तिवारी जी ठीक कह रहे हैं पूरे कुए में भांग पड़ी है. मगर अब भांग का नशा जिनको लगा है उन्हें हम वर्तमान युधिष्ठिर जरूर कह सकते हैं

    Reply
  2. Anil Sehgal

    युद्धिष्ठिर का न्याय – by – विजय कुमार

    इन सभी न्यायधीशों और वकीलों को, जो प्रोन्नति और वेतन वृद्धि के लिए, दी जा रही एल.एल.एम की परीक्षा में नकल करते हुए पकड़े गये हैं, उनकी
    (१) यह सजा, कम से कम, सुनिश्चित हो कि वह आयु पर्यंत, कभी भी किसी प्रकार से कैसी भी, न्याय परिक्रिया के आस पास भी न फटक सकें.

    (२) न्याय के सभी काम के लिए अछूत घोषित कर दिया जाये.

    (३) सभी की एल.एल.बी. डिग्री भी वापिस ले ली जाये.

    Reply
  3. thanthanpal

    इस कसौटी पर उन स्वयं वेतन बढाने वाले सांसदों का भी न्याय किया तो राजा युद्धिष्ठिर उन्हें तो देहदंड की सजा दे दिया होता . क्यों की स्वयम राजा ही अपराधी था.
    thanthanpal.blogspot.com

    Reply
  4. श्रीराम तिवारी

    shriram tiwari

    krupya kakateeya ko durust karen yatha -kaakateey .
    sahi prshn uthya hai aapne .badhai .is smbandh men
    hm kahna chahenge ki kuye men hi bhang padi hai .akele judicial sector ka hi rona thode hi hai .

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *