लेखक परिचय

हिमकर श्‍याम

हिमकर श्‍याम

वाणिज्य एवं पत्रकारिता में स्नातक। प्रभात खबर और दैनिक जागरण में उपसंपादक के रूप में काम। विभिन्न विधाओं में लेख वगैरह प्रकाशित। कुछ वर्षों से कैंसर से जंग। फिलहाल इलाज के साथ-साथ स्वतंत्र रूप से रचना कर्म। मैथिली का पहला ई पेपर समाद से संबद्ध भी।

Posted On by &filed under दोहे.


peshawar 1

दर्ज़ हुई इतिहास में, फिर काली तारीख़।

मानवता आहत हुई, सुन बच्चों की चीख़।।

 

कब्रगाह में भीड़ है, सिसके माँ का प्यार।

सारी दुनिया कह रही, बार-बार धिक्कार।।

 

मंसूबे जाहिर हुए, करतूतें बेपर्द।

कैसा ये जेहाद  है, बोलो दहशतगर्द।।

 

होता है क्यूँकर भला, बर्बर कत्लेआम।

हिंसा औ’ आतंक पर, अब तो लगे लगाम।।

 

दुःख सबका है एक सा, क्या मज़हब, क्या देश।

पर पीड़ा जो बाँट ले,  वही संत दरवेश।।

 

Leave a Reply

5 Comments on "सिसके माँ का प्यार"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
दिगंबर नासवा
Guest

मार्मिक … दोहों के माध्यम से दल का दर्द व्यक्त किया है हिमकर जी …

हिमकर श्‍याम
Guest
हिमकर श्याम

आपको यहाँ देख के ख़ुशी हुई…हार्दिक आभार…

डॉ. सुधेश
Guest
डा सुधेश

हिमकर जी के दोहे मार्मिक , सामयिक और पठनीय हैं । उन्हें बधाई ।

डॉ. सुधेश
Guest
जा सुमनेश

हिमकर श्याम के दोहे मार्मिक , सामयिक और पठनीय हैं । पेशावर में बच्चों की निर्मम हत्या से भारत के कवियों का आहत होना स्वाभाविक है । जनता भी दुखी है ।

हिमकर श्‍याम
Guest
हिमकर श्याम

हार्दिक आभार

wpDiscuz