लेखक परिचय

भारत भूषण

भारत भूषण

संत कोलम्बा कॉलेज (हजारीबाग) से स्नातक व जामिया मिलिया इस्लामिया (दिल्ली) से विधि स्नातक व चार वर्षों की लॉं प्रैक्टिस करने के बाद दिल्ली में पिछले 4 वर्षों से अपनी आईटी कंपनी (मनु इन्फो सोल्युशंस प्राइवेट लिमिटेड) चला रहे हैं। कई सामाजिक संगठनो में सक्रिय भूमिका निभाने के साथ ही राजनीति में भी सक्रिय हैं। वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी के यूथ विंग युवा मोर्चा (BJYM) के राष्ट्रीय आइ.टी प्रभारी हैं। लीगल इंडिया (www.legalindia.in) व प्रवक्ता॰कॉम (www.pravakta.com) के प्रबंध निदेशक हैं।

Posted On by &filed under गजल.


CrossroadSignचारों तरफ हैं रास्ते, हर रास्ते पे मोड़ है !

तुही बता ये जिन्दगी, जाना तुझे किस ओर है !!

 

हर तरफ़ से आवाजें, कोलाहल और शोर है !

कुछ समझ आता नहीं, मंजिल मेरी किस ओर है !!

 

सब के सब बेकल यन्हा, सबके सपनों का जोड़ है !

किसके सपने तोरुं मै, कैसा ये कठिन होड़ है !!

 

कैरियर के दौड़ में, भूषण कितने ही मोड़ है !

ठान लिया तूने अगर, मंजिल नहीं कोई दूर है !!

 

जिस तरफ भी चल पड़ो, रास्ता तेरा उसी ओर है !

मंजिले भी है वहीं तेरी, मुक्कमल जन्हां उसी ओर है !!

Leave a Reply

3 Comments on "चारों तरफ हैं रास्ते, हर रास्ते पे मोड़ है !"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
mahesh sharma
Guest

bhao ke anuroop kala me pariskar ki sambhawna bani hai,swagatey hai

yamunapanday
Guest

शब्द संकलन सार गर्भित है कवी की सार्थकता है की देश के लिए कुछ आदर्श युक्त करे ।
यमुना,,

vijay kumar
Guest

Bahut achha! Likhte rahiye!

wpDiscuz