लेखक परिचय

जगदीश्‍वर चतुर्वेदी

जगदीश्‍वर चतुर्वेदी

वामपंथी चिंतक। कलकत्‍ता वि‍श्‍ववि‍द्यालय के हि‍न्‍दी वि‍भाग में प्रोफेसर। मीडि‍या और साहि‍त्‍यालोचना का वि‍शेष अध्‍ययन।

Posted On by &filed under विविधा.


पोर्न संस्कृति का कारपोरेट संस्कृति के साथ गहरा याराना है। कारपोरेट संस्कृति का जो लोग रात-दिन गीत गाते रहते हैं, वे इसके सांस्कृतिक आयाम पर कभी बात नहीं करते। कारपोरेट संस्कृति के विकास में पोर्न संस्कृति का महत्वपूर्ण अवदान है। आंकड़े बताते हैं कि कारपोरेट संस्कृति के माध्यम से पोर्न ने बहुत मोटा कारोबार किया है। एक अनुमान के अनुसार पोर्न उद्योग का कारोबार अकेले अमेरिका में 10-14 विलियन डालर के करीब है। ये आंकड़े फार्चून पत्रिका के हैं। इस पत्रिका यह भी मानना है कि ये आंकड़े कम करके लगाए गए हैं। असल आंकड़ा इससे काफी अधिक होगा।

फॉरविस पत्रिका ने अनुमान लगाया है कि सारी दुनिया में पोर्न का कारोबार 56 विलियन डालर से ज्यादा का है। इसमें वयस्क वीडियो 20 विलियन डालर, सेक्स क्लब 5 विलियन डालर, मैगजीन साढ़े सात विलियन डालर,फोनसेक्स साढ़े चार विलियन डालर, घूमंतू सेवाएं 11 विलियन डालर, केबल, सैटेलाइट, भुगतान टीवी ढाई विलियन डालर, सीडी और डीवीडी रोम डेढ विलियन डालर, इंटरनेट (बिक्री और सदस्यता) डेढ़ विलियन डालर, अन्य रूपों में पोर्न का कारोबार तीन विलियन डालर से ज्यादा का आंका गया है।

जेनेट एम लारोइ ने ”दि पोर्न रिंग एराउण्ड दि कारपोरेट ह्नाइट कॉलर्स: गेटिंग फिल्थी रिच” नामक निबंध में लिखा है कि पोर्न से मोटा मुनाफा कमाने वालों में दुनिया के सबसे कारपोरेट घरानों में प्रमुख हैं- एटी एंड टी, एमसीआई,टाइम वारनर, कॉमकास्ट, इको स्टार कम्युनिकेशन, जनरल मोटर का डायरेक्ट टीवी, हिल्टन, मारीओत्त, शेरेटॉन, रेडीसन, वीसा, मास्टर कार्ड, अमेरिकन एक्सप्रेस आदि।

मीडिया में कारपोरेट घरानों के मालिक संसार के अनेक विषयों पर बात करते नजर आएंगे किन्तु सेक्स के बारे में अपने व्यापार के सेक्स उद्योग के बारे में बातें करते नजर नहीं आएंगे। पोर्न में भी हार्डकोर पोर्न अमेरिका में दण्डनीय अपराध है। कोई व्यक्ति पोर्न देखे या बेचे या प्रसार करे तो उसके खिलाफ फेडरल कानूनों के अनुसार कार्रवाई की जा सकती है।

कारपोरेट सेक्टर र्पोर्न से कैसे धन कमाता रहा है इसके कुछ नमूने देखें तो बात साफ तौर पर समझ में आ जाएगी। मसलन् होटल उद्योग को ही लें पांच सितारा होटलों में अग्रणी मारओत्त और हिल्टन ने पोर्न के जरिए प्रति वर्ष 190 मिलियन डालर का कारोबार किया। यह कारोबार रूम में पोर्न वीडियो सेवाओं के जरिए हासिल किया गया। आप यदि व्यवसायिक होटलों में जाकर ठहरें तो पाएंगे कि वहां पर आने व्यापारी और उनके आला कर्मचारी किस तरह बेतहाशा पोर्न का आनंद लेते हैं। पोर्न के मुनाफे का अस्सी फीसदी पैसा इन होटलों में वयस्क फिल्मों के दिखाने से आता है। इस आमदनी में से पांच से लेकर दस फीसदी पैसा होटल के मालिक ले लेते हैं। बाकी पोर्न उद्योग को दे दिया जाता है। मारओत्त, शेरेटन और हिल्टन होटल समूह ने अकेले अमेरिका में सालाना 250 मिलियन डालर का कारोबार किया है। इसमें सबसे ज्यादा आमदनी वयस्क वीडियो फिल्मों के जरिए हुई है। न्यूयार्क स्टॉक एक्सचेंज की सूची में शामिल ”ऑन कमाण्ड” और ”लॉज इंटरटेनमेंट” ने पन्द्रह लाख होटल के कमरों में पोर्न वितरण किया है। ” ऑन डिमाण्ड” प्रति रूम 23 डालर चार्ज वसूल करता है और कुल आठ लाख पैंतीस हजार कमरों में पोर्न का वितरण करता है।

विश्लेषकों का मानना है कि उसका आधे से ज्यादा मुनाफा पोर्न से आता है।यानी तकरीबन 115 मिलियन डालर की आमदनी उसे पोर्न से होती है। जबकि ”लॉज नेट” सालाना 180 मिलियन डालर पोर्न प्रसारण से कमाता है।

सैटेलाइट, केबल और भुगतान टीवी के माध्यम से पोर्न उद्योग की आमदनी हॉलीवुड फिल्मों की आमदनी से दुगुना है। जीएम कंपनी का डायरेक्ट टीवी पोर्न नेटवर्क का सालाना मुनाफा 200 मिलियन डालर से ज्यादा आंका गया है।

डायरेक्ट टीवी में विस्तृत कामुक दृश्यों की भरमार होती है। फॉरविस पत्रिका के सन् 2000 के अंक में प्रकाशित एक लेख के अनुसार अमेरिकी सैटेलाइट और केबल उद्योग ने पोर्न के प्रसारण के माध्यम से 310 मिलियन डालर का कारोबार किया है। ”इकोस्टार” सैटेलाइट कंपनी पोर्न से सबसे ज्यादा मुनाफा कमाने वाली कपनी है। इस कंपनी ने सन् 2001 में 269.8मिलियन डालर का कारोबार किया। इसके अलावा पोर्न से मुनाफा कमाने वालों में अग्रणी कतार में टाइम वारनर का नाम आता है। यह कंपनी प्लेबॉय, स्पाइसी, स्पाइसी 2 और विविड इंटरटेनमेंट के जरिए अपना पोर्न कारोबार करती है। इनमें से अकेले विविड इंटरटेनमेंट ने ही 70 मिलियन डालर का कारोबार किया है।

वयस्क फिल्मों की सबसे बड़ी वितरक निर्माता कंपनी न्यू फ्रंटियर मीडिया के सीइओ मार्क क्रेलाँफ ने कहा कि अमेरिका में प्रति घर औसतन तीन पोर्न फिल्मों की खरीद होती है। ये फिल्में 7.85 – 10.95 डालर प्रति फिल्म की दर से बिकती हैं। प्रत्येक फिल्म 90 मिनट की होती है। एटी एंड टी हार्डकोर पोर्न फिल्में पेश करता है। ये फिल्में हॉट नेटवर्क केबल चैनल के जरिए पेश की जाती है। एटी एंड टी ने कामकास्ट के साथ मर्जर करके अमेरिका में सबसे बड़े ग्राहक समूह पर कब्जा जमा लिया है।

आज स्थिति यह है कि अमेरिका में उसके पास 22 मिलियन ग्राहक हैं।यह सबसे बड़ी पोर्न पेश करने वाली केबल कंपनी भी है। इसी तरह एटी एंड टी ने एमसीआई वर्ल्डकॉम के साथ फोन सेक्स का कारोबार किया है।जिसके जरिए वह सालाना एक विलियन डालर कमा रही हैं। जो कंपनियां इस क्षेत्र में कारोबार कर रही हैं वे हैं- एटीएंड टी,जनरल मोटर्स की डायरेक्ट टीवी, कॉक्स कम्युनिकेशन, कॉमकास्ट कारपोशन, केबलविजन सिस्टम,चार्टर कम्युनिकेशन, मीडिया वन, इनसाइड कम्युनिकेशन, जीटीइ, एसएनइटी, यूएस वेस्ट, डिस नेटवर्क, इको स्टार आदि।

पोर्न उद्योग से मोटी कमाई करने वालों में क्रेडिट कार्ड जारी करने वाली बैंकों के कारपोरेट हाउस भी अग्रणी कतारों में हैं। ई-पोर्न का कारोबार 35 मिलियन प्रति माह का है।वयस्क वेबसाइट से खरीददारी का सालाना कारोबार 3-4 विलियन डालर का है। इसमें 90 फीसदी खरीदारी क्रेडिट कार्ड के जरिए होती है।

-जगदीश्‍वर चतुर्वेदी

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz