लेखक परिचय

अरुण कान्त शुक्ला

अरुण कान्त शुक्ला

भारतीय जीवन बीमा निगम से सेवानिवृत्त। ट्रेड यूनियन में तीन दशक से अधिक कार्य करता रहा। अध्ययन व लेखन में रुचि। रायपुर से प्रकाशित स्थानीय दैनिक अख़बारों में नियमित लेखन। सामाजिक कार्यों में रुचि। सामाजिक एवं नागरिक संस्थाओं में कार्यरत। जागरण जंक्शन में दबंग आवाज़ के नाम से अपना स्वयं का ब्लॉग। कार्ल मार्क्स से प्रभावित। प्रिय कोट " नदी के बहाव के साथ तो शव भी दूर तक तेज़ी के साथ बह जाता है , इसका अर्थ यह तो नहीं होता कि शव एक अच्छा तैराक है।"

Posted On by &filed under जन-जागरण.


stuntयदि दिल्ली पुलिस बाईक पर चलने वाले इन आवारा शोहदों और उनके लापरवाह तथा पुलिस और  प्रशासन को अपना गुलाम समझने वाले माँ-बापों के खिलाफ सच में सख्त होती है तो ये एक बहुत ही राहत भरा कदम होगा, जिसका पालन पूरे देश में किया जाना चाहिए| उस लड़के की मौत की वजह से अभी दिल्ली पुलिस को तथाकथित अच्छे लोगों से गाली खानी पड़ रही है, जिन्हें उन जैसे  बाईकर्स का आतंक अभी तक झेलना नहीं पड़ा है|  लेकिन सच यही है कि इन बाईकर्स ने आम लोगों विशेषकर महिलाओं, बच्चों  और बूढ़ों का सड़क पर चलना मुश्किल कर दिया है| | ये बीमारी , नव धनाड्यों की औलादों की बेजा हरकतों की,  मेट्रों से होते हुए छोटे शहरों और गांवों तक फ़ैल रही है| हाल ही में रायपुर में जितने भी नौजवानों के एक्सीडेंट हुए हैं, उन सब के पीछे  नव धनाड्य, संभ्रांत, संपन्न कहे जाने वाले घरानों के इन लड़कों का स्पीड और किसी को भी कुछ नहीं समझने वाला क्रेज ही है| रायपुर शंकर नगर रोड पर भी, जोकि काफी व्यस्त सड़क है,  इन बिगड़े  नवजवानों को मोटरसाईकिलों पर ऐसे करतब करते देखा जा सकता है| ये खुद तो मरते हैं, दूसरों की जिन्दगी को भी खतरे में डालते हैं| कोढ़ में खाज ये कि इनमें से कोई भी कमाई धमाई नहीं करता है| देश के लिए इनका एक पैसे का भी योगदान नहीं है, न तो टेक्स के रूप में और न किसी ओर तरह| जिस लड़के की मृत्यु हुई है, उसकी माँ अब रो रही है, लेकिन इतनी रात को उसका 19 साल का बेटा घर से गायब था, ये उसे नहीं मालूम था? क्या इस पर कोई विश्वास कर सकता है? एक और लड़के ने जिसे अपनी ड्यूटी के बाद घर जाना था घर पर फोन करके कह दिया की वो दोस्तों के साथ रात में आऊटिंग पर जा रहा है और सुबह वापस आयेगा| आप बताईये की ये कौन सा कल्चर है| उसके माँ ,बाप ने भी नहीं कहा  कि नौकरी के बाद घर वापस आओ| आऊटिंग पर जाना है तो उसका कोई  समय होना चाहिए| शहर की सड़कों पर लोगों को परेशान करते हुए सर्कस करना और बहादुरी दिखाना कौन सा भला और देशोपयोगी कार्य है?  दिल्ली में ये रोज की घटनाएं हैं, आखिर पुलिस इनको कैसे नियंत्रण में लाये?  ये भाग जायेंगे , इनके तथाकथित संपन्न और रसूखदार बाप  इन्हें बचाने आ जायेंगे| ये दूसरे दिन फिर वही करेंगे और, और ज्यादा, दबंगई के साथ करेंगे| कुछ दिन पहले ही रायपुर में पंडरी बाजार में आधी रात को कुछ संपन्न घराने के लड़के पकड़ाए थे, जो शौकिया लोगों की कारों को तोड़ते थे और जब एक नागरिक ने इसे देखा और विरोध किया तो उन्होंने उस नागरिक के साथ मार पीट भी की| | इन संपन्न घरानों की औलादें  महिलाओं के गले से चेन खींचकर भागती हैं| ये कौन सा कल्चर है, जिसे हम बढ़ावा दे रहे हैं, कहीं तो रोक लगानी ही होगी| अपने बच्चों को अच्छा नागरिक और क़ानून का पालन करने वाला नागरिक बनाना माता-पिता के सामाजिक दायित्वों में है| यदि वे ऐसा नहीं कर रहे हैं तो उन्हें  सजा मिलनी चाहिए|

अरुण कान्त शुक्ला

 

Leave a Reply

6 Comments on "बेटा करेगा स्टंट डैडी जाएंगे जेल"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
बी एन गोयल
Guest
मुख्य प्रश्न है की उस रात जब बाइकर ये सब नाटक कर रहे थे तो उस समय पुलिस वाले मौन साधे क्यों तमाशा देख रहे थे क्योंकि वास्तव में उन्हें अपनी नौकरी का डर था । आखिर ये सब नौ जवान तथाकथित प्रभावशाली, नवधनाढ्य, उछ्रंख्ल घरों के कुलदीपक थे । कायदे क़ानून से उन का कोई वास्ता नहीं होता । वैसे तो इन बांकुरों को किसी भी दिन किसी भी समय दिल्ली की किसी भी सड़क पर अपने करतब दिखाते हुए देखा जा सकता है लेकिन उस रात तो वे सामूहिक रूप से अपनी ‘कला’ का प्रदर्शन कर रहे थे… Read more »
अरुण कान्त शुक्ला
Guest
अरुण कान्त शुक्ला
आदरणीय गोयल जी प्रथम तो आपको धन्यवाद लेख पसंद करने हेतु| हम शायद पिछले 100 वर्षों के सबसे खराब दौर से गुजर रहे हैं, जहां तक राजनीतिक और सामाजिक उत्तरदायित्वों का सवाल है| मुझे तो ऐसा लगता है की न तो देश का उपरी हिस्सा याने राजनेता और संपन्न लोग तथा संस्थाएं, न्यायपालिका को मिलाकर, सामाजिक सफाई और सुधार के लिए तैयार हैं और न ही सक्षम , क्योंकि वे तो 3000 साल के पूर्व के रोमनों के समान व्यवहार कर रहे हैं, जिनके बारे में कहा जाता है की न तो उनके पास नैतिकता थी, न इमानदारी और न… Read more »
RTyagi
Guest
लेख अति उत्तम लगा यह मार्गदर्शक है उन माता-पिता के लिए जो अपने औलाद की गलती को मानने और उन पर अंकुश लगाने के बजाये उनका पक्ष लेते हैं… इन माता पिता को पता ही नहीं होता की उनका बेटा या बेटी रात को एक-दो बजे कहाँ जा रहा है, किस संगत में रह रहा है, नशा दारु का सेवन कर रहा है …. ऐसे माता-पिता बिगड़े हुए और गैरजिम्मेदार नागरिकों को पैदा कर सड़कों पर खुला छोड़ रहे हैं.. जो की आवारा जानवरों की भांति देश और समाज के लिए घातक हैं… आशा है वे सबक लेंगे और गलतियों… Read more »
अरुण कान्त शुक्ला
Guest
अरुण कान्त शुक्ला

आदरणीय त्यागी जी ..धन्यवाद के साथ आपके विचारों का पूरा पूरा समर्थन है|

P.C. RATH
Guest

बेह्तर आलेख के लिये बधाइ

अरुण कान्त शुक्ला
Guest
अरुण कान्त शुक्ला

धन्यवाद रथ जी..

wpDiscuz