लेखक परिचय

संजय स्‍वदेश

संजय स्‍वदेश

बिहार के गोपालगंज में हथुआ के मूल निवासी। किरोड़ीमल कॉलेज से स्नातकोत्तर। केंद्रीय हिंदी संस्थान के दिल्ली केंद्र से पत्रकारिता एवं अनुवाद में डिप्लोमा। अध्ययन काल से ही स्वतंत्र लेखन के साथ कैरियर की शुरूआत। आकाशवाणी के रिसर्च केंद्र में स्वतंत्र कार्य। अमर उजाला में प्रशिक्षु पत्रकार। दिल्ली से प्रकाशित दैनिक महामेधा से नौकरी। सहारा समय, हिन्दुस्तान, नवभारत टाईम्स के साथ कार्यअनुभव। 2006 में दैनिक भास्कर नागपुर से जुड़े। इन दिनों नागपुर से सच भी और साहस के साथ एक आंदोलन, बौद्धिक आजादी का दावा करने वाले सामाचार पत्र दैनिक १८५७ के मुख्य संवाददाता की भूमिका निभाने के साथ स्थानीय जनअभियानों से जुड़ाव। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं के साथ लेखन कार्य।

Posted On by &filed under लेख.


संजय स्वदेश

पिछले दिनों राजस्थान में सांप्रदायिक हिंसा की घटना के बाद फिलहाल अभी ऐसा कोई राष्ट्रिय प्रसंग नहीं है कि धर्म की कट्टरता पर बहस हो। लेकिन प्रसंग नहीं होने की बाद भी इस मुद्दे पर चिंतन आवश्यक है। शांत महौल में देश के किसी न किसी हिस्से में हिंसक मजहबी हिलोरे उठती हैं। भले ही यह राष्ट्रिय सुर्खियां नहीं बनती हों, लेकिन जिस तरह से देश के अलग-अलग हिस्से में सांप्रदायिक हिंसा हो रहे हैं वह देश के लिए शुभ संकेत नहीं है।

सांप्रदायिक हिंसा सरकार के लिए एक चुनौती के तौर पर उभर रही है। देश भर में पिछले तीन साल में सांप्रदायिक हिंसा के 2,420 मामले सामने आए जिसमें कम से कम 427 लोगों की मौत हो गई। इन आंकड़ों औसत देंखे तो देश में किसी न किसी हिस्से में हर दिन दो सांप्रदायिक हिंसा हो रहे हैं। इस हिंसा में हर माह करीब 11 लोग मौत के घाट उतर रहे हैं। घायलों की संख्या अलग है। गृहमंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक इस साल अगस्त तक सांप्रदायिक हिंसा के 338 मामले सामने आए जिसमें 53 लोगों की मौत हुई, जबकि 1,059 लोग घायल हुए। गृहमंत्रालय भी मानता है कि केंद्र सरकार के लिए सांप्रदायिक हिंसा प्रमुख चिंता का विषय बन गया है। संबंधित राज्य सरकारों को इस तरह की घटनाओं से सख्ती से निपटने की सलाह भी दी गई है। क्योंकि सरकारी अमला यह मानता है कि सांप्रदायिक हिंसा का समाज पर दूरगामी प्रभाव पड़ता है। लेकिन सरकार के नेतृत्व थामने वाले किसी न किसी रूप में सांप्रदाय के दामन में राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश करते हैं, लिहाजा, उनकी कथनी और करनी में फर्क होना सहज है। यदि यह फर्क नहीं होता तो 2010 में सांप्रदायिक हिंसा की 651 घटनाओं में 114 लोगों की मौत हो गई और 2,115 व्यक्ति घायल हो गए। 2009 में सांप्रदायिक हिंसा की 773 घटनाओं में 123 लोगों की मौत हो गई जबकि 2,417 लोग घायल हुए। 2008 में सांप्रदायिक हिंसा की 656 घटनाओं में 123 लोगों की मौत हो गई जबकि 2,270 लोग घायल हुए।

ऐसी घटनाओं से समाज के रंगों में जिस जहर का प्रवाह होता है, वह राष्ट्र के लिए घातक है। राष्ट्रिय स्तर के अनेक ऐसी हिंसक घटनाओं के कारण देश अंतरराष्ट्रिय स्तर पर सुर्खियों में रहा है। उसका दंश आज भी समाज के सैकड़ों लोग भोग रहे हैं।

काल मार्क्स ने धर्म को अफीम की संज्ञा दी थी। मतलब यह है कि धर्म के प्रति लोगों की आस्था की हद नसेड़ी की अफीम की नशा की तरह है, जो हर कीमत पर नशा नहीं त्यागना चाहता है, भले ही वह उसे भीतर ही भीतर खोखला क्यों नहीं करती हो। समाज की इसी कमजोरी को हर समुदाय के कुछ लोगों ने अपने स्वार्थ को साधने का हथियार बनाया। भले ही इसकी बेदी पर सैकड़ों मासूमों के खून बह गये, पर क्रिया के विरुद्ध प्रतिक्रिया आदि तर्कों के नाम पर

उन्नमाद के इस जहर को रोकने के लिए समाज की ओर से कोई ठोस पहल की अभी भी दरकार है। केवल कठोर कानून से काम नहीं चलेगा। विषय पर गंभीर चिंतन की जरूरत है। हर कारणों की पड़ताल भी जरूरी है। देखें और परखे, कहां चूक हो रही है। समाज में ऐसी शिक्षा का प्रसार किया जाना चाहिए जिससे कि सांप्रदायिक हिंसा का जहर समाज के नसों में न घुल पाएं।

 

 

Leave a Reply

2 Comments on "समाज के नशे में घुलता उन्नाद का जहर"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
vimlesh
Guest
अनुकरणीय है तजाकिस्तान का नया नियम अमन पसंद मुसलमानों के लिए तजाकिस्तान का नया नियम अनुकरणीय है . मुस्लिम बहुल तजाकिस्तान की सरकार ने धार्मिक उन्माद को नियंत्रित करने के उद्देश्य से अट्ठारह साल से कम उम्र के युवकों को मस्जिदों में जाकर नमाज़ अदा करने पर आज से प्रतिबन्ध लगा दिया गया है. इस बात से यह स्पष्ट संकेत मिलता है कि तजाक सरकार को विवश हो कर यह क़ानून बनाना पड़ा है. जब सामान्य समझाइश से काम नहीं चलता, क़ानून तभी बनाया जाता है. सरकार की सोच यह रही कि अट्ठारह वर्ष से कम उम्र के युवक धर्म… Read more »
इक़बाल हिंदुस्तानी
Guest
आपने बहुत अच्छे मुद्दे पर कलम चलाई है। आपको हार्दिक बधाई आज दुनिया में जब तमाम मसले आपसी बातचीत और प्यार मुहब्बत से सुलझाने की कोशिशें की जा रही हैं, ऐसे में धर्म, जाति और कट्टरता के नाम पर देश में दंगे होते रहना न केवल चिंता की बात है बल्कि हमारे लिये शर्म की भी बात है। यह ठीक है कि जब तक लोगों के दिमाग से साम्प्रदायिकता, संकीर्णता और हिंसा नहीं निकलती तब तक ऐसे फसादों को पूरी तरह से रोकना मुश्किल है लेकिन अफसोस तो तब होता है जब इन उन्मादों को रोकने वाली पुलिस, प्रशासन और… Read more »
wpDiscuz