लेखक परिचय

एम. अफसर खां सागर

एम. अफसर खां सागर

एम. अफसर खां सागर धानापुर-चन्दौली (उत्तर प्रदेश) के निवासी हैं। इन्होने समाजशास्त्र में परास्नातक के साथ पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। स्वतंत्र पत्रकार , स्तम्भकार व युवा साहित्यकार के रूप में जाने जाते हैं। पिछले पन्द्रह सालों से पत्रकारिता एवं रचना धर्मीता से जुड़े हैं। राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न अखबारों , पत्रिकाओं और वेब पोर्टल के लिए नियमित रूप से लिखते रहते हैं। Mobile- 8081110808 email- mafsarpathan@gmail.com

Posted On by &filed under महत्वपूर्ण लेख.


-एम. अफसर खां सागर-   humanity

फक्र से कहो कि मैं हिन्दू हूं, किसी कोने से एक मध्म सी आवाज और नुमाया होगी कि मैं मुसलमान हूं। हमें तो बस लड़ना है वो लड़ाई चाहे राम के नाम पर हो या रहमान के नाम पर। तुम हिन्दुस्तान में बाबरी मस्जिद तोड़ोगे वो बामयान में बुद्ध की प्रतिमा। जरा सोचो, आखिर टूटना तो इंसान को ही है। इस पर भी तुम्हारा तर्क होगा कि नहीं, यहां मुसलमान टूटा तो वहां हिन्दू। तोड़ने वालों मुझे भी तोड़ना बहुत पसंद है, अगर तुम साम्प्रदायिकता के दावानल को तोड़ सको। चन्द महीने पहले मुजफ्फरनगर में क्या हुआ? कुछ हिन्दुओं के और कुछ मुसलमानों के घर टूटे, आत्मा टूटीं। ऐसे तो पूरे मुल्क में कुछ न कुछ हरदम टूट रहा है। फिर क्या हुआ, आखिर क्यों इतना हो हल्ला मचा हुआ है। जरा किसी ने उन टूटने वालों से पूछा कि किसने आखिर क्यों तुम्हें और तुम्हारे जीने के सलीके को तोड़ दिया?

साठ साल से ज्यादा का अरसा हो चुका है हमें अंग्रेजों के गुलामी के जंजीरों को तोड़े हुए मगर क्या हासिल हुआ। आजाद हुए जब आपस में एक-दूसरे को हम तोड़ने पर आमादा हैं। अगर कुछ तोड़ना है तो मुसलमान तुम मस्जिदों को और हिन्दू तुम मन्दिरों को तोड़ो! आखिर ऐसे धर्म की क्या जरूरत है जो हमें आपस में लड़ना सिखाता हो। किस राम ने और किस रहीम ने धर्म की कौन सी किताब में कहां लिखा है कि हम आपसी भाईचारा को भुला कर एक-दूसरे को कत्ल करें? बदलते सामाजिक परिवेश में मानवीय नजरिया पर राजनीति का गहरा अक्स पड़ा है। धर्म-जात में बंटते समाज में फिरकापरस्त ताकतें लोगों को लड़ाकर अपना उल्लू सीधा करना बखूबी सीख लिया है। राजनीतिक दल लोगों को समुदाय, जात में बांट कर सियासी फायदा उठाने का फण्डा चला रहे हैं। ऐसे में सवाल साम्प्रदायिक दंगें होने व उसमें सरकारी अमला की मुस्तैदी का नहीं रहा, यहां सवाल राजनैतिक दलों के नीयति का है।

मुजफ्फरनगर पश्चिमी उत्तर प्रदेश का वह इलाका है जहां बाबरी विध्वंश के वक्त भी वो नहीं हुआ जो चार महीने पहले हो गया। दंगा के दावानल में सब लुट गया। अमन, चैन, भाईचारा अब बेमानी सी लगती है। धर्म जिसे लोग जीवन का पद्धति माने हैं, वो भी इन्हें लड़ने से नहीं रोक सका। यहां एक सवाल जेहन में पैदा होना लाजमी है कि जब दंगों को धर्म के नाम भड़गया गया तो वैसे धर्म की हमें क्या जरूरत है जो अनदेखी के लिए यहां मुराद राम व रहीम से है जिसे हमें कभी नहीं देख उसके नाम पर हमें लड़ाया जा रहा है और जिसे हम रोज देखते हैं, मिलते हैं। अपना दुख-दर्द बांटते हैं, उसी को मारने पर आमादा हैं। जरा सोचिए कि हमें राम व रहीम ने क्या दिया है? कुछ नीतियां, जिन्दगी जीने का सलीका, जिन्हें हम शायद कभी अमल में ही नहीं ला सके। हमें मन्दिर-मस्जिद का तो खूब ख्याल रहा मगर आपसी सद्भाव को भूल गये। शायद अब वक़्त नहीं बचा हिन्दु-मुसलमान के नाम पर लड़ने का। मन्दिर-मस्जिद की भव्य ईमारत के बुनियाद का चक्कर छोड़कर, उसकी नीतियों, सिद्धान्तों को अपनाने का समय है।

साम्प्रदायिकता के बन्द दरवाजे, खिड़कियां व रोशनदान को खोलकर, सद्भाव व भाईचारे की रोशनी को समाज व मुल्क में लाने की जरूरत है। सद्भाव की रोशनी से कुछ लोगों की आखें जरूर चौंधिया जायेंगी और जिन्होंने अंधेर नगरी का साम्राज्य कायम कर रखा हो, शायद उन्हें अब भी अंधेरा ही पसंन्द हो। वो जरूर कहेंगे कि हमें धर्म, कट्टरता, मन्दिर-मस्जिद ही पसंद है। मगर वक्त की आवाज को सुनना बेहद जरूरी है, सामाजिक समरसता व सद्भाव को कायम करने की जरूरत है। वर्ना हमसे तो अच्छा वो जानवर हैं, जिनमें धर्म का भेदभाव नहीं। ना तो वे हिन्दु हैं ना मुसलमान। न उनके पास मन्दिर है और ना ही मस्जिद। आपने कबूतर को देखा है, कभी वो मन्दिर पर तो कभी मस्जिद के गुम्बद पर बैठा रहता है। शायद व धर्म की चारदीवारी से उपर है। जरा सोचिए, कितना अच्छा होता कि हम जानवर ही होते! कम से कम हम धर्म-मजहब के नाम पर तो नही लड़ते। कितना अच्छा होता अगर ये मन्दिर ना होते, ये मस्जिद ना होते! फिर भी कुछ न कुछ जरूर टूटता तब शायद इंसान न टूटते। इंसानों का गुरूर, घमण्ड टूटता। आज जरूरत धर्म, जाति, मन्दिर-मस्जिद के नाम पर लड़ने का नहीं है। वक्त है गुरबत, बेकारी व भ्रष्टाचार से लड़ने का। वक्त है साम्प्रदायिकता के फैलते दावानल को रोकने का।

Leave a Reply

9 Comments on "तोड़ना ही है तो मन्दिर और मस्जिद तोड़ो!"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
आर. सिंह
Guest

इस आलेख पर न जाने मेरी नजर पहले क्यों नहीं पडी?पर आज जब मैं इसको पढ़ रहा हूँ,तो एक स्पष्ट अंतर साफ़ दिख रहा है.कुछ इंसानों ने तो इसकी सराहना की है,पर दूसरे संकीर्ण धार्मिक दीवारों को नहीं तोड़ सके हैं.यहीं इंसान और इंसानियत की हत्या हो जाती और ऊपर वाला,(अगर कोई है),तो दुखी हो जाता है कि इन दोपायों को बनाकर कहीं उसने गलती तो नहीं कर दी?

salim quraishi
Guest

assalam alekum
masha allah afsar bhai bohut achcha likhte ho aap

Hemant Kumar Gour
Guest

एक बर्बर आततायी, अत्याचारी विदेशी हमलावर की गुलामी की प्रतीक “बाबरी मस्जिद” को ढहाने पर इतना शोर करना भी तो अच्छी बात नहीं है भाई
क्या हिन्दुओं के आराध्य और मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम बाबर जैसे घटिया जानवर में कहीं समानता दिखाई देती है आपको ?

डॉ. मधुसूदन
Guest
अवश्य -कोई भी हिंसा का प्रोत्साहन नहीं होना चाहिए। सुझाव ===> (१) कुछ इतिहासकारों के अनुसार ७०,००० मंदिरों को तोडकर उनकी नीवँ पर मस्जिदें खडी की जा चुकी है। यह हुआ है, बचे खुचे भारत में (भी)। (२)पाकिस्तान, बंगलादेश, अफगानीस्तान इत्यादि में तो आप का यह आलेख कोई छाप भी शायद ही देगा। (३) तो संभवित ७०,००० मस्जिदों में से जिस स्थानपर राम का जन्म हुआ था, उस मस्जिद के स्थान पर राम मंदिर बनें। यह न्याय्य है। बाबरी मस्जिद (?) में बाबर जन्मा नहीं था, यदि थी भी,तो वह सामान्य मस्जिद थी। पर हिंदुओंके लिए यह सामान्य वास्तु्-स्थान नहीं… Read more »
इक़बाल हिंदुस्तानी
Guest

अफसर आपका लेख पढ़कर दिल खुश हुआ लेकिन दोस्त धर्म के नाम पर सियासत करनेवालों कि जितनी गलती है उस से ज़यादा उन कटटर और भावुक अंधभक्तों कि है जो बहकाने में आ जाते हैं.

एम. अफसर खां सागर
Guest

शुक्रिया आपका!

wpDiscuz