लेखक परिचय

अन्नपूर्णा मित्तल

अन्नपूर्णा मित्तल

एक उभरती हुई पत्रकार. वेब मीडिया की ओर विशेष रुझान. नए - नए विषयों के लेखन में सक्रिय. वर्तमान में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से पत्रकारिता में परस्नातक कर रही हैं. समाज के लिए कुछ नया करने को इच्छित.

Posted On by &filed under खान-पान.


सामग्री (Ingredients)

200 ग्राम मैदा (200gm maida)

आधा चम्मच यीस्ट (half spoon yeast)

2 कप पानी (2 cup water)

तलने के लिये घी (oil to fry)

400 ग्राम चीनी (400gm sugar)

200 ग्राम पानी (200gm water)

1 टेबल स्पून दूध (1 tbs milk)

एक चुटकी केसर (a pinch of kesar)

 

विधि – (process)

यीस्ट के दाने आधा कप गुनगुने पानी में 10 – 12 मिनिट के लिये भिगा दीजिये। एक बर्तन में मैदा और यीस्ट का घोल डालें, मैदा में गुठलिया खतम होने तक पानी डाल कर पकोड़े जैसा घोल बनायें। घोल अधिक गाढ़ा या पतला न हो। इस घोल को करीब 12 घंटे के लिये ढककर रख दीजिये। 12 घंटे के अन्दर इस घोल में खमीर उठ आयेगा और घोल जलेबी बनाने के लिये तैयार हो जायेगा।

आब जलेबी बनाने के लिये पहले चाशनी तैयार कर लीजिये। एक बर्तन में चीनी और पानी मिला कर गरम होने के लिये रख दीजिये। पानी में उबाल आने के बाद उसमें दूध डाल दीजिये और जो गन्दे से झाग आयें उसे एक कलछी से प्लेट में निकाल कर हटा दीजिये। चाशनी बिलकुल पारदर्शक बनती है। अब इस चाशनी में केसर की पत्तियां डाल दें और धीमी आग पर 4-5 मिनिट उबलने दीजिये, इस तरह एक तार की चाशनी बना कर तैयार कर लीजिये।

मैदा के मिश्रण को अच्छी तरह फैंट लीजिये। जलेबी बनाने के लिये कढ़ाई अलग तरीके की होती है। वह ज्यादा चौड़ी और गहरी कम होती है।

कढ़ाई में घी डालकर गरम कीजिये। जलेबी बनाने के लिये एक विशेष प्रकार का कपड़ा या डिब्बा बाजार में मिलता है। हम जलेबी बनाने के लिये दूध की थैली से निकली प्लास्टिक का उपयोग भी कर लेते हैं

खमीर उठे मैदा के मिश्रण को अच्छी तरह से फैंट लीजिये। अब मिश्रण को जलेबी बनाने वाले डिब्बे या थैली में भरकर इसकी की धार हाथ को गोल गोल चलाते हुये कढ़ाई में डालें। जितनी जलेबी कढ़ाई में आ जाय उतनी जलेबी कढ़ाई में डाल दें। इन जलेबियों को पलट पलट कर गुलाबी होने तक सेके। सिंकी हुई जलेबियाँ कढ़ाई से निकाल कर चाशनी में डालें। 5 मिनिट बाद चाशनी से निकाल कर प्लेट में रखें। इसी तरह सारी जलेबियाँ तैयार कर लें।

 

परोसने का तरीका (process of serving) – जलेबियाँ तैयार हैं। गरमा गरम जलेबियाँ परोसिये और खाइये। सर्दियों मे तो गरम जलेबियाँ खाने का अपना ही अलग मज़ा है।

 

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz