लेखक परिचय

अन्नपूर्णा मित्तल

अन्नपूर्णा मित्तल

एक उभरती हुई पत्रकार. वेब मीडिया की ओर विशेष रुझान. नए - नए विषयों के लेखन में सक्रिय. वर्तमान में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से पत्रकारिता में परस्नातक कर रही हैं. समाज के लिए कुछ नया करने को इच्छित.

Posted On by &filed under खान-पान.


सामग्री (Ingredients)

400 ग्राम मैदा (400gm maida)

100 ग्राम रिफाइन्ड तेल (100gm refined oil)

स्वादानुसार नमक (salt to taste)

पिठ्ठी बनाने के लिये (for making stuff)

70 ग्राम धुली उरद दाल (70gm washed urad dal)

1-2 पिंच हींग (1-2 pinch of Asafetida)

एक चौथाई छोटी चम्मच जीरा (1/4 small spoon cumin)

एक छोटी चम्मच धनियाँ पाउडर (1 small spoon coriander powder)

एक छोटी चम्मच सोंफ पाउडर (1 small spoon sonf powder)

आधा छोटी चम्मच गरम मसाला (half small spoon garam masala)

2 बारीक कटी हुई हरी मिर्च (2 finelly chopped green chilli)

बारीक कटा हुआ अदरक (finelly chopped ginger)

2 टेबल स्पून बारीक कटा हरा धनियाँ (2 tbs finelly chopped green coriander leaves)

स्वादानुसार नमक (salt to taste)

तलने के लिये तेल (oil to fry)

 

विधि – (process)

सबसे पहले दाल को 3-4 घंटे पहले पानी में भिगो दीजिये। मैदा में तेल और नमक डाल कर मिला दीजिये, पानी की सहायता से मैदा को, पराठे के लिये गूंथे गये नरम आटे की तरह नरम गूंथ लीजिये, गुंथे हुये आटे को 20 मिनिट के लिये ढककर सैट होने के लिये रख दीजिये।

भीगी हुई दाल को मिक्सी में मोटा मोटा पीस लीजिये। कढ़ाई में 2 -3 टेबल स्पून तेल डालिये जब तेल गरम हो जाय तो उसमें जीरा, हींग, धनियाँ पाउडर, सौंफ पाउडर, हरी मिर्च ओर अदरक डाल दीजिये, मसाले को भूनिये। मसाला को हल्का सा भुनने के बाद, पिसी हुई दाल डाल कर मसाले में मिलाइये ओर दाल को चमचे से चलाते हुये भूनिये, जब दाल ब्राउन हो जाय, तब हरा धनियाँ और गरम मसाला मिला कर 2 मिनिट और भून लीजिये। कचौड़ियों में भरने के लिये दाल की पिठ्ठी तैयार है।

कचौड़ियाँ तलने के लिये कढ़ाई में तेल डाल कर गैस पर रख दीजिये। गुंथे हुये मैदे के बराबर के 20 गोले बना लीजिये। एक गोले को चकले पर बेलन की सहायता से थोड़ा सा बेलें और उसमें एक छोटी चम्मच भर के दाल रख दीजिये। चारों ओर से आटा उठायें और दाल को बन्द कर दीजिये, दाल भरे गोले को हथेली से दबाकर चपटा करें और फिर बेलन की सहायता से कम ताकत लगाकर उसे 3-4 इंच के व्यास में बेल लीजिये, वह फटनी नहीं चाहिये, कचौड़ी थोड़ी मोटी ही रखनी है। बेली गई कचौड़ी गरम तेल में डालें और पलट पलट कर दोंनो ओर ब्राउन होने तक धीमी और मीडियम गैस पर कुरकुरी तलें, तली हुई कचौड़िया कढ़ाई से निकालिये और प्लेट मे नैपकिन के ऊपर रखिये। एक साथ तीन या चार कचौड़ियाँ एक बार में तली जा सकती हैं। सारी कचौड़ियाँ बनाकर तलकर तैयार कर लीजिये।

 

परोसने का तरीका (process of serving) – तैयार हैं खस्ता कचौरियाँ। ये गोल गोल खस्ता कचौड़ियाँ हरे धनिये की चटनी और आलू की सब्जी के साथ परोसिये और खाइये।

 

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz