लेखक परिचय

गंगानन्द झा

गंगानन्द झा

डी.ए.वी स्नातकोत्तर महाविद्यालय में वनस्पति शास्त्र के प्राध्यापक के पद से सेवानिवृत होने के पश्चात् चण्डीगढ़ में गत पन्‍द्रह सालों से रह रहे गंगानंद जी को लिखने पढ़ने का शौक है।

Posted On by &filed under साहित्‍य.


-गंगानंद झा-

hindu urdu

बात सन् 1989 की है, ‘बाबरी मस्जिद-राम मन्दिर’ का हंगामा चल रहा था, तभी कुछ दोस्तों ने  शहर की दीवालों पर जगह-जगह चिपके बहुत सारे पोस्टर्स की ओर ध्यान दिलाया । ये पोस्टर्स उर्दू में थे,  इनके मज़मून के बारे में कहा जा रहा था कि मुसलमानों को बाबरी मस्जिद के नाम पर भड़काया जा रहा है । मैंने अपनी ‘अलीफ-बे-पे’ की जानकारी की मशक्क़त की तो पाया कि वह  कौमी एकज़हदी पर भारत सरकार के सामान्य इश्तहारों में से एक था । पर मेरे  दोस्तों ने मेरी उर्दू की जानकारी को सर्टिफिकेट देने से इनकार कर दिया । हिन्दी-उर्दू के बीच पुल का न होना कितना खतरनाक़ हो सकता है, यह बात ऊपरी उदाहरण से साफ हो जाती है । भाषा  किसी जगह में रहने वालों के बीच सरोकार कायम रखने का अहम जरिया होती है, इसलिए एक सीमित जगह में भाषा का एक ही रूप होता है । इस मानी में हिन्दी-उर्दू विसंगति (incompatibility ) पेश करते हैं कि दोनों एक ही इलाक़े से सम्बन्धित हैं । इसका नतीजा होता है कि एक साथ रहते हुए भी इन दो भाषा भाषी लोगों के बीच संवाद का रिश्ता ठीक ठीक बन नहीं पाता ।  हिन्दी-उर्दू इन दो भाषाओं के बीच mutual exclusiveness का रिश्ता हो जैसे । भाषा माँ की तरह हमें पालती है । माँ के लिए प्यार के एहसास के बारे में कहीं पढ़ा था, ‘ हमें माँ के लिए अपने जज़बे की गहराई का सही एहसास माँ के चले जाने के बाद ही हो पाता है ।’ हम हिन्दी-उर्दू वाले तो अपनी माँ की पहचान भी नहीं रखते । इससे हमारी अपनी शख्सियत बेअसर तो नहीं रह सकती । भाषा हमें अपने आप से पहचान कराती है,इसे मैं एक दिलचस्प तजुर्बे से बयान करना चाहूँगा ।

यह तब की बात है जब मैं कॉलेज में पढ़ाया करता था। हमारे प्रिंसिपल संस्कृत, पाली और हिन्दी के विद्वान थे, साथ ही बहुत ही सीधे और भले;  लोगों की इतनी इज्जत करते कि सामने वाले को मुग़ालता हो जाए । दो आदमियों ने उन्हें  परेशान किया हुआ था, एक कॉलेज के सेक्रेटरी जो उनकी नियुक्ति को स्थाई नहीं कर रहे थे और दूसरे जवाहरलाल नेहरु जिनकी वज़ह से , उनके अनुसार, भारत हिन्दू-राष्ट्र नहीं बन पाया । मैंने एक दिन बातों बातों में उनसे कहा, ‘ सर, एक सवाल पूछना है;  कभी ऐसा हो कि आपको लंबे समय के लिए तमिल ब्राह्मणों के साथ रहने का मौका मिले और फिर वहाँ भोजपुरी बोलनेवाला दाढ़ी वाला मौलवी मिले  , तो आपको किसके साथ ज्यादह अच्छा लगेगा ‘प्रिन्सिपल साहब की ऑंखे चमक उठी,  बरजस्ता उनके मुँह से निकल पड़ा,’ “हँऽजी, उहाँ तो मौलविये आपऽन आ नीमन लागी।

Leave a Reply

1 Comment on "भाषा और समाज"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
डॉ.अशोक कुमार तिवारी
Guest
डॉ.अशोक कुमार तिवारी
कॉरपोरेट जगत रिलायंस में तो राष्ट्र और राष्ट्रभाषा हिंदी दोनों के खिलाफ बोला जाता है :————-14 सितम्बर 2010 (हिंदी दिवस) के दिन पाकिस्तानी बार्डर से सटे इस इलाके में रिलायंस स्कूल जामनगर ( गुजरात) के प्रिंसिपल श्री एस. सुंदरम बच्चों को माइक पर सिखाते हैं “हिंदी राष्ट्रभाषा नहीं है, बड़ों के पाँव छूना गुलामी की निशानी है, गाँधीजी पुराने हो गए उन्हें भूल जाओ——- बार-बार निवेदन करने पर मोदी कुछ नहीं कर रहे हैं कारण ‌ – हिंदी विरोधी राज ठाकरे से मोदी की नजदीकियाँ ( देखिए राजस्थान पत्रिका- 30/1/13 पेज न.01), गुजरात हाई कोर्ट का निर्णय कि गुजरातियों के… Read more »
wpDiscuz