लेखक परिचय

पंडित दयानंद शास्त्री

पंडित दयानंद शास्त्री

ज्योतिष-वास्तु सलाहकार, राष्ट्रीय महासचिव-भगवान परशुराम राष्ट्रीय पंडित परिषद्, मोब. 09669290067 मध्य प्रदेश

Posted On by &filed under ज्योतिष.


(यदि अपना कमरा ऐसा बनाया वास्तु अनुसार)–

वास्तु के अनुसार हर उम्र के लोगों के लिए अलग-अलग तरह का कमरा होना चाहिए। घर के हर कमरे से एक अलग सकारात्मक और नकारात्मक उर्जा निकलती है। वास्तु के अनुसार कमरों से निकलने वाली ये उर्जा हमारी जीवनी शक्ति पर असर डालती है।

वास्तु के अनुसार कमरे को बदल दिया जाए तो आप में नई उर्जा का संचार होने लगेगा। इससे बढ़ती हुई उम्र भी थम सी जाती है। इससे आपके विचार और भावनाएं बदल जाती हैं। जिंदगी को खुल के जीने की शक्ति और उतसाह मिलने लग जाता है। अगर आप बोर हो चुके हैं अपनी घिसी-पिटी जिंदगी से, आप चाहते हैं कि आपका जीवन जींदगी के नए रंगों में रंग जाए तो वास्तू के अनुसार अपने कमरें को कुछ इस तरह सजाएं

यदि आप अविवाहित हैं। आप की अब तक शादी नहीं हुई है, आप चाहते हैं कि आपकी शादी जल्दी हो जाए तो, वास्तु के अनुसार अपने कमरे की सजावट करें।

 

बच्चों के लिए—-

– बच्चों के रूम में हल्के रंगो का इस्तमाल होना चाहिए।

– कमरों के परदे भी हल्के रंग जैसे क्रीम या बेबी पिंक के होना चाहिए।

– पढ़ाई की टेबल उत्तर दिशा में होना चाहिए।

 

बेचलरर्स के लिए—-

अविवाहित युवाओं को कभी भी दरवाजे की ओर सिर या पैर करके नहीं सोना चाहिए।

– यदि शादी नहीं हो रही तो कमरे में कभी भी हरा पौधा या गुलदस्ता गलती से भी ना रखें क्योंकि फेंगशुई के अनुसार पौधों में लकड़ी तत्व होता है और वो येंग ऊर्जा का प्रतीक मानी जाती है। ये ऊर्जा शादी में रूकावट पैदा करती है।

– युवाओं के लिए दक्षिण-पश्चिम कोने वाला कमरा सबसे अच्छा रहता है।

– टी.वी., रेडियो, कम्प्यूटर आदि भी शयनकक्ष में रखना फेंगशुई के अनुसार शुभ नहीं माना जाता है।

 

शादीशुदा लोगों के लिए—-

– नेऋत्य कोण में प्रेमी युगल का चित्र लगाएं। लव बर्डस का चित्र भी लगा सकते है।

– शयन कक्ष में हल्के गुलाबी रंग के परदे लगाएं।

– कमरे की दिवारों का रंग क्रीम या हल्का पिंक होना चाहिए।

 

 

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz