लेखक परिचय

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

Posted On by &filed under गजल.


परमजीत सिंह

l !

क्या खूब कर रही है चर्चा मेरी वफ़ा का !

 

वो आये गर हमारे पहलु में पूछ लेंगे ?

क्या तुमने बना रक्खा है चेहरा मेरी वफ़ा का !

 

इक तुम ही मिले हो जो मुझे जानते नहीं ?

हर शक्स जानता है किस्सा मेरी वफ़ा का !

 

सच बात है के उसमें ये खासियत है देखी ?

कितने बरस है रक्खा पर्दा मेरी वफ़ा का !

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz