लेखक परिचय

शकुन्तला बहादुर

शकुन्तला बहादुर

भारत में उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ में जन्मी शकुन्तला बहादुर लखनऊ विश्वविद्यालय तथा उसके महिला परास्नातक महाविद्यालय में ३७वर्षों तक संस्कृतप्रवक्ता,विभागाध्यक्षा रहकर प्राचार्या पद से अवकाशप्राप्त । इसी बीच जर्मनी के ट्यूबिंगेन विश्वविद्यालय में जर्मन एकेडेमिक एक्सचेंज सर्विस की फ़ेलोशिप पर जर्मनी में दो वर्षों तक शोधकार्य एवं वहीं हिन्दी,संस्कृत का शिक्षण भी। यूरोप एवं अमेरिका की साहित्यिक गोष्ठियों में प्रतिभागिता । अभी तक दो काव्य कृतियाँ, तीन गद्य की( ललित निबन्ध, संस्मरण)पुस्तकें प्रकाशित। भारत एवं अमेरिका की विभिन्न पत्रिकाओं में कविताएँ एवं लेख प्रकाशित । दोनों देशों की प्रमुख हिन्दी एवं संस्कृत की संस्थाओं से सम्बद्ध । सम्प्रति विगत १८ वर्षों से कैलिफ़ोर्निया में निवास ।

Posted On by &filed under कविता, साहित्‍य.


indianwomen हरिश्चन्द्र से पति के हाथों,बिकी शैव्या थी सतयुग में ।
निर्वासित हुई श्री राम के द्वारा , सीता त्रेता युग में ।।
छला इन्द्र ने और अहिल्या,शापित हुई निज पति के द्वारा ।
दमयन्ती भी त्यक्त हुई थी , द्यूतपराजित नल के द्वारा ।।
पंचपती न बचा सके थे, लाज द्रौपदी की द्वापर में ।

यशोधरा को सोते में ही , त्याग गए गौतम कलियुग में।।
वर्तमान का कहना ही क्या, हुई प्रताड़ित हर पल नारी ।
निज वर्चस्व दिखाते हैं  सब, संकट नारी पर है भारी ।।

शकुन्तला बहादुर

Leave a Reply

3 Comments on "नारी"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
आर.सिंह
Guest

कविता सुन्दर है और नारी के त्याग को दर्शाती है,पर एक प्रश्न भी छोड़ जाती है.सनातनी लोग महात्मा बुद्ध को ईश्वर का नौवां अवतार मानते हैं.अगर वे कलियुग में पैदा हुए थे,तो फिर किस कल्कि अवतार की प्रतीक्षा हो रही है?

डॉ. मधुसूदन
Guest
डॉ. मधुसूदन

(१)
कोमलता न होती।
ऋजुता न होती,
दया न होती।
करूणा न होती।
सारी गुणवत्ता,
सुन्दरता न होती।
संसार में यदि,
नारी न होती।
(सू. सारे गुण कोमलता,
ऋजुता,दया, करूणा,
गुणवत्ता, सुन्दरता
—इ. स्त्रीलिंगी हैं।)
(२)
सीता है, मूक त्याग
तो ही बडे राम है।
राम के आदर्श, पीछे
सीता का त्याग है।
……….
यह, स्मरण दिलाने के लिए, धन्यवाद।

बी एन गोयल
Guest
बी एन गोयल

बहुत सुन्दर – कुछ ऐतिहासिक/ पौराणिक सच

wpDiscuz