लेखक परिचय

प्रभुदयाल श्रीवास्तव

प्रभुदयाल श्रीवास्तव

लेखन विगत दो दशकों से अधिक समय से कहानी,कवितायें व्यंग्य ,लघु कथाएं लेख, बुंदेली लोकगीत,बुंदेली लघु कथाए,बुंदेली गज़लों का लेखन प्रकाशन लोकमत समाचार नागपुर में तीन वर्षों तक व्यंग्य स्तंभ तीर तुक्का, रंग बेरंग में प्रकाशन,दैनिक भास्कर ,नवभारत,अमृत संदेश, जबलपुर एक्सप्रेस,पंजाब केसरी,एवं देश के लगभग सभी हिंदी समाचार पत्रों में व्यंग्योँ का प्रकाशन, कविताएं बालगीतों क्षणिकांओं का भी प्रकाशन हुआ|पत्रिकाओं हम सब साथ साथ दिल्ली,शुभ तारिका अंबाला,न्यामती फरीदाबाद ,कादंबिनी दिल्ली बाईसा उज्जैन मसी कागद इत्यादि में कई रचनाएं प्रकाशित|

Posted On by &filed under कविता, साहित्‍य.


इधर रोये बिटिया उधर रोये बिटिया

पढ़ पढ़ के पा पा की प्यारी सी चिठिया|

भईयों ने अपनी गृहस्थी सजा ली

पापा से सबने ही दूरी बना ली

अम्मा की तबियत हुई ढीली ढाली

उन्हें अब डराती है हर रात काली

सुबह शाम हाथों से खाना बनाना

धोना है बरतन और झाड़ू लगाना

जीने का बस एक ये ही बहाना

बुढ़ापे का कंधे पर बोझा उठाना

इन्हीं दुख गमों से पकड़ ली है खटिया

इधर रोये बिटिया उधर रोये बिटिया

पढ़ पढ़ के पापा की प्यारी सी चिट्ठियाँ|

सदा से रहे घर में पैसों के लाले

पापा शुरू से बड़े भोले भाले

जवानी में मां थी भली और चंगी

बुढ़ापे में छूटे सभी साथी संगी

पापा का घर से यूं पैदल निकलना

बहुत ही कठिन है सड़क पार करना

घिसटते घिसटते ही बाज़ार जाना

सब्जी का लाना और गेहूं पिसाना

रखे सिर पे गठरी बहुत दूर चकिया

इधर रोये बिटिया उधर रोये बिटिया

पढ़ पढ़ के पापा की प्यारी सी चिट्ठियाँ |

पापा ने बच्चों कॊ हंस कर पढ़ाया

जो भी कमाया उन्हीं पर लगाया

अपने लिये भी तो कुछ न बचाया

न खेती खरीदी न घर ही बनाया

अम्मा बेचारी रहीं सीधी सादी

बेटों की हंसकर गृहस्थी बसा दी

न मालूम मुक्क्दर ने फिर क्यों सजा दी

बुढ़ापे में बिलकुल ही सेहत गिरा दी

न दिखती कहीं पर सहारे की लठिया

इधर रोये बिटिया उधर रोये बिटिया

पढ़ पढ़ के पापा की प्यारी सी चिट्ठियाँ |

 

 

Leave a Reply

6 Comments on "कविता ; बिटिया – प्रभुदयाल श्रीवास्तव"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Babitaa Wadhwnai
Guest

अच्छे शब्दो का चुनाव है। अच्छी लगी।.

प्रभुदयाल श्रीवास्तव
Guest
prabhudayal Shrivastava

Thanks to all viewers

डॉ. मधुसूदन
Guest

ह्रदय को छू गयी आपकी कविता|
धन्यवाद|

मुकेश चन्‍द्र मिश्र
Member

खुबसूरत कविता के लिए कवि हार्दिक बधाई….

sangeet shrivastava
Guest

अच्छी लगी बिटिया कविता

wpDiscuz