लेखक परिचय

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'

मीणा-आदिवासी परिवार में जन्म। तीसरी कक्षा के बाद पढाई छूटी! बाद में नियमित पढाई केवल 04 वर्ष! जीवन के 07 वर्ष बाल-मजदूर एवं बाल-कृषक। निर्दोष होकर भी 04 वर्ष 02 माह 26 दिन 04 जेलों में गुजारे। जेल के दौरान-कई सौ पुस्तकों का अध्ययन, कविता लेखन किया एवं जेल में ही ग्रेज्युएशन डिग्री पूर्ण की! 20 वर्ष 09 माह 05 दिन रेलवे में मजदूरी करने के बाद स्वैच्छिक सेवानिवृति! हिन्दू धर्म, जाति, वर्ग, वर्ण, समाज, कानून, अर्थ व्यवस्था, आतंकवाद, नक्सलवाद, राजनीति, कानून, संविधान, स्वास्थ्य, मानव व्यवहार, मानव मनोविज्ञान, दाम्पत्य, आध्यात्म, दलित-आदिवासी-पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक उत्पीड़न सहित अनेकानेक विषयों पर सतत लेखन और चिन्तन! विश्लेषक, टिप्पणीकार, कवि, शायर और शोधार्थी! छोटे बच्चों, वंचित वर्गों और औरतों के शोषण, उत्पीड़न तथा अभावमय जीवन के विभिन्न पहलुओं पर अध्ययनरत! मुख्य संस्थापक तथा राष्ट्रीय अध्यक्ष-‘भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान’ (BAAS), राष्ट्रीय प्रमुख-हक रक्षक दल (HRD) सामाजिक संगठन, राष्ट्रीय अध्यक्ष-जर्नलिस्ट्स, मीडिया एंड रायटर्स एसोसिएशन (JMWA), पूर्व राष्ट्रीय महासचिव-अजा/जजा संगठनों का अ.भा. परिसंघ, पूर्व अध्यक्ष-अ.भा. भील-मीणा संघर्ष मोर्चा एवं पूर्व प्रकाशक तथा सम्पादक-प्रेसपालिका (हिन्दी पाक्षिक)।

Posted On by &filed under महत्वपूर्ण लेख, विश्ववार्ता.


डॉ. पुरुषोत्तम मीणा ‘निरंकुश’

1-भारत सरकार का ये नैतिक, मानवीय, धार्मिक, राष्ट्रीय, संवैधानिक और वैश्‍विक फर्ज है कि वह अपने स्तर पर कूटनीतिक प्रयासों के जरिये पाकिस्तान की सरकार को कड़ा सन्देश दे कि मानवता का मजाक उड़ाने वाले और हिन्दू बहन-बेटियों के साथ कुकर्म करने वाले नापाक वहशी दरिन्दों को कड़ी सजा दी जाये और पाकिस्तान के सभी हिन्दुओं को सम्पूर्ण सुरक्षा मुहैया करवायी जाये, अन्यथा इससे जहॉं एक ओर दोनों देशों के रिश्तों में खटाश तो आयेगी ही, साथ ही साथ भारत इस प्रकार के मामलों को चुपचाप नहीं देखेगा।

2-मीडिया के मार्फ़त जो खबरें आ रही हैं, उनसे पता चलता है कि इतनी भयानक स्थितियॉं पैदा हो चुकी हैं कि पाकिस्तान के हिन्दू परिवार भारत में शरण प्राप्त करने को विवश हो गये हैं। जिस पर भारत के इस्लामिक धर्मगुरुओं की ओर से रमजान के पवित्र महिने में चुप्पी साध लेना किस बात का संकेत देती है?

अमेरिका जो संसार के किसी भी देश के किसी भी कौने में अपनी दादागिरी करने पहुँच जाता है, उसे ये घटनाएँ क्यों नहीं दिख रही हैं? यह भी अपने आप में एक बड़ा सवाल है और भारत को विश्‍व मंचों पर इस बात को अमेरिका के खिलाफ उपयोग में लाना चाहिये।

भारत और पाकिस्तान अपनी आजादी का जश्‍न मानने में मशगूल हैं और पाकिस्तान में आये दिन हिन्दू लड़कियों और औरतों के साथ हिन्दू होने के कारण ‘‘बलात्कार’’ किये जाने की खबरें, मीडिया के माध्यम से लगातार आती रहती हैं। जिस पर भारत सरकार की ओर से ऐसा कोई ठोस कूटनीतिक कदम सार्वजनिक रूप से नहीं उठाया गया है, जिससे देश के आम इंसाफ पसन्द लोगों को और विशेषकर हिन्दुओं को इस बात का अहसास हो सके कि भारत सरकार को विदेशों में बसने वाले हिन्दुओं की भी चिन्ता है! यह अत्यन्त दुर्भाग्यपूर्ण और दु:खद है, जिसकी तीखे शब्दों कड़ी निन्दा और भर्त्सना की जानी चाहिये। हम सभी भारतीय और पाकिस्तानी लोग इस बात को ठीक से जानते हैं कि विभाजन के समय दोनों राष्ट्रों के तत्कालीन कर्ताधर्ताओं की ओर से सार्वजनिक रूप से गारण्टी दी गयी थी कि विभाजन के बाद अपने-अपने नागरिकों के बीच सरकारों द्वारा धर्म के आधार पर या अल्पसंख्यक या बहुसंख्यक के आधार पर किसी प्रकार का भेदभाव नहीं किया जायेगा और सभी को अपने-अपने दीन-ईमान-धर्म का अनुसरण और पालन करने की सम्पूर्ण आजादी होगी। सभी को बिना किसी भेदभाव के पूर्ण सुरक्षा प्राप्त होगी। इसके बावजूद दोनों ही देशों में अनेकों बार इस घोषणा का उल्लंघन किया गया है। वर्तमान में पाकिस्तान में हिन्दू धर्मानुयाईयों की बहन बेटियों की इज्जत के साथ केवल इस कारण कि वे हिन्दू हैं, सरेआम खिलवाड़ किया जाना ‘इस्लाम’ और ‘हिन्दू’ दोनों ही धर्मों के मूल सिद्धान्तों के विपरीत है। यही नहीं ये कुकृत्य संसार के सभी राष्ट्रों द्वारा स्वीकृत और सभी पर लागू मानव अधिकारों की संधियों के भी विपरीत है। सबसे बड़ी बात तो ये है कि इस प्रकार की घटनाएँ समाज में वैमनस्यता और दुराग्रहों को जन्म देती हैं। जिससे आहत धर्म के अन्य लोगों में भी स्वाभाविक तौर पर गुस्सा भड़कता है, जिसमें हिंसा और आगजनी जैसी घटनाएँ हो सकती हैं। कुछ घटिया किस्म के लोग ऐसे माहौल का लाभ उठाकर लोगों के बीच दूरियॉं पैदा करने के प्रयास करते हैं। ऐसे में अनेक निरीह प्राणी असमय काल के गाल में समा जाते हैं। जिसके चलते समाज में साम्प्रदायिक माहौल खराब होता है। लोगों के बीच धार्मिक दीवारें खड़ी हो जाती हैं! मीडिया के मार्फ़त जो खबरें आ रही हैं, उनसे पता चलता है कि इतनी भयानक स्थितियॉं पैदा हो चुकी हैं कि पाकिस्तान के हिन्दू परिवार भारत में शरण प्राप्त करने को विवश हो गये हैं। जिस पर भारत के इस्लामिक धर्मगुरुओं की ओर से रमजान के पवित्र महिने में चुप्पी साध लेना किस बात का संकेत देती है? मॉं-बहन किसी की भी हों, उनकी रक्षा करना केवल दीन, धर्म या मजहब को मानने वालों के लिये ही नहीं, बल्कि इंसानियत में आस्था रखने वाले हर एक इंसान का फर्ज है! जिस पर किसी की भी चुप्पी का अर्थ है, इंसानियत को नंगा होते हुए देखकर भी चुप्पी साध लेना या उनके इंसानी जेहन का मर जाना। मानवीय संवेदनशीलता का समाप्त हो जाना और नापाक एवं वहशी ताकतों के समाने घुटने टेकना और उनको खुला समर्थन देना। फिर से इस बात को दौहराना जरूरी है कि भारत सरकार का ये नैतिक, मानवीय, धार्मिक, राष्ट्रीय, संवैधानिक और वैश्‍विक फर्ज है कि वह अपने स्तर पर कूटनीतिक प्रयासों के जरिये पाकिस्तान की सरकार को कड़ा सन्देश दे कि मानवता का मजाक उड़ाने वाले और हिन्दू बहन-बेटियों के साथ कुकर्म करने वाले नापाक वहशी दरिन्दों को कड़ी सजा दी जाये और पाकिस्तान के सभी हिन्दुओं को सम्पूर्ण सुरक्षा मुहैया करवायी जाये, अन्यथा इससे जहॉं एक ओर दोनों देशों के रिश्तों में खटाश तो आयेगी ही, साथ ही साथ भारत इस प्रकार के मामलों को चुपचाप नहीं देखेगा। अमेरिका जो संसार के किसी भी देश के किसी भी कौने में अपनी दादागिरी करने पहुँच जाता है, उसे ये घटनाएँ क्यों नहीं दिख रही हैं? यह भी अपने आप में एक बड़ा सवाल है और भारत को विश्‍व मंचों पर इस बात को अमेरिका के खिलाफ उपयोग में लाना चाहिये। इस सबके साथ-साथ भारत के आम लोगों को भी जहॉं एक ओर तो संयम और सौहार्द को बनाये रखना होगा, वहीं दूसरी ओर भारत सरकार को इस मामले में तत्काल हस्तक्षेप करने के लिये मजबूर करना होगा! प्रतिपक्षी दलों को भी एकजुट होकर इस मामले को संसद में पूरी ताकत के साथ उठाना चाहिये। भारत की महिला संगठनों और मानव अधिकारों के लिये काम करने वाले संगठनों तथा लोगों को भी इस मामले में संज्ञान लेकर इसे उचित मंचों पर उठाना चाहिये। लेकिन इस बात की सावधानी बरती जाने की भी अत्यधिक जरूरत है कि इस मामले को भारत के कुछ दुष्ट प्रकृति के साम्प्रदायिक लोग वोट बैंक बनाने के लिये इस्तेमाल नहीं करने पायें।

Leave a Reply

7 Comments on "पाकिस्तान में हिन्दू स्त्रियों का बलात्कार और भारत की चुप्पी के मायने?"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Sachin Tyagi
Guest

ऐसा सिर्फ पाकिस्तान और बांग्लादेश में ही नहीं , हमारे देश में भी हो रहा है .यहाँ भी बहुत सी हिन्दू लडकियों व ओरतों पर इसीलिए बलात्कार होते हैं क्यूकी वे हिन्दू हैं .उन्हें जानबूझकर और चुनकर निशाना बनाया जाता है — मोका मिलते ही … ये झूठ बात नहीं … लव जिहाद या हेट जिहाद भी इसी प्रवृति का एक रूप है ….. ये बात सही है कि बहुत से हिन्दू भी हरामी होते हैं और कुछ मुसलमान भी ठीक होते है . लेकिन ये बात तो हर कौम के लिए ही सही है ….

dr dhanakar thakur
Guest
डॉ. मीना का आलेख उनके अंतर्मन से उपजी आक्रोश है और मैं उन्हें साधुवाद देना चाहता हूँ देश का विभाजन ही गलत था- आज तक उसका दंश हम भग रहे हैं -भारत पाकिस्तान बंगला देश को एक करना चाहिए और १९४७ के जनसंख्या के धर्मके आधार पर प्रतिनिधित्व देते हुए नए संविधान का निर्माण करना चाहिए जहाँ सब रह शांति से रह सकें- बाद में इसमें और भी कभी के भारत के देशों को दखिन पूर्व एशिया तक जोड़ना चाहिए बलात्कारी कोई भी हो वह वही है न हिन्दू है न मुसलमान , भारत सरकार कड़ी पहल करे इसके विरोध… Read more »
डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'
Guest

डॉ. ठाकुर साहब, टिप्पणी के लिए आपका आभार!

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा ‘निरंकुश’

VIMLESH
Guest

मीणा जी आपके इस सामयिक लेख के लिए हार्दिक बधाई .

सचमुच मीणा जी ने पारम्परिक लेखो से हट कर निष्पक्ष रूप से मुद्दे को उठाया .

एक बार पुनः बधाई .

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'
Guest

विमलेश जी टिप्पणी के लिए आपका आभार!

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा ‘निरंकुश’

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'
Guest
श्री त्यागी जी, सर्व प्रथम इस आलेख पर प्रथम और सकारात्मक टिप्पणी करने के लिए आपका आभार! तहां तक आपकी टिप्पणी “आपका मैंने एक ऐसा लेख देखा है जो आपकी पारंपरिक लेखो कि लाईन से हटकर तथा कुछ चिंताजनक मुद्दा उठाता है…” का सवाल है तो मैं यही कहूँगा कि इसमें न तो मेरा कोई विशेष योगदान है और न हीं कोई दोष, मुझे जो दीखता है, लिखता हूँ! वैसे मेरे लेखों की सूची पर यदि आप नजर डालेंगे तो हो सकता है कि आपको कुछ और लेख भी पसंद आ जाएँ! वैसे पसंद अपनी-अपनी! मैं तो मेरे हिसाब से… Read more »
RTyagi
Guest

मीणाजी, आपका मैंने एक ऐसा लेख देखा है जो आपकी पारंपरिक लेखो कि लाईन से हटकर तथा कुछ चिंताजनक मुद्दा उठाता है… आपका आह्वान सराहनीय है… अच्छा लगा ..आशा है आपकी और हमारी आवाज़ इस सोई हुई सरकार के कानो तक पहुंचेगी और वह कुछ कदम उठाएगी… अन्यथा आने वाले समय में हिंदुयों कि स्थिति केवल पाकिस्तान में ही नहीं हिंदुस्तान में भी वही होने वाली है… तब हम और आप पलायन कर कहाँ जायेंगे… ?

आपके इस लेख के लिए बधाई..
सादर

wpDiscuz