लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under कविता.


-नागेन्‍द्र पाठक

वर्षों बीते आजादी के क्या कीमत ईमान की

बच्चा बच्चा देख रहा है करतब कुछ इंसान की

वंदेमातरम वंदेमातरम वंदेमातरम वंदेमातरम

लूट मची है सभी क्षेत्र में सरकारें सहभागी हैं

आज देश के हर कोने में इतने सारे बागी हैं

कर का दर इतना ऊपर की इसमें चोरी होती है

अधिकारी नेता और मंत्री सबके सब अब दागी हैं

दीन हीन हम बन बैठे पर कमी नहीं गुणगान की

बच्चा बच्चा देख रहा है करतब कुछ इंसान की

वंदेमातरम वंदेमातरम वंदेमातरम वंदेमातरम

झारखंड के पूर्व मंत्री कोड़ा की करनी काली है

अरबों का जो किया घोटाला जनता आज सवाली है

फंसा पडा जो जेलों में देशद्रोह का काम किया

नाम नहीं लेनेवाला अब जीवन विष की प्याली है

बदनाम किया आदिम समाज को क्या कीमत बलिदान की

बच्चा बच्चा देख रहा है करतब कुछ इंसान की

वंदेमातरम वंदेमातरम वंदेमातरम वंदेमातरम

कामनवेल्थ के कारण देखो कितने तो बदनाम हुए

कलमाड़ी से शिला जी तक सबके सब नाकाम हुए

हर कोने में पड़े हैं रोड़े कंकड़ मिट्टी यहाँ वहाँ

ऊपर से बरसात का मौसमकूड़ा कचरा सड़े हुए

असफल होकर चौड़ा सीना क्या है दीन ईमान की

बच्चा बच्चा देख रहा है करतब कुछ इंसान की

वंदेमातरम वंदेमातरम वंदेमातरम वंदेमातरम

आजादी बस मिली उन्हें जो अफसर मंत्री नेता हैं

मिलता है अधिकार उन्हें और बनते सभी प्रणेता हैं

कुल नाशक करनी जब उनकी कैसे हम विश्‍वास करें

व्यवसायी बन बठे हैं सब हम तो केवल क्रेता हैं

आज नहीं कल कैसे अपना जनता कुछ परेशान सी

बच्चा बच्चा देख रहा है करतब कुछ इन्सान की

वंदेमातरम वंदेमातरम वंदेमातरम वंदेमातरम

Leave a Reply

3 Comments on "आजादी का तिरसठवाँ साल"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Anil Sehgal
Guest

After 63 years of independence, as per poet Nagendrda Pathak :
– independence has meaning for Officers Ministers Netas;
– life is a cup of poison for common man there being none to care.
वंदेमातरम वंदेमातरम वंदेमातरम वंदेमातरम

श्रीराम तिवारी
Guest

saarthk saral shabdon men aazaadee ki badrang tasveer prstut kartee kavita karna achchha hai kintu yksh prshn apni jagah hai ke hm kore gyaan se khayali pulav kb tk pakaate rahenge

madhav
Guest

well

wpDiscuz