लेखक परिचय

बीनू भटनागर

बीनू भटनागर

मनोविज्ञान में एमए की डिग्री हासिल करनेवाली व हिन्दी में रुचि रखने वाली बीनू जी ने रचनात्मक लेखन जीवन में बहुत देर से आरंभ किया, 52 वर्ष की उम्र के बाद कुछ पत्रिकाओं मे जैसे सरिता, गृहलक्ष्मी, जान्हवी और माधुरी सहित कुछ ग़ैर व्यवसायी पत्रिकाओं मे कई कवितायें और लेख प्रकाशित हो चुके हैं। लेखों के विषय सामाजिक, सांसकृतिक, मनोवैज्ञानिक, सामयिक, साहित्यिक धार्मिक, अंधविश्वास और आध्यात्मिकता से जुडे हैं।

Posted On by &filed under चुटकुले.


sugarहम हाल ही मे केरल यात्रा पर गये थे।वहाँ अक्सर रैस्टोरैंट मे क्या चाहिये समझाने मे दिक्कत होती थी टूटी फूटी हिन्दी और टूटी फूटी इंगलिश मे एक एक शब्द अलग अलग करके समझाना पड़ता था।चाय और कौफी मे हम चीनी कम पीते हैं, दूध भी कम डालते हैं । एक जगह हमने कहा टी, सैपरेट मिल्क, सैपरेट शुगर थोड़ी देर बाद वही अधिक चीनी और अधिक दूध वाली चाय आ गई और साथ मे एक कप दूध और कटोरी मे अलग से चीनी भी आ गई।

अगली बार और दिमाग़ लगाया कि उन्हे कैसे अपनी बात समझायें, मेरी दीदी ने कहा ब्लैक कौफी, जब ब्लैक कौफी आ गई तब मिल्क मांगा, उसके बाद कहा शुगर चाहिये। कुछ क्षण हमारे चेहरों को अजीब तरह देख कर वेटर दूध और चीनी भी ले आया।हम अपने मक़सद मे क़मयाब हुए।मेरी बहन डायबैटिक हैं और वो अपनी शुगर फ्री की डिबिया ले जाना भूल गईं थी, उन्होने वेटर से पूछा ‘’डू यू हैव शुगर फ्री ? तो वेटर ने जवाब दिया नो मैम शुगर इज़, फ्री नो सैपरेट चार्ज!

 

Leave a Reply

2 Comments on "शुगर फ्री"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
बीनू भटनागर
Guest
बीनू भटनागर

जानकारी देने के लियें और चुटकुला पसन्द करने के लियें धन्यवाद, वैसे ये आप ही बीती थी।

आर. सिंह
Guest

चुटकुला मजेदार है,पर इसके साथ एक बात अलग से बताना चाहता हूँ.डायबैटिक लोगों के लिए एक सलाह. आम शुगर फ्री का कम से कम इस्तेमाल कीजिये.इससे याददास्त खोने कि शिकायत आम है.इसके अतिरिक्त इससे अन्य शारीरिक गड़बड़ियाँ कोने कि संभावना रहती है.स्ताविया नामक पौधे के सूखे पतों को मीठास के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है.

wpDiscuz