लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under धर्म-अध्यात्म, राजनीति.


देश में शिवसेना ने मराठा प्रेम के नाम पर जो लडाई छेडी हुयी है उसने इन दिनों देश प्रेम का रुख अख्तियार कर लिया है। कभी महाराष्ट्र में ‘बजाओ पुंगी हटाओ लुंगी’ का नारा देने वाले बालासाहेब ठाकरे आज जबरदस्त देशभक्ति का प्रदर्शन करते हुये सडक़ों पर उतर आये हैं और उन्हें शाहरुख खान के पाकिस्तानी खिलाडियों के आईपीएल में चयन को लेकर दिये गये बयान में देशद्रोह जैसा कुछ नजर आता है। बालासाहेब ने इसे देश प्रेम से जोडा है और कहा है कि पाकिस्तानी खिलाडियों से मोहब्बत जताने वालों को वे कभी माफ नहीं करेंगे। लेकिन क्या वे इस बात का जवाब दे पायेंगे कि कुछ दिनों पूर्व उन्होंने सचिन तेंदुलकर को भी इस बात के लिये धमकाया था कि उन्होंने खुद को पहले भारतीय क्यों कहा। क्या वे इस बात का जवाब देंगे कि वे उत्तर भारतीयों से घृणा क्यों करते हैं, वह खुद इस बात की दुविधा में हैं कि वे मराठियों की बात करते हैं, या भारतीयों की या फिर हिंदू हितों की। उनकी इस घृणास्पद राजनीति ने देश में इस बात की लडाई तेज कर दी है कि आखिर भारत पर पहला हक हिंदुओं का है या मुसलमानों का। आजादी के तिरसठ साल बाद भी इस बात को जिंदा रखने का श्रेय ऐसे ही राजनीतिज्ञों को जाता है जिन्होंने क्षेत्र, भाषा, जाति के नाम पर देश को बांटने में कोई कसर नहीं रखी। इस बात से सबसे गलत संदेश यह गया कि देश ने लोगों को हिंदू और मुसलमान के नाम पर विभक्त कर दिया। हां, यह बात सही है कि पाकिस्तान जैसे राष्ट्रद्रोही देश का नाम सुनते ही किसी के भी तन मन में आग लग जाती हो लेकिन शाहरुख ने ऐसा बयान नहीं दिया था जिससे राष्ट्रप्रेम पर आंच आये। कुल मिलाकर मराठा प्रेम और हिंदू हितों की लडाई लडने वाली शिवसेना ने इस पूरे मुद्दे को अपनी अस्मिता से जोड लिया और माय नेम इज खान की रिलीज के दिन जबरदस्त ड्रामा देखने को मिला। शिवसेना के इस प्रकरण ने देश को फिर से उस दर्द की याद दिला दी जिसने हमें देश विभाजन का दर्द दिया। आखिर ऐसा क्यों होता है कि देश में आतंकी हमला होते ही खुफिया एजेंसियों की सुईयां लश्कर, हुजी और पाकिस्तान में बैठे आतंकी संगठनों की ओर घूम जाती है और इसमें कोपभाजन बनना पडता है हमारे देश के उन देशभक्त मुसलमानों को जिन्हें बार-बार इस बात का सर्टीफिकेट देना पडता है कि वे भारतीय हैं या भारत से प्रेम करते हैं। आजादी के इतने दशक बाद भी इस स्थिति के लिये हमारे राजनेता जिम्मेदार हैं जिन्होंने हिंदू-मुसलमानों के बीच जहर घोलकर अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकनी जारी रखी। आखिर ऐसा क्यों हुआ, क्यों कोई इस देश में हिंदुओं से इस बात का प्रमाण नहीं मांगता कि तुम देशभक्त हो या नहीं। करोडों रुपये का घोटाला करने वालों से कोई इस बात का जवाब क्यों नहीं मांगता कि तुम देशभक्त हो या नहीं, देश में 1984 दंगे कराने वालों से कोई इस बात का जवाब नहीं मांगता कि आप देशभक्ति का प्रमाण दो। इस देश के विभाजन का विरोध मुसलमानों ने भी किया था और जिन लोगों को देश विभाजन की जल्दी थी वे भी धर्म से हिंदू ही थे। ऐसे में क्यों बार-बार मुसलमानों को न्यायिक कटघरे में खडा कर दिया जाता है कि आप अपनी देशभक्ति का सबूत दो। क्यों साध्वी प्रज्ञा और कर्नल पुरोहित जैसे लोगों से इस बात का जवाब नहीं मांगा जाता कि तुम हिंदू राष्ट्र बनाने के नाम पर देश में दंगों को अंजाम देने की योजना बना रहे थे। क्यों नरेंद्र मोदी जैसे लोगों से इस बात का जवाब नहीं मांगा जाता कि गोधरा दंगों में निर्दोष मुसलमानों ने किसी का क्या बिगाडा था। हां गलत लोग सभी जगह हो सकते हैं लेकिन इसका यह मतलब तो नहीं कि आप देश के सारे मुसलमानों पर शक करें। क्या देश को इतनी तरक्की दिलाने में मुसलमानों का कम अहम रोल है, क्या देश के पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने देश को परमाणु शक्ति संपन्न राष्ट्र नहीं बनाया आखिर इसके बाद भी हम क्यों मुसलमानों से इस बात का जवाब मांगते हैं कि तुम देशभक्त हो या नहीं। इस पूरी स्थिति के लिये देश के भ्रष्ट नेता जिम्मेदार हैं।

बात हो रही थी बाल ठाकरे की, राहुल गांधी पर गलत बयानों को लेकर पहले भी बाल ठाकरे मीडिया की सुर्खियों में जगह पा चुके हैं। लेकिन माय नेम इज खान को लेकर जो हुआ वह वास्तव में बहुत दुर्भाग्यपूर्ण था क्योंकि ऐसे देश में जहां की 78 प्रतिशत जनता 20 रुपये से कम में गुजारा करती हो वहां पर भाषा, क्षेत्र, जाति, धर्म, रंग के नाम पर किसी के साथ किसी भी तरह का उत्पीडन घोर पाप है। जिसका दंश हम पिछले बीस सालों से पूर्वोत्तर में झेलते आ रहे हैं जहां पर आज भी हिंदी भाषियों की हत्या की खबरें समाचार पत्रों की सुर्खियां बनती रही हैं। न जाने क्यों राष्ट्र से ऊपर महाराष्ट्र को रखकर राजनीति की जा रही है। क्यों देश में क्षेत्रवाद को हवा दी जा रही है। हम क्षेत्रवाद का दंश वैसे ही पंजाब के काले दिनों के रूप में देख चुके हैं आज भी पंजाब में हवाला के पैसों से नवयुवकों को भटकाया जा रहा है आखिर ऐसा क्यों हो रहा है। पिछले कुछ समय से विशेषकर तब से जब से शिवसेना ने दो विधानसभा चुनाव हारे हैं उसका मराठा प्रेम हिलोरें मार रहा है। अगर यही संदेश सारे देश में जायेगा तो हो गया बस बन गये हम महाशक्ति, बन गये इकोनोमिक सुपरपावर। महाराष्ट्र में तुम परप्रांतीयों को मारोगे और मराठी दूसरे राज्यों में लोगों के गुस्से का शिकार बनेंगे। ऐसे में विकसित देश का सपना देखना कहीं बेमानी तो नहीं होगी, ऐसे में देश की युवा पीढी क्षेत्रवाद के दंश का शिकार तो नहीं बन जायेगी। इसके लिये बडे-बडे धार्मिक आयोजनों की बजाय संवाद कार्यक्रम आयोजित किये जाने चाहिये जिससे लोगों में प्रेम बढे अौर क्षेत्रवाद का जहर न फैल सके। राष्ट्र से ऊपर महाराष्ट्र बनाने की जो लडाई शिवसेना ने छेड रखी है उससे एक गलत संदेश लोगों के बीच जा रहा है साथ ही देश के दूसरे हिस्सों में भी युवाओं को इस बात के लिये उकसाया जा रहा है कि वे भी इसी तरह की लडाई लडें। चंद वोटों के लालच में हम अगर भारत की अस्मिता से खेल सकते हैं तो हमें हिंदू हितों की रक्षा का कोरा नारा देना बंद करना होगा। भारत विभिन्न भाषाओं, धर्मों, जातियों के लोगों का समागम है इसलिये इस बात का ध्यान रखना होगा कि हम किसी भी कीमत पर भारत की एकता, अखंडता को खंडित न होने दें क्योंकि इससे देश में आपसी मनमुटाव व वैमनस्य तो बढेग़ा ही साथ में विदेशों में भी भारत की नकारात्मक छवि बनेगी जिससे सीधा नुकसान देश की तरक्की का होगा और हम विकास की दौड में पिछड ज़ायेंगे।

-पवन कुमार उप्रेती

Leave a Reply

13 Comments on "मुसलमानों की देशभक्ति पर शक क्यों"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
RAJESH KUMAR
Guest
जिस धर्म का सिधांत ही गलत हो वो कहाँ सुधर सकता है -लेखक महोदय आपने ठीका ले रखा है क्या/ मुस्लमान कभी भी नहीं सुधर सकता है / यदि सुधारना है तो कुरान में संशोधन करबा दो / अछी बातें लिखा करो / इस्लाम बेवकूफों का मजहब है /कोई पैगम्बर कैसे ये कह सकता है की गैर इस्लाम काफिर है और उसे जलाकर मर देना चाहिए – कुरान: 9 अध्याय, छंद 5: “तब जब पवित्र महीने बीत चुके हैं, गैर इस्लाम (अन्य धर्मावलम्बी, यानि काफिर) तुम्हे जहाँ भी मिले उन्हें मिलके मार, और उन्हें पकड़ और उन्हें घेर, और उन्हें… Read more »
RAJESH KUMAR
Guest
कोई पैगम्बर कैसे ये कह सकता है की गैर इस्लाम काफिर है और उसे जलाकर मर देना चाहिए – कुरान: 9 अध्याय, छंद 5: “तब जब पवित्र महीने बीत चुके हैं, गैर इस्लाम (अन्य धर्मावलम्बी, यानि काफिर) तुम्हे जहाँ भी मिले उन्हें मिलके मार, और उन्हें पकड़ और उन्हें घेर, और उन्हें हर घात की तैयारी के लिए, लेकिन अगर वे पश्चाताप और इस्लामी जीवन शैली का पालन करे, तो उनके मुक्त रास्ता छोड़ दें. / जिस धर्म का सिधांत ही गलत हो वो कहाँ सुधर सकता है -लेखक महोदय आपने ठीका ले रखा है क्या/ मुस्लमान कभी भी नहीं… Read more »
डॉ. मधुसूदन
Guest

On Islam:
“What the horn is to the rhinoceros, what the sting is to the wasp, the Mohammadan faith is to the Arabs.”—— Winston Churchill

manu
Guest
हाँ, हमें सभी मुसलमानों से परहेज नहीं है…. कलाम साहब ने देश को बहुत कुछ दिया है… रफ़ी को हम दुनिया में अब तक और आने वाली सदियों तक का अकेला हीरा मानते हैं… बिस्मिलाह खाँ के जाने के बाद भी उनकी शहनाई की गूँज हमारे कानों में है…. फ़िदा हुसैन की तस्वीरों पर उठे बवाल पर भी चाहे अनजाने में ही सही (हो सकता है हम ग़लत हों..)..हम उसके साथ होते हैं… वहीदा रहमान और मीना कुमारी …ग़ालिब की शायरी की तरह साँसों में बसी हैं… लेकिन…. अगर बात आतंक के नाम पर शक करने की आ जाए… तो… Read more »
manu
Guest

ब्लोगर्स तक का तो ई मेल आई डी….
वेबसाईट…
वगैरह भी माँगा हुआ है आपने…

इसके बाद भी कुछ रहता है कहने के लिए….??

wpDiscuz