लेखक परिचय

श्‍यामल सुमन

श्‍यामल सुमन

१० जनवरी १९६० को सहरसा बिहार में जन्‍म। विद्युत अभियंत्रण मे डिप्लोमा। गीत ग़ज़ल, समसामयिक लेख व हास्य व्यंग्य लेखन। संप्रति : टाटा स्टील में प्रशासनिक अधिकारी।

Posted On by &filed under दोहे, साहित्‍य.


women2मँहगाई की क्या कहें, है प्रत्यक्ष प्रमाण।

दीन सभी मर जायेंगे, जारी है अभियान।।

 

नारी बिन सूना जगत, वह जीवन आधार।

भाव-सृजन, ममता लिए, नारी से संसार।।

 

भाव-हृदय जैसा रहे, वैसा लिखना फर्ज।

और आचरण हो वही, इसमें है क्या हर्ज।।

 

कट जायेंगे पेड़ जब, क्या तब होगा हाल।

अभी प्रदूषण इस कदर, जगत बहुत बेहाल।।

 

नदी कहें नाला कहें, पर यमुना को आस।

मुझे बचा ले देश में, बनने से इतिहास।।

 

सबकी चाहत है यही, पास रहे कुछ शेष।

जो पाते संघर्ष से, उसके अर्थ विशेष।।

 

जीवन तो बस प्यार है, प्यार भरा संसार।

सांसारिक इस प्यार में, करे लोग व्यापार।।

 

सतरंगी दुनिया सदा, अपना रंग पहचान।

और सादगी के बिना, नहीं सुमन इन्सान।।

 

Leave a Reply

2 Comments on "नारी बिन सूना जगत"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
श्‍यामल सुमन
Guest

हार्दिक धन्यवाद प्रेषित है लक्ष्मी नारायण जी।

लक्ष्मी नारायण लहरे कोसीर पत्रकार
Guest

सुमन जी नमस्कार … बहुत ही उम्दा रचना हार्दिक बधाई …

wpDiscuz