लेखक परिचय

डॉ. मनोज चतुर्वेदी

डॉ. मनोज चतुर्वेदी

'स्‍वतंत्रता संग्राम और संघ' विषय पर डी.लिट्. कर रहे लेखक पत्रकार, फिल्म समीक्षक, समाजसेवी तथा हिन्दुस्थान समाचार में कार्यकारी फीचर संपादक हैं।

Posted On by &filed under प्रवक्ता न्यूज़, सिनेमा.



डॉ. मनोज चतुर्वेदी

एन. आर. आई. सम्मेलन में भारत सरकार ने प्रवासी भारतियों लिए विशेष सुविधाओं का प्रावधान किया है। अपना देश अपनी माटी तथा अपनी संस्कृति के प्रति लगाव होना स्वाभाविक है। इस देश से बाहर जाकर भारत भारतीयता की सुगंध बिखरने वाले महर्षि अरंविद और स्वामी विवेकानंद ने तो कण-कण को अपना आराध्य माना था। निर्माता समीर कर्णिक ने हास्य के माध्यम से ‘यमला पगला दीवाना’ में इन्हीं विषयों को छूने का प’यास किया है।

कनाडा में रहने वाला परमजीत सिंह (सन्नी देओल) अपनी पत्नी, मां और दो बच्चों के साथ रहता है। उसके पिता धरम सिंह (धर्मेंद’) और छोटे भाई (गजोधर सिंह) का पता चल जाता है कि वे भारत में हैं। इसी बीच छोटा भाई गजोधर खोज बिन के बाद जो महा ठग है परमजीत सिंह को ठग लेता है। पिता धर्मेंद’ उसे अपना पुत्र मानने को तैयार हीं नहीं है। अब क्या करें? फिर बार-बार के प’यास के बाद उसे महाठगों के टीम में शामिल होना पड़ता है। यह इसलिए कि उसने अपने माता को वचन दिया है कि वह अपने छोटे भाई एवं पिता को किसी भी दशा में ढूंढ़ निकालेगा।

कहानी में एक मोड़ तब आता है जब गजोधर सिंह का पंजाब से वाराणसी में लेखन करने आयी साहिबा (नफीसा अली) से प्रेम हो जाता है। जिसके पांचो भाई इस शादी के खिलाफ हैं। वो तो अपनी बहन की शादी एन. आर. आई. से ही करना चाहते हैं। फिर धीरे-धीरे पूरा परिवार मिल जाता है। संपूर्ण कहानी में हास्य का अथाह सागर दिखाई पड़ता है।

एक जमाना था जब धर्मेंद’, शत्रुघ्न सिंहा और अमिताभ बच्चन की तुती बोलती थी। फिर 80 से 90 के दशक में सन्नी देओल, बॉबी देओल ने भी दर्शकों को पर्दे पर लुभाया। लेकिन अमिताभ बच्चन का जलवा आज भी कायम है। वो तो ”यंग्री ओल्ड मैन” हैं। एक्टिंग के मामले में सन्नी देओल को तुलनात्मक दृष्टि से ठीक कहा जा सकता है।

फिल्म का तकनीकी पक्ष एवं गीत-संगीत पक्ष को औसत दर्जे का कहा जा सकता है। यह फिल्म दर्शकों को हंसी-मजाक के साथ-साथ तथा एन. आर. आई. के संबंध में ठीक प्रकार से दिखाने में कामयाब हुई है।

बैनर – टॉप एंगल प्रोडक्शन।

निर्माता – समीर कर्णिक/नितिन मनमोहन ।

निर्देशक – समीर कर्णिक।

कलाकार – धर्मेंद’, सन्नी देओल, बॉबी देओल, कुलराज रंधावा, नफीसा अली, अनुपम खेर, जॉनी लीवर इत्यादि।

गीत – राहुल सेठ, इर्शाद कमाल और आरडीबी।

संगीत – अनु मलिक।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz