लेखक परिचय

पुष्पेन्द्र दीक्षित

पुष्पेन्द्र दीक्षित

शिक्षा - बी.कॉम , पोस्ट ग्रेजुएशन - एम.ए इकोनॉमिक्स लेखन - स्वतंत्र भारत ,बिज़नेस स्टैंडर्ड (हिंदी संस्करण ) अन्य राष्ट्रीय व क्षेत्रीय समाचार पत्रों व पत्रिकाओं में लेख और लघु कथा का प्रकाशन संपर्क न.: 9044601505

Posted On by &filed under समाज.


alcoholicपुष्पेन्द्र दीक्षित

वर्तमान समय में भारत सम्पूर्ण विश्व में सबसे युवा आबादी वाला देश है । इसकी 65 प्रतिशत जनसंख्या 35 वर्ष से कम उम्र की है । यह बात कहने में भी कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी कि भारत इस समय जवानी से लबालब भरा हुआ है ,जो किसी भी देश की प्रगति के लिए सबसे महत्वपूर्ण है और इसी युवा शक्ति के बलबूते पर वर्ष 2020 तक भारत दुनिया की “आर्थिक महाशक्ति”बनना चाहता है ।
लेकिन जिस युवा पीढ़ी के बल पर भारत विकास के पथ पर प्रगतिशील होने का दंभ भर रहा है ,उस युवा पीढ़ी में नशे की सेंध लग रही है ,जो दिन पे दिन युवा पीढ़ी में अपने पैर पसार रही है और युवा नशे की गिरफ्त में आ रहे है ,जो अत्यंत ही चिंता का विषय है । युवाओं में नशा अब इस कदर हावी हो गया है कि नशा अब मौजमस्ती का नहीं अपितु आज की युवा पीढ़ी के लिए आवश्यकता बन गया है ।
यदि हम आकड़ों की बात करें तो चाइल्ड लाइन इंडिया फॉउन्डेशन 2014 रिपोर्ट के मुताबिक़ देश में 65 प्रतिशत नशाखोरी से वे युवा ग्रस्त है ,जिनकी उम्र 18 वर्ष से भी कम है। सरकारी आकड़ों के हिसाब से देश की 70 से 75 प्रतिशत आबादी किसी न किसी प्रकार का नशा करती है । जिसमे सिगरेट,शराब व गुटखा की ओर युवा सबसे ज्यादा आकर्षित हो रहे है और तीन में से एक युवा किसी न किसी प्रकार के नशे का आदी है । एक सर्वेक्षण के मुताबिक देश में हर रोज लगभग 5500 युवा तम्बाकू उत्पादों के सेवन करने वालों की श्रेणी में जुड़ रहे हैं। तंबाकू का उपयोग 48 प्रतिशत चबाने, 38 प्रतिशत बीड़ी एवं 14 प्रतिशत सिगरेट के रूप में होता है। उसमें सबसे ज्यादा 86 प्रतिशत तंबाकू सूखी, खैनी, जर्दा के रूप में इस्तेमाल होती है। नशे के सेवन में महिलायें भी पीछे नहीं रह रही है ,भारत में 12 करोड़ लोग धूम्रपान करते है ,जिसमे 20 प्रतिशत महिलाएं धूम्रपान करती है। सिगरेट पीने के मामले में भारत की लड़कियां और औरतें अमेरिका के बाद पूरी दुनिया में दूसरे नंबर पर हैं. वाशिंगटन यूनिवर्सिटी ने 1980 से 2012 तक 185 देशों में सिगरेट पीने वालों पर एक लंबा-चौड़ा रिसर्च करने के बाद बताया है कि महिला स्मोकर्स के मामले में भारत दुनिया में दूसरे नंबर पर है.|.1980 में भारत में करीब 53 लाख महिलाएं सिगरेट पी रही थीं जो संख्या 2012 में बढ़कर 1 करोड़ 27 लाख तक पहुंच गई.|
इसके अलावा शराब का सेवन भी भारतीय युवाओं में तेजी से फैल रहा जिससे महिलाएं भी अछूती नहीं रही है । पैरिस के आर्गेनाइजेशन फार इकोनोमिक कोआप्रेशन एंड डिवैल्पमैंट (ओ.ई.सी.डी.) नामक एन.जी.ओ. द्वारा अमेरिका, चीन, जापान, रूस, ब्रिटेन, फ्रांस व जर्मनी सहित 40 देशों में शराबनोशी के हानिकारक प्रभाव संबंधी अध्ययन में यह तथ्य सामने आया है कि 1992 से 2012 तक मात्र 20 वर्षों में ही भारत में शराब के उपयोग में 55 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है। 20 साल पहले जहाँ 300 लोगों में से एक व्यक्ति शराब का सेवन करता था, वहीं आज 20 में से एक व्यक्ति शराब सेवन कर रहा है। परंतु महिलाओं में इस प्रवृत्ति का आना समस्या की गंभीरता दर्शाता है। पिछले दो दशकों में मद्यपान करने वाली महिलाओं की संख्या में तेजी से वृद्धि हुई है। विशेष कर उच्च तथा उच्च मध्यम वर्ग की महिलाओं में यह एक फैशन के रूप में आरंभ होता है और फिर धीरे-धीरे आदत में शुमार होता चला जाता है। महिलाओं में मद्यपान की बढ़ती प्रवृत्ति के संबंध में किए गए सर्वेक्षण दर्शाते हैं कि क़रीब 40 प्रतिशत महिलाएँ इसकी गिरफ्त में आ चुकी हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक लगभग 30 प्रतिशत भारतीय शराब का सेवन करते हैं जिनमें से लगभग 13 प्रतिशत प्रतिदिन शराब पीने वाले हैं और इनमें से 50 प्रतिशत बुरी तरह शराबखोरी की लत के शिकार हैं।
युवाओं में नशा सिर्फ सिगरेट व शराब सीमित नहीं रहा बल्कि वर्तमान समय में कोकीन ,हेरोइन ,गांजा ,चरस ,नशीली दवाइयाँ आदि का नशा युवाओं को तेजी अपनी गिरफ्त में ले रहा है । अगर सरकारी आकड़ो की बात करें तो देश में 50 लाख युवा हेरोइन जैसे नशे के आदी है। हेरोइन की तरह युवाओं में नशीली दवाइयों का सेवन भी नशे के रूप में तेजी से बढ़ रहा है । भारतीय राष्टीय सर्वेक्षण की रिपोर्ट की माने तो भारत की आबादी का बहुत बड़ा हिस्सा, एक करोड़ सात लाख लोग नशीली दवाइयों का सेवन ही नहीं करते है बल्कि इसके पूर्णतया आदी हो चुके है । जिसमें पंजाब ,असम ,उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में बड़ी संख्या में लोग आदी है । नशे के मामले पंजाब बेहद ही संवेदनशील राज्य है जहां 67 फीसदी लोग किसी न किसी प्रकार का नशा करते है और एक रिपोर्ट मुताबिक़ 70 फ़ीसदी युवा नशे के आदी है । भांग का नशा करने वालों की संख्या भी भारत में बहुत अधिक है ,देश में लगभग 90 से 95 लाख लोग भांग का रोज सेवन करते है ।
भारत में नशे का कारोबार बहुत ही बड़ा है और यह दिन पे दिन एक विकराल रूप धारण करता जा रहा है और इसका मुख्य केंद्र है पंजाब, क्योंकि भारत -पाकिस्तान की सीमाओं से जुड़े होने के चलते पंजाब के रास्ते नशीले पदार्थों की तस्करी खूब होती है । बल्कि पंजाब ही नहीं बांग्लादेश,नेपाल और म्यांमार के रास्ते काफी मात्रा में नशीले पदार्थ व दवायें भारत में आती है । एक सरकारी रिपोर्ट के मुताबिक भारत में नशीली दवाओं की तस्करी में पिछले तीन सालों में पांच गुना कि वृद्धि हुई है । भारत में प्रतिवर्ष 181 अरब रूपये का कारोबार होता है । राज्यों की बात करें तो इसमें मामले में पंजाब पहले नंबर पर है एक गैर सरकारी संस्था की रिपोर्ट के अनुसार पंजाब में इस समय 75000 करोड़ रुपये की ड्रग्स की खपत हर वर्ष हो रही है । इसमें से करीब एक लाख तेईस हजार करोड़ केवल हेरोइन की खपत है । ड्रग्स पर तो यहां चौकाने वाले आंकड़े सामने आये है ,जिसके अनुसार पंजाब में अकेले 20 करोड़ रुपये प्रतिदिन खर्च होते है । यही नहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार तत्बाकू के प्रयोग के कारण दुनिया भर में 54 लाख लोग प्रति वर्ष अपनी जान गंवाते है, इनमें से 9 लाख मौते तो केवल भारत में ही होती है। प्रति दिन हमारे देश के 2500 व्यक्ति तम्बाकू की वजह से मृत्यु का शिकार होते हैं। वहीं शराब भी प्रतिवर्ष लाखों लोगों को मौत बनकर लील जाती है । इसके अतिरिक्त नशे के समाजिक सरोकार भी काम नकारात्मक नहीं है । जहाँ एक और नशा दीमक की तरह युवाओं की जवानी को चाट जाता है ,वहीं दूसरी और यह समाजिक सुरक्षा और विकास के लिए भी बहुत बड़ा खतरा है । नशे के कारोबार के मॉडूयल नशे के कारोबार के साथ आतंकवाद को भी बढाबा देते है ।पठानकोट में हुआ हाल ही में वायुसेना एयरवेस पर हमला इसका जीता जगता उदाहरण है । इस प्रकार नशा कई तरह से देश को नुसकान पहुंचा रहा है । अतः सरकार को अपने राजस्व के लालच को छोड़कर नशे के खिलाफ गंभीर कदम उठाने चाहिए ।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz