नींद नहीं मेरी सखी,मुश्किल से है आय,
चौक कर खुल जाय कभी,फिर नख़रा दिखलाय।

सपनों का घर नींद है , निंदिया का घर नैन
नींद नैन आवे नहीं , ना सपनों को चैन।

कच्चा घर है नींद का , टूट कभी भी जाय
बार- बार टूटे कभी , बन न निशा भर पाय।

शाम रात में ढ़ल गई,खोले रजनी द्वार।
गगन भाल चँदा उगा,तारे पहरेदार।

सूरज-किरणें छा गयीं ,पहन लाल परिधान ।
गगन सुनहरी हो रहा , देखो हुआ विहान।

गगन भाल बिंदी लगी, चँदा का आकार।
तारे बिखरे हैं पड़े , गगन करे श्रृंगार।

झाँका खिड़की से लगा,अद्भुत है ये प्रात।
सागर की लहरें करें , आरुषि संग उत्पात।

भंवरे तितली ने किया,फूलों से अनुबंध।
उनके आने पर लगे ,न कोई प्रतिबंध।

सूरज – थाली में सजा , आया प्रातः काल।
सागर में फैला दिया , रूप सुनहरा जाल।

चाँद सितारों से जड़ी,चुनरी रजनी भाल।
सप्तऋषी पहना गये ,रजनीगंधा माल।

Leave a Reply

%d bloggers like this: