More
    Homeसाहित्‍यकविताआदमी की कोई हद न रही

    आदमी की कोई हद न रही

    जाने ये क्‍या हद हो गयी ?

    कि आदमी की हद सरहदों में खो गयी

    सरहद बना ये आदमी,आदमी है कहाँ

    खोखला उसका वजूद और झूठा उसका जहाँ,

    सगे भाईयों के बीच,आपस में ठनी हो गयी,

    आंगन में लगी बाँगड़., और घनी हो गयी ?

    जाने ये क्‍या हद हो गयी

    कि आदमी मुस्‍कान गमों में खो गयी

    चेहरे पर खिलती थी कभी उसके मुस्‍कान

    गिरगिट सी रंग बदलती है अब उनके मुस्‍कान

    स्‍वार्थ में हाय ये मुस्‍कान बिखर गयी

    आदमी की मुस्‍कुराहट, अब आदमी की नहीं रही?

    जाने ये क्‍या हद हो गयी ?

    कि आदमी की आँखों की चमक अंधेरे में खो गयी

    आँखों में उसकी कभी रहती थी जो मासूमियत

    लरजते थे आँसू,प्‍यार की देने को शहादत

    जुल्‍म ढाती अब उसकी आँखें,अब शैतान हो गयी

    हाय आदमी की आंखें, निर्दोषों के खून की प्‍यासी हो गयी।

    जाने ये क्‍या हद हो गयी ?

    कि आदमी की जिंदगी, हादसों में खो गयी

    कभी फूलों की तरह महका करती थी जिंदगी

    श्रद्धा से नतमस्‍तक करती थी वन्‍दगी

    आदमी की जिन्‍दगी एक हादसा हो गयी, गर्दिशों की मानो वह बादशा हो गयी।

    जाने क्‍या हद हो गयी ?

    कि आदमी की जिंदगी समयचक्र में खो गयी

    कभी समय के साथ, जो चला करता था आदमी

    आज टूटती बिखरती वो जिन्‍दगी की माला है आदमी

    समय के हाथों दो कौड़ी का खिलौना है आदमी

    निगल रहा है कालचक्र, हाय चुन चुन कर आदमी।

    आज के आदमी के आगे,मजहब की कोई शान न रही

    शानो-शौकत से जी रहा है,वह मजहब को राजीखुशी

    मजहब के नाम पर, वह फसाद करा रहा है

    सच्‍चे मजहब का मतलब वह कुछ और बता रहा है।

    आदमी, आदमी की आन को मिटा रहा है आदमी

    आदमी, आदमी में छिपे भगवान को मिटा रहा है आदमी ।

    जाने क्‍या हद हो गयी ?

    कि आदमी की आन,अब मजहबों में खो गयी

    कभी मजहब का होकर, जो गया था आदमी

    आज तक लौटा नहीं, वह मजहब का आदमी

    पीव पहचान उसकी, खुदा से जो हो गयी।

    खुद खुदा हो गया, वह मजहब का आदमी।

    आत्माराम यादव पीव
    आत्माराम यादव पीव
    स्वतंत्र लेखक एवं व्यंगकार

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Must Read

    spot_img