लेखक परिचय

डॉ. प्रतिभा सक्‍सेना

डॉ. प्रतिभा सक्‍सेना

मध्यप्रदेश (भारत) में जन्मी डॉ. प्रतिभा सक्सेना आचार्य नरेन्द्रदेव स्नातकोत्तर महिला महाविद्यालय कानपुर ( उ.प्र.) में शिक्षण सेवा से १९९८ में सेवानिवृत्त। कविता , कहानी,लघुउपन्यास , लेख, वार्ता एवं रंगमंच के लिये नाटक,रूपक एवं गीति-नाट्य आदि का लेखन । रचनाएँ अन्तर्जाल पर कविता एवं गद्यकोष में संकलित। भारत, अमेरिका एवं अन्तर्जाल की हिन्दी की साहित्यिक विविध पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशन।पुस्तकें: 1 सीमा के बंधन - कहानी संग्रह, 2. घर मेरा है - लघु-उपन्यास संग्रह .3. उत्तर कथा - खण्ड-काव्य सम्प्रति : आचार्य नरेन्द्रदेव स्नातकोत्तर महाविद्यालय, कानपुर में शिक्षण. सन्‌ 1998 में रिटायर होकर, अधिकतर यू.एस.ए. में निवास

Posted On by &filed under कविता, साहित्‍य.


अभिशप्त

अभिशप्त

रात का था धुँधलका ,
सिर्फ़ तारों की छाँह ।
मैंने देखा –
मन्दिर से निकल कर एक छायामूर्ति
चली जा रही है विजन वन की ओर ।
आश्चर्यचकित मैंने पूछा,
” देवि ! आप कौन हैं ?
रात्रि के इस सुनसान प्रहर में
अकेली कहाँ जा रही हैं ? ”
*
वह चौंक गई, कुछ रुकी , बोली,
” मैं जा रही हूँ राम के वामांग से उठकर,
चिर दिन के लिये ,
क्योंकि विश्वास और सत्य प्रमाण-सापेक्ष नहीं होते ।
चेतनामयी नारी का स्थान ले ले सोने की मूरत,
मर्यादा का ये आचार ,
मैं वैदेही की चेतना छाया,
जड़ सी देखती रह गई !
अब मैं जा रही हूँ चिर दिन के लिये ।”
*
” अब इतने दिनों बाद ? आज ? ”
मेरे मुँह से निकल पड़ा ।
वह उदास सी मुस्कुरायी- बोली
” तुम आज देख पाई हो ।
मैं तो जा चुकी शताब्दियों पहले ,
सरयू अपार जलराशि बहा चुकी तब से ,
श्री-हत अयोध्या अभिशप्त है तभी से ।।”

डॉ. प्रतिभा सक्सेना

3 Responses to “अभिशप्त”

  1. डॉ. मधुसूदन

    डॉ. मधुसूदन

    बहुत सुन्दर। क्या कहें? वास्तव में अयोध्या अभिशप्त होगी, अब राम भी कुटिया में रहने लगे हैं।

    Reply
  2. बी एन गोयल

    बी एन गोयल

    बहुत सुन्दर –
    अभिशप्त है सरयू – तिल तिल बहने के लिए
    अभिशप्त है लंका – धू धू जलने के लिए …………..

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *