लेखक परिचय

श्रीराम तिवारी

श्रीराम तिवारी

लेखक जनवादी साहित्यकार, ट्रेड यूनियन संगठक एवं वामपंथी कार्यकर्ता हैं। पता: १४- डी /एस-४, स्कीम -७८, {अरण्य} विजयनगर, इंदौर, एम. पी.

Posted On by &filed under दोहे, विविधा.


plitvice-national-park

निकले  थे  घर से जिसकी  बारात  लेकर ,  उसी के जनाजे में  क्यों आ गए हम ?

चढ़े  थे  शिखर पर  जो  विश्वास् लेकर ,   निराशा  की खाई में क्यों आ गिरे हम ?
गाज  जो गिराते हैं नाजुक  दरख्तों पै , उन्ही  की  पनाहों  में   क्यों   आ गए हम ?

फर्क ही नहीं जहाँ नीति -अनीति का , उस संगदिल  महफ़िल  में क्यों आ गए हम ?
खींचते है  चीर गंगा जमुनी तहजीव का , ऐंसे कौरवों के शासन में क्यों आ गए हम ?

लगती  रहती  जिधर  दावँ  पर पांचाली ,शकुनियों के जुआ घर में क्यों आ गए हम  ?
कर सकते नहीं कद्र अपने ही बुजुर्गों की , दम्भ -पाखंड की जद में  क्यों आ  गए  हम ?

जो  है बर्बर अमानवीय भयानक अँधेरी ,   उस  विषधर की वामी में क्यों आ गए हम ?
श्रीराम तिवारी

2 Responses to “दम्भ -पाखंड की जद में क्यों आ गए हम ?”

  1. mahendra gupta

    सचमुच यह सवाल हम अपने आप से ही कर सकते हैं , अन्य कोई भी इस का जवाब देने को तैयार नहीं अच्छी प्रस्तुति हेतु आभार

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *