यूपी कांग्रेस : राहुल से निराश, प्रियंका से आस

कांग्रेस आलाकमान प्रियंका में संभावनाएं तलाश रहा है तो प्रियंका भी आलाकमान के सुर में सुर मिला रही हैं। गत दिनों अपनी दादी इंदिरा गांधी के जन्मशती समारोह पर स्वराज भवन आईं प्रियंका गांधी ने सक्रिय राजनीति में आने के संकेत दे भी दिए। इससे पहले वह राजनीतिक आयोजनों और किसी भी तरह का बयान देने से बचती रहतीं थी, लेकिन इस बार कार्यकर्ताओं से मुलाकात के दौरान प्रियंका ने सिर्फ सियासी मुद्दों पर बात की, जो कार्यकर्ता स्वराज भवन में प्रवेश नहीं कर सके, वह बाहर से प्रियंका के सक्रिय राजनीति में आने की मांग को लेकर नारेबाजी करते रहे और जिनकी प्रियंका से मुलाकात हुई, उन्होंने सीधे तौर पर प्रियंका से यूपी में पार्टी की कमान संभालने की मांग की।

priyanka-gandhi-active-role-in-up-congressसंजय सक्सेना

प्रियंका गांधी वाड्रा एक बार फिर चर्चा में हैं,लेकिन हमेशा से इतर इस बार कांग्रेस आलाकमान भी इस चर्चा को हवा दे रहा है। बात अतीत की कि जाये तो उत्तर प्रदेश में जब भी किसी चुनाव का आगाज होता है, उस समय कांग्रेस मंे प्रियंका गांधी वाड्रा के नाम का जाप शुरू हो जाता है। यह सिलसिला 2009 के लोकसभा चुनाव के बाद से लगातार जारी है। 2009 मतलब वो साल जब लोकसभा चुनाव में कांग्रेस का परचम फहराने के लिये उसके उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने ‘वन मैन आर्मी’ की तरह पूरे प्रदेश को ‘नाप’ डाला था। उनकी बड़ी-बड़ी जनसभाएं हुईं थी। इसमें भीड़ भी जुट रही थी। कांग्रेसियों को लगने लगा था कि यूपी में 20 वर्षो का ‘सूखा’ राहुल खत्म कर देंगे। केन्द्र में मनमोहन की यूपीए सरकार पदारूढ़ थी। इस वजह से कांग्रेस के पास संसाधनों और धनबल की कोई कमी नहीं थी। 2004 में कांग्रेस के पास यूपी में मात्र 09 लोकसभा सीटें थी,लेकिन राहुल के जर्बदस्त प्रचार के बाद यह आकड़ा 21 पर पहुंच गया। इसके अलावा कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ने वाली अजित सिंह की राष्ट्रीय लोकदल पार्टी के खाते में भी पांच सीटें आईं थी। यह सीटें कांग्रेस के लिये उम्मीद से काफी कम थीं,परंतु उस समय राहुल गांधी के युवा जोश को देखकर यह मान लिया गया कि राहुल का ‘सिक्का’ चल पड़ा है, लेकिन इसके बाद हुए 2012 के विधान सभा चुनाव, 2014 के लोकसभा चुनाव और तमाम उप-चुनावों में कांग्रेस प्रत्याशी अधिकांश सीटों पर चैथे नबंर पर नजर आने लगे थे। 2014 के लोकसभा चुनाव में तो कांग्रेस के सांसदों की संख्या दो पर ही यानी सोनिया-राहुल तक सिमट गई। इससे बड़ी बात यह थी कि लोकसभा चुनाव के समय अधिकाश कांग्रेसी उम्मीदवार सोनिया गांधी की तो जनसभा अपने यहां कराना चाह रहे थे,लेकिन राहुल गांधी की जनसभा अपने क्षेत्र में कराने को लेकर कोई भी प्रत्याशी रूचि नहीं दिखा रहा था। राहुल में अनेक खामियां हो सकती हैं,परंतु उनकी एक सबसे बढ़ी खूबी यह है कि उन्होंने कभी हार नहीं मानी और अपने अंदर कभी झांक कर यह देखने की कोशिश नहीं की कि वह पीएम बनने के योग्य भी हैं या नहीं। इसी लिये जब वह मोदी को चुनौती देते हैं तो ऊंट की पहाड़ से जुड़ी कहावत याद आ जाती है। 2009 से 2016 आते-आते राहुल में एक बदलाव और आ गया है। जब उन्हें यह लगने लगा कि बीजेपी को वह अकेले शिकस्त नहीं दे सकते हैं तो वह प्रशांत किशोर यानी पीके को यह सोच कर ले आये कि मोदी और नीतीश की तरह पीके उनकी भी कायाकल्प कर देंगे। मगर यह खेल भी लम्बा चलता नहीं दिख रहा है। ऐसे में कांग्रेस प्रियंका को लेकर संभावनाएं तलाश रही हैं।
कांग्रेस आलाकमान प्रियंका में संभावनाएं तलाश रहा है तो प्रियंका भी आलाकमान के सुर में सुर मिला रही हैं। गत दिनों अपनी दादी इंदिरा गांधी के जन्मशती समारोह पर स्वराज भवन आईं प्रियंका गांधी ने सक्रिय राजनीति में आने के संकेत दे भी दिए। इससे पहले वह राजनीतिक आयोजनों और किसी भी तरह का बयान देने से बचती रहतीं थी, लेकिन इस बार कार्यकर्ताओं से मुलाकात के दौरान प्रियंका ने सिर्फ सियासी मुद्दों पर बात की, जो कार्यकर्ता स्वराज भवन में प्रवेश नहीं कर सके, वह बाहर से प्रियंका के सक्रिय राजनीति में आने की मांग को लेकर नारेबाजी करते रहे और जिनकी प्रियंका से मुलाकात हुई, उन्होंने सीधे तौर पर प्रियंका से यूपी में पार्टी की कमान संभालने की मांग की। प्रियंका ने भी कार्यकर्ताओं को हताश नहीं किया। उन्होंने आस्वस्त किया कि इस बारे में जल्द ही कोई निर्णय लेंगी।
प्रियंका से मुलाकात के दौरान पार्टी के कई नेताओं ने तो यहां तक मांग उठाई कि पंडित नेहरू के जाने के बाद से फूलपुर संसदीय क्षेत्र दुर्दशा का शिकार है। कांग्रेस यहां कमजोर हैं। अगर प्रियंका 2019 के लोकसभा चुनाव में इस सीट से चुनाव लड़ जाएं, तो पार्टी को अपनी विरासत वापस मिल जाएगी। प्रियंका ने धैर्य के साथ सबको सुना और मुस्कुराते हुए बोलीं, ‘दिल्ली लौटकर कार्यकर्ताओं की सभी बातों पर विचार करुंगी और उचित समय आने पर निर्णय भी लूंगी।’ प्रियंका ने साफ तौर पर तो कुछ नहीं कहा, लेकिन उनकी ओर से कांग्रेसियों को मिला आस्वासन ही उन्हें उत्साहित करने के लिए काफी था। नेहरू की कर्मस्थली और इंदिरा की जन्म स्थली पर सियासत में हलचल मचा गईं प्रियंका गांधी को लेकर फिर नई बहस छिड़ गई है। जितना प्रियंका का सियासत में आना तय लग रहा है उतनी ही पक्की बात यह यह भी है कि प्रियंका को राहुल के नेतृत्व में ही काम करना पड़ेगा,वह अपनी सियासत नहीं चमका पायेंगी। 2009 में कांग्रेस ने राहुल गांधी को तुरूप के पत्ते की तरह पेश किया था,जो चल नहीं पाया। जानकार कहते हैं कि अब कांग्रेस के पास प्रियंका गांधी आखिरी सबसे बड़ा तुरूप का पत्ता रह गई हैं।अगर यह नहीं चला तो नेहरू-गांधी परिवार की सियासत इतिहास बन सकती हैं,लेकिन ऐसे लोंगो की भी कमी नहीं है जो राहुल के फ्लाप होने के बाद प्रियंका में नजर जमाये बैठे हैं और प्रियंका भी नहीं चली तो प्रियंका के बच्चों की तरफ उम्मीद भरी नजरों से देखने लगेंगे। कांग्रेस की सियासत का यही रंग-ढंग है।
बहरहाल,प्रियंका के राजनीति में आने की खबरों से कांग्रेसी खुश हैं तो प्रियंका के सामने चुनौती भी कम नहीं होगी। पिछले 27 वर्षो में यूपी में कांग्रेस का जनाधार पूरी तरह से बिखर चुका है,जिसे वापस कांग्रेस खेेमें मेें लाना प्रियंका के लिये असंभव तो नहीं, मुश्किल जरूर है। कांग्रेस का दलित वोटर बसपा के साथ और मुस्लिम वोटर सपा के पाले में चला गया है तो बीजेपी ने बनिया-ब्राहमणों को अपनी तरह कर रखा है। इसके अलावा भले ही प्रियंका का चेहरा-मोहरा भूतपूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी जैसा हो,लेकिन इंदिरा गांधी जैसा सियासी दिमाग वह कहां से लायेंगी। प्रियंका की अपरिपक्ता 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान देखने को मिली थी। प्रियंका के नीच वाले बयान को मोदी ने जिस तरह से हवा दी थी,उससे तब कागे्रस को बच कर निकलना मुश्किल हो गया था। इसी तरह से प्रियंका के पति राबर्ट वाड्रा के जमीन घोटालों को विपक्ष चुनावी मुद्दा बनायेगा। इससे बचकर निकल जाना प्रियंका के लिये आसान नहीं होगा।
कांग्रेस से दूर जायेंगे प्रशांत किशोर (पीके)

भले ही प्रियंका को आगे लाने में कांग्रेस के रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने अहम भूमिका निभाई हो,लेकिन चर्चा यह भी चल रही है कि कांग्रेस अपने रणनीतिकार प्रशांत किशोर से छुटकारा पाने की कोशिश कर रही है। गत दिनों दिल्ली में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के साथ यूपी कांग्रेस के नेताओं की एक अहम बैठक में पीके के मसले पर खुलकर चर्चा हुई तो इस अहम रणनीतिक बैठक में पीके की नामौजूदगी ने कई सवाल खड़े किये। इसी बैठक के बाद पीके और कांग्रेस के रास्ते अलग होने की चर्चाएं तेज हो गईं। कहा जा रहा है कि कांग्रेस के तमाम नेता पिछले कुछ अर्से से प्रशांत किशोर के कामकाज के तरीके से नाखुश हैं। वैसे, मामला एक तरफा भी नहीं है। पीके के करीबियों की तरफ से भी उनके कांग्रेस से अलगाव की खबरें आ रही हैं।
गौरतलब हो हाल ही में सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव से सपा-कांग्रेस गठबंधन की बात करके पीके कई कांग्रेसियों के निशाने पर आ गये थे। पीके की तालमेल की कोशिशों से कांग्रेस की काफी किरकिरी हुई थी। बैठक में पीके को लेकर कुछ ऐसी बातें भी सामने आईं जिन्हें लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं में नाराजगी काफी बढ गई। पीके की कार्यशैली और उससे पार्टी की हो रही असहजता पर चर्चा के दौरान बैठक में ज्यादातर लोगों की राय थी कि पीके की सेवाएं खत्म की जाएं। इस बैठक में प्रियंका गांधी, यूपी के प्रभारी महासचिव गुलाम नबी आजाद, यूपी कांग्रेस चीफ राज बब्बर, कैंपेन कमिटी के अध्यक्ष संजय सिंह, क्रांगे्रस की ओर से सीएम पद की दावेदार शीला दीक्षित व प्रमोद तिवारी शामिल थे। पीके से कांग्रेसी नेताओं की नाराजगी को लेकर जो लब्बोलुआव निकला उस आधार पर यह मान लिया गया कि पीके ने आलाकमान को भरोसे में लिए बिना ही जेडीयू के सांसद केसी त्यागी, सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव और अमर सिंह से मिलकर गठबंधन की बात की थी। पीके के इस कदम को पार्टी लाइन से अलग बताया गया।
बात यहीं तक सीमित नहीं थी। पीके एक बार सीएम अखिलेश से मिलने भी गए थे,जिन्हें अखिलेश ने बैरंग वापस लौटा दिया था। इसके बाद पीके ने मुलायम-अमर से दबाव बनवाकर मुलाकात की। अखिलेश के यह कहने के बाद कि खाट वाले लड़ाई में नहीं, यूपी कांग्रेस के नेता और नाराज हो गए। गौरतलब हो हाल ही में रीता बहुगुणा जोशी ने जब कांग्रेस छोड़ी तो पीके पर तीखा हमला करते हुए कहा था कि कई अन्य कांग्रेसी भी पीके की कार्यशैली से असंतुष्ट हैं। पीके उनसे राय नहीं लेते, यह शिकायत लगभग सभी को है।

1 thought on “यूपी कांग्रेस : राहुल से निराश, प्रियंका से आस

  1. ऐसा करके कांग्रेस अपना अंतिम हथियार प्रयोग में लेगी , कांग्रेसी इसे ब्रह्मास्त्र समझे बैठे हैं लेकिन इस शस्त्र के प्रयोग के बाद भी खुदा न खास्ता अगर अपेक्षित सफलता नहीं मिली तो क्या होगा ? यह सवाल भी उनके लिए विचारणीय होना चाहिए, यह तो सत्य है ही कि राहुल असफल हो चुके हैं प्रियंका के असफल होने के बाद कांग्रेस की क्या हालत होगी ?टुकड़ों में तो इस परिवार के रहने तक नहीं लेकिन तक भा ज पा कोई गलती न करे व जनता का इस पार्टी से मोहभंग न हो तब तक कांग्रेस का सत्ता की सीढियाँ चढ़ना असम्भव ही होगा और उस समय तक कांग्रेस का क्या रूप रहेगा व राष्ट्रीय दल रहेगा या क्षेत्रीय दल बन जाएगा यह इन राजकुमार व राजकुमारी पर निर्भर करेगा

Leave a Reply

%d bloggers like this: