लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under हिंद स्‍वराज.


विकास सिंघल

महात्मा गाँधी जो भारत के तथाकथित राष्ट्रपिता कहलाये जाते है, इनकी कोई भी आलोचना इस देश में राष्ट्र द्रोह करार दे दी जाती है. कोई भी व्यक्ति भगवन नहीं हो सकता. हर किसी से गलतियाँ हो सकती है. हर व्यक्ति अपने जीवन में कुछ अच्छे काम करता है कुछ गलत. समाज को उसके अच्छे एंव बुरे दोनों कार्यो से प्रेरणा लेनी चाहिए. आज में गाँधी जी के ऐसे ही कुछ कार्यो की और पाठको का ध्यान आकर्षित करना चाहता हूँ जब गाँधी जी ने जन आकांक्षा एवं लोकतंत्र के खिलाफ जाकर अपनी ”सोच” इस देश पर थोपी थी.

पहला प्रकरण भगत सिंह से सम्बंधित है. ये हम सभी जानते है की भगत सिंह एवं उनके साथियों को विभिन परकार के झूठे मुकदमो में फंसा कर फांसी पर चढाने की पूरी तयारी कर ली थी. दरअसल अंग्रेजो को सबसे ज्यादा डर इन्ही क्रांतिकारियों से था. क्योंकि ये अंग्रेजो को उन्ही की भाषा में जवाब देते थे. इसलिए अंग्रेज क्रांतिकारियों का सफाया चाहते थे.

इसी दौरान गाँधी एवं कांग्रेस के नेतृत्व में देश में अंग्रेजो के खिलाफ व्यापक आन्दोलन हो रहे थे. जिस में देश की जनता भी बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले रही थी. जिससे अंग्रजी सरकार की चूले हिल गयी थी. तात्कालिक वैसरॉय लोर्ड इरविन किसी भी हालत में इन जनांदोलनो को रोकना चाहते थे. परिणामस्वरूप अंग्रेजी सरकार घोषणा करती है की वे गाँधी जी की सभी मांगे मानने के लिए तैयार है, एवं गाँधी जी को बातचीत का न्योता देती है. जिसे गाँधी जी स्वीकार कर लेते है. अंग्रेजो को लगता था की गाँधी जी सभी मांगो के साथ भगत सिंह एवं अन्य क्रांतिकारियों की रिहाई की भी मांग करेंगे. इसलिए लोर्ड इरविन इसके लिए भी तैयार थे, तथा इसके लिए उन्होंने लन्दन की भी स्विकिरती ले ली थी. दूसरी और देश की जनता में भी यही आशा थी की अब भगत सिंह एवं साथी जेल से रिहा हो जाएँगे. भगत सिंह के क्रांतिकारी विचारो से देश का युवा वà ��्ग विशेष प्रभावित था. दरअसल भगत सिंह वो पहले जन नेता थे जिन्होंने लोकपिर्यता के मामले में पहली बार गाँधी जी को पीछे छोड़ दिया था. मगर देश की जनता यह सुन कर चकित रह गयी की गाँधी जी ने भगत सिंह की फांसी का जिक्र तक इरविन के साथ हुए समझोते में नहीं किया. जबकि गाँधी जी ने दुसरे 70000 बंदियों को छुधा लिया था. अंग्रेजो को तो बिन मांगी मुराद मिल गयी थी. गाँधी जी के इस फैसले से देश की जनता में तीव्र प्रतिक्रिया हुई. परिणामस्वरूप गाँधी जी जहाँ भी जाते उन्हें काले झंडे दिखाए जाने लगे. यहाँ तक की इन घटना के बाद कांग्रेस के कराची में हुए अधिवेशन तक में उन्हें काले झंडे दिखाए गए. यह पहला समय था जब गाँधी जी को इतना तिर्व जन विरोध झेला पड़ा था. जिसका जिक्र स्वयं नेहरु ने लिखते हुए किया है की अगर भगत सिंह जिन्दा रहते तो कांग्रेस एवं गाँधी को पीछे छोड़ देते.

दूसरा प्रकरण नेता जी सुभाष चन्द्र बोस से संबंधित है. बात दरसल 1938 की है. देश की जनता गाँधी एवं कांग्रेस के अति आदर्शवादी भाषणों से उब चुकी थी. जनता नए विकल्पों की और देखने लगी थी. जो उन्हें नेताजी के रूप में मिलगया था. परिणाम स्वरुप वो गाँधी जी के विरोध के बावजूद नेताजी कांग्रेस के अध्यक्ष निर्वाचित हुए. परिणाम स्वरुप गाँधी जी के ”चमचा नेताओ” ने नेताजी के काम में अडंगा डालना शुरà �‚ कर दिया. यहाँ तक की कांग्रेस कार्यसमिति का गठन भी उन्हें नहीं करने दिया गया.

अगले साल 1939 में पुन: कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव आया. गांधीजी ने इस बार पट्टाभि सितारैमैया को खड़ा किया तथा नारा दिया की ”पट्टाभि सितारैमैया की हार मेरी हार होगी”. बावजूद इसके पट्टाभि सितारैमैया चुनाव हार गए और नेताजी पुन: कांग्रेस के अध्यक्ष निर्वाचित हो गए. भगत सिंह प्रकरण के बाद यह दूसरा समय था जब गाँधी के ऊपर जनता ने किसी और को वरीयता दी थी. किन्तु गाँधी के चमचो ने पुन: अपना खे ल खेला एवं नेताजी के कार्यो में विघन ढालना जरी रखा. जिससे दुखी होकर नेताजी ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया. अगर वो चाहते तो स्वयं गाँधी एवं कंपनी को कांग्रेस से बहार का रास्ता दिखा सकते थे या कांग्रेस की दो फाड़ कर सकते थे. किन्तु उन्होंने ऐसा नहीं किया. इस प्रकार गाँधी जी ने एक बार पुन: लोकतंत्र को ठगा और अपनी निजी राय देश पर थोपी. क्या यही सम्मान था गाँधी जी के दिल में लोकतंत्र के लि ए. क्यों एक निर्वाचित अध्यक्ष को इस तरह हटने के लिएय मजबूर किया गया.

तीसरा प्रकरण 1946 -47 का है. भारत का बटवारा एंव स्वतंत्रता निश्चित हो चुकी थी. देश के सामने यक्ष प्रशन था की प्रथम प्रधानमंत्री कोन बनेगा. 1946 में कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव होने थे. ये आम धरना थी की कांग्रेस अध्यक्ष ही प्रथम प्रधानमंत्री बनेगा. देश की जनता सरदार पटेल जी के पक्ष में थी और गाँधी जी नेहरु के पक्ष में. इसलिए ये निश्चित था की अगर सीधे चुनाव हुए तो जन दबाव में सरदार पटेल कांà ��्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव जरुर लड़ेंगे और जीतेंगे भी. इसलिए गाँधी एवं नेहरु ने चाल चलते हुए पहली बार कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए कांग्रेस के प्रांतीय अध्यक्षों की रायशुमारी का प्रस्ताव रखा. उस समय 16 कांग्रेस प्रांतीय अध्यक्ष हुआ करते थे जिसमे से 13 प्रांतीय अध्यक्षों ने सरदार पटेल के नाम का प्रस्ताव दिया. परन्तु गाँधी जी के आग्रह पर सरदार पटेल जी ने ये प्रस्ताव ठुकरा दिए. इस प्रका�¤ ° गाँधी जी ने पुन: लोकतंत्र का गला घोटते हुए अपनी निजी राय के रूप में नेहरु को इस देश पर थोप दिया. नेहरु ने इस देश के साथ क्या कुकर्म किये ये पूरा इतिहास है.

ऐसा नहीं है की गाँधी जी को अपनी गलतियों का एहसास नहीं हुआ. जब उन्होंने नेहरु को प्रधानमंत्री के रूप में कार्य करते हुए देखा और ये जाना की नेहरु बिलकुल फ़ैल साबित हो रहा है तो वे बहुत दुखी और असंतुष्ट हुए. और इस बारे में जब उनसे उनके एक अमरीकी पत्रकार मित्र ने पूछा की ”गाँधी जी आप कुछ करते क्यों नहीं?” पत्रकार का आशय नेतरत्व परिवर्तन से था. तो गाँधी जी ने जवाब दिया की ”अब न तो वो सà ��य है और न ही वे लोग है.” मुझे पूरा यकीन है की ये बात कहते समय उनके मन में जरुर भगत सिंह, नेताजी बोस एवं सरदार पटेल के संस्मरण ताजा हो गए होंगे. इसीलिए सरदार पटेल का इस्तीफा कई बार वह यह कह कर रुकवा देते थे की देश को सरदार पटेल की जरुरत है.

अंत में एक प्रशन: क्या हम इतिहास से कोई सबक लेंगे?

9 Responses to “जब जनमत के खिलाफ गए गाँधी”

  1. डॉ. राजेश कपूर

    dr.rajesh kapoor

    लेखक ने एक महत्वपूर्ण विषय पर लिखने का साहस किया है. पर इतिहास के चंद तथों को अंतिम और निर्णायक मान कर हम सत्य तक पहुँचने में चूक जाते हैं. गांधी जी को लेकर कुछ उल्लेखनीय बातों पर ध्यान देने की ज़रूरत है.
    (१) गांधी भारत की मिट्टी से गहरे से जुड़े हुए थे और उनके पास आध्यात्मिक साधना की संपत्ति थी जिनके कारण वे अन्य नेताओं की तुलना में भारत के मन को अधिक गहरे से समझ सके और उन्हें आंदोलित कर सके, अपने नेतृत्व में चला सके.(२) कुटिल अंग्रेजों की कार्यशैली को समझते हुए देखें कि उन्हें उग्र देशभक्तों की तुलना में गांधी कहीं अधिक सुरक्षित नज़र आये. अफ्रिका में उनकी कार्य शैली को देखा जा चुका था और सिद्ध हो गया था कि वे अंग्रेजों के लिए १८५७ जैसा ख़तरा पैदा न होने देने की गारंटी है. इसी लिए अँगरेज़ परस्त अखबारों ने उन्हें भारत आने से पहले ही भारतीयों के मन में बिठा दिया था. जिस दिन वे भारत आये, उसी दिन अखबारों ने ऐसा ढिंढोरा पीटा कि मानो कोई अवतार उतर आया हो. एक ही दिन में उन्हें देश की राजनीति का सिमौर अँगरेज़ परस्त अखबारों ने बनाया. इस प्रकार सारी उग्र देशभक्त ताकतों को ठिकाने लगाने का कुटिल और चतुराई भरा अंग्रेजी प्रयास शुरू हुआ. सारे देश भक्तों की उपेक्षा करते हुए केवल गांधी को ही अधिमान देना, गांधी को स्थापित करना अंग्रेजी चाल व कूटनीति का महत्वपूर्ण हिस्सा था.
    (३) यह तो सच है कि गांधी इमानदारी से देशभक्त तो थे, चाहे उनकी कई नीतियाँ देश हित में नहीं थीं. वे ईसाई धर्मांतरण के और गो ह्त्या के भी प्रखर विरोधी थे जो कि ईसाई ताकतों सहन न था. अतः बाद में गांधी जी को ठिकाने लगाने के लिए नेहरु को अंग्रेजों ने बढ़ावा दिया. * ज़रा ध्यान से देखें कि भारत का प्रतिनिधित्व कौन करेगा, इसका निर्णय भारत कि किसी शक्ति द्वारा नहीं, अंग्रेजों द्वारा, उनकी सुविधा के अनुसार होता था. गांधी का इस्तेमाल करके प्रखर व उग्र देशभक्तों को ठिकाने लगाया और फिर नेहरु जैसे अंग्रेजी सोच व चरित्र के व्यक्ति को बढ़ावा देकर गाँधी जी को किनारे कर दिया. यही ईसाई राष्ट्रों की आजमाई तकनीक है. बाद में नेहरू से भी अधिक अनुकूल शक्तियों को देश की सत्ता पर सवार करने के सतत प्यास चलते रहे जो आज भी जारी है. श्रीमती सोनिया गांधी उन्ही नीतियों की अंतिम से पहली परिणति हैं.( अंतिम परिणति तो उनके पुत्र के राज्याभिषेक से होगी )……………..
    एक बात पर और ध्यान दें कि आज वही ईसाई यूरोपियन नीतियाओं का व्यापक इस्तेमाल हो रहा है. प्रखर देशभक्त बाबा रामदेव को राष्ट्र व्यापी आन्दोलन से बाहर करने के लिए अन्ना हजारे का कुटिल व कुशल प्रयोग किया और भ्रमित अन्ना को नकारा बनाने के लिए ईसाई, वामपंथी सरकारी एजेंटों का प्रयोग करके बेचारे सरल अन्ना को निष्प्रभावी बना दिया. सारे परिदृश्य को समझने के लिए कुटिल यूरोपीय मानसिकता व तकनीक को ध्यान में रखना होगा. तभी हम गांधी व अन्य नेताओं का वस्तुपरक विश्लेषण करके सही मार्ग चुन सकेंगे. ……एक बात और गांधी जी के चरित्र की स्मरणीय है कि वे जीवन के प्रारम्भ में अत्यधिक वासना के वश में थे पर इस दुर्बलता को उन्हों ने बाद में बड़े तप के साथ जीता. जो उन्हें शक्तिशाली व साधना की शक्ती से संपन्न बनाने वाला सिद्ध हुआ. कुछ लोगों का मत है कि जीवन के दुर्बल क्षणों की किसी भूल के कारण भी वे नेहरू से सदा दबते रहे. नेहरू जी तो काम संबंधों को लेकर सदा ही अत्यंत कामुक रहे. एडविना के लिए देश का बटवारा किया, काश्मीर का नासूर देश को दिया. और न जाने क्या-क्या किया. अतः गांधी जी के व्यक्तित्व के मूल्यांकन व देश पर उनके कार्यों के प्रभावों के सही विश्लेषण के लिए सभी आयामों को देखना- परखना होगा. ऐसा तो नहीं होता कि कोई केवल गलत या बुरा ही हो या केवल अच्छा ही अच्छा हो. सभी पक्षों को देख कर निष्कर्ष निकालने होंगे.

    Reply
  2. आर. सिंह

    आर.सिंह

    विमलेश जी,आप अभी भी भटक रहें हैं और मोतीलाल नेहरु को उस कार्य का श्रेय दे रहेहैं जिसमें उनका दूर दूर तक कोई नाता नहीं था.गांधी अफ्रीका किसलिए गये थे और वहां कैसे प्रसिद्ध हो गये ,यह अलग कहानी है,पर गांधीजी उस समय के कांग्रेसियों के सम्पर्क में कैसे आये ,यह उस समय के इतिहास में विषद रूप में वर्णित है और शायद अंतर्जाल यानी इंटरनेट पर भी उपलब्ध है.बाद की परिस्थितियाँ शायद ऎसी है जो आप जैसे युवकों को गुमराह कर सकती है,पर मेरे विचार से सचाई कुछ और है..

    Reply
  3. vimlesh

    आर एन सिंह जी आपकी टिप्पणियों का सारा प्रवक्ता परिवार तक प्रसंस्क है फिर मेरी क्या बिसात
    बहुत बहुत धन्यवाद
    थोडा सा ६ ठी इन्द्री पर जोर डालिए और इतिहास को थोडा अलग करके सोचिये .
    मोतीलाल नेहरु जो सर्व समर्थ थे खुद प्रसिद्ध क्यों नही हो गए नाम के लिए लोग क्या नही करते . लेकिन गाँधी गाँधी हो गये अरे उस समय गाँव के पास का गाँव जल जाता था लोगो को पता तक नही चलता था फिर ये गाँधी की खबरे अफ्रीका से जन जन तक कैसे पहुच जाती ठी
    विचार कीजिये
    मैंने पहले भी कहा है मोतीला कोई घसियारा नही था .
    देश पर राज करने की बिसात बहुत पहले से बिछा रहा था.

    Reply
  4. आर. सिंह

    आर.सिंह

    विमलेश जी आपने यह भी लिखा है,
    “लेकिन हम अपनी संतानों को क्या देकर जायेगे”
    तो इसका उत्तर यह है की उसका दोषी मैं मोतीलाल नेहरु या उनके समकक्ष पीढी को नहीं मानता.इसका सबसे बड़ा दोषी है वह पीढी जो १९२८ से १९४७ के बीच पैदा हुआ था,क्योंकि आजादी के बाद के भारत के निर्माण या ध्वंस में उस पीढी का पहला हिस्सा है.ऐसे मेरा जन्म भी उसी अंतराल में हुआ था.अत: मैं अपने को भी दोष मुक्त नहीं समझता.

    Reply
  5. आर. सिंह

    आर.सिंह

    विमलेश जी आपने लिखा है,
    “वरना गाँधी को कौन जानता था जनता से उसका परिचय मोतीलाल ने करवाया”
    भावुकता के शिकार होकर ऎसी गलत बातें तो न लिखिए आपलोग. आजादी की लड़ाई में,जहां तक मेरा ज्ञान है ,जवाहर लाल नेहरु पहले आये थे,तब मोतीलाल नेहरु आये थे.रही गांधी की बात तो वे भारत आने के पहले दक्षिण अफ्रीका में प्रसिद्धि प्राप्त कर चुके थे.अगर किसी इतिहास की पुस्तक में इससे अलग लिखा हो तो उस पुस्तक का नाम मैं जानना चाहूंगा,क्योंकि मैं तो आज भी अपने को विद्यार्थी ही मानता हूँ और इससे मेरे ज्ञान में वृद्धि हीं होंगी..

    Reply
  6. आर. सिंह

    आर.सिंह

    इतिहास का कोई भी गम्भीर पाठक जानता है की ये सब घटनाएँ भारतीय इतहास की कडवी सचाई हैं,पर अब उनको बदला नहीं जा सकता.ऐसे भारतीय इतिहास इस तरह की घटनाओं से भरा पड़ा है,जिसमें पानीपत की तीनों लडाइयां प्रमुख हैं.ऐसे भी चलती का नाम गाड़ी है.जो चल जाए उसी का वारा न्यारा है.ऐसे हमलोग आज भी इतिहास से सबक नहीं ले रहे. हैं और वंश परम्परा के पीछे भाग रहें हैं.इन्हीं सब कारणों से भारत में वास्तविक लोकतंत्र का विकास अभी भी नहीं हो पाया है.हमारी दोगली नैतिकता का भी इसमें कम हाथ नहीं(हिपोक्रेसी को मैं नैतिक दोगलापन कहता हूँ.)

    Reply
  7. Vimlesh

    विकाश जी बधाई की आपने उस बीमारी का नाम आज लिया जिसका नाम आम भारतीय नही जनता जी हा
    गाँधी नेहरु भ्रस्ताचार
    अरे भइया यह गांघी था कौन जैसे आज दिग्गी राजा वैसे ही गाँधी मोतीलाल बैरिस्टर थे न की घसियारे उसकी निगाह बहुत तेज थी

    वो पहले से थी इस देश पर राज करने की बिसात बिछा रहे थे
    बस उसे 1 मोहरा की तलाश थी जो उसकी बाजी को जीता में बदल सके और वह मोहरा बने गाँधी
    जी हा मोहन दस
    (मोती -मोहन समानता है की नही )
    वरना गाँधी को कौन जनता था जनता से उसका परिचय मोतीलाल ने करवाया
    इस गाँधी की ही देन है पाकिस्तान
    जिसका जिक्र स्वयं नेहरु ने लिखते हुए किया है की अगर भगत सिंह जिन्दा रहते तो कांग्रेस एवं गाँधी को पीछे छोड़ देते.
    सीधी सी बात है मोतीलाल को पागल कुत्ते ने कटा था जो गाँधी की मदद (सैकड़ो अनाथ आश्रम ) कर रहे थे
    बस गाँधी ने तो नमक का कर्ज अदा किया था

    किन्तु आज जो अपने आप को कांग्रसी कहते है कभी उन्होंने सोचा क्या नेहरु ने यह कर्ज गाँधी से कैसे उतरा राष्ट्र पिता का सम्मान दिला कर .

    वरना आम जन से आज पूछो गाँधी किस चीज के काबिल था

    नेहरु जन्मजात अंग्रेजो के गुलाम थे और तजन्म गुलाम रहे

    नेहरु के बाप ,बाबा , और बाबा के बाप ,चाचा

    ये सारे के सारे अंग्रेजो के जूते चाटते थे .

    साथियों अगर किसी को बुरा लगे तो क्रपया नेहरु का इतिहास जरूर पद लेना .
    (किन्तु वह नहीं जो सोनिया पडवा रही है )

    यह बात गाँधी को क्या नहीं पता थी ?

    पता थी
    लेकिन मोतीलाल जैसे शक्स का वफादार कुत्ता इतना दमदार कभी नहीं हो सकता था जो अपने मालिक पर भौके

    अगर गाँधी भौकते तो उन अनाथ आश्रमों का राज मोतीलाल फास कर देते तब गाँधी को पब्लिक नंगा करके मरती .

    इसी लिए गाँधी चुप रहे

    वाह रे मोतीलाल क्या आला दिमाग पाया था तुने

    आज भी तेरी वैध अवैध संताने
    देश की मूर्ख जनता को और अधिक मुर्ख बना कर देश पर राज कर रही है .

    दोस्तों हम तो मुर्ख है ही क्या आप में से किसी के पास है
    मोतीलाल जैसा दिमाग
    क्योकि लोहे को लोहा ही कटता है

    नहीं है न आपमें मोती जैसा दिमाग कोई बात नहीं .

    लेकिन अफ़सोस केवल इतना है की मोतीलाल अपनी संतानों को इतना देकर मरा

    लेकिन हम अपनी संतानों को क्या देकर जायेगे

    यह भ्रस्ताचार अत्याचार यह अनाचार और यह अश्लीलता .
    छि मुझे खुद पर शर्म आती है.घिन भी आती है

    क्या आपको भी आती है

    Reply
  8. sunil patel

    जिन्हें सच्चा इतिहास नहीं पता होगा उनके खून में उबाल कहाँ से आएगा. सच्चा इतिहास लोगो को कहाँ बताया गया है. सच्चाई को लिखने की हिम्मत करने के लिया श्री विकास जी को धन्यवाद.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *