हथेली में चंद्र पर्वत का है जीवन में अहम स्थान

हमारे जीवन में हाथों की रेखाओं के साथ ही कई अन्य निशान भी होते हैं जिससे किसी के भी बारे में जाना जा सकता है। हाथ में चंद्र पर्वत बेहद महत्‍वपूर्ण और जीवन के बारे में बहुत कुछ बताने वाला होता है। यदि चंद्र पर्वत सामान्य विकसित हो तो जातक बहुत जल्‍दी सपनों की दुनिया में ही लाखों कमा लेते हैं। करोड़ो रूपये का हिसाब-किताब इनकी उंगलियों पर चलता है। हालांकि ये योजनाएं धरातल पर कम और काल्‍पनिक ज्‍यादा होती हैं। इसलिए कोई भी योजना ये पूरी नही कर पाते और ना ही इनके अंदर कोई कार्य करने का साहस होता है।इस तरह के जातक हद से ज्यादा भावुक होते हैं। किसी भी व्यक्ति की हल्की से बात इनको अंदर तक झकझोर देती है। इनको दूसरों की बातें बहुत जल्दी चुभती हैं। इनके अंदर साहस ना के बराबर होता है। ये लोग निराशा वादी होकर जल्दी पलायन कर जाते हैं।
यदि चंद्र पर्वत हथेल से बाहर निकल जाए तो ये जातक स्त्री के पीछे रहने वाले भोगी होते है। इन्‍हें जीवन में भोग और विलास से अलग कोई और कार्य नही सूझता। यदि चंद्र पर्वत पर आड़ी-टेड़ी रेखाएं हों तो जातक अपने जीवन में जल यात्रा करता है और यात्रा करने का बहुत ही ज्यादा शौकीन होता है। यदि चंद्र पर्वत गोल गिरा हो तो जातक राजनीति कार्य से विदेश यात्रा करता है। जिन जातकों का चंद्र पर्वत सामान्य रूप से उभरा हुवा हो तो जातक समझदार माना जाता है। यदि किसी जातक के हाथ में चंद्र पर्वत अधिक उभरा हुवा होता है तो वे जातक स्थिर, पागल, वहमी , निराश, रहने वाले होते है। इन्‍हें सरदर्द की शिकायत रहती है।
वहीं जिस व्यक्ति की हथेली पर स्थित हृदय रेखा हथेली के किनारे से निकलती है, तो ऐसा व्यक्ति कुण्ठा एवं निराशा से उत्पन्न होने वाले क्रोध में आदर्श की प्रवृत्ति रखता है। ऐसा व्यक्तियों को मनुष्यों की अपेक्षा मूर्तियों से ज्‍यादा प्रेम होता है। ऐसा व्यक्ति कभी भी मानवीय सीमाओं को मान्यता नहीं देता। ऐसा व्यक्ति सदा ही सच्चे एवं निर्दोष मित्र तथा अनुयाइयों की कामना रखता है।
ज्योतिष के अनुसान जिस व्यक्ति की हथेली पर स्थित हृदय रेखा छोटी होती है तो ऐसा व्यक्ति उदासीन, कठोर एवं अत्यधिक क्रूर प्रवृत्ति का होता है। किन्तु यदि हृदय रेखा लम्बी है तो यह सम्बंधित व्यक्ति के दयालु एवं स्नेही स्वभाव वाला होने की सूचक है। जिस व्यक्ति की हथेली पर स्थित हृदय रेखा गहरी बनी होती है ऐसा व्यक्ति गिने चुने मित्रों के प्रति गहरे स्नेह एवं आदर के भाव रखता है। किन्तु यही हृदय रेखा चौड़ी बनी हो तो सम्बंधित व्यक्ति के असंख्य लोगों के प्रति उमड़े प्रेम की कहानी कहती जिस व्यक्ति की हथेली पर स्थित हृदय रेखा जब हथेली को लम्बे मोड़ से काटती हुई जाती है, तो सम्बंधित व्यक्ति उत्साहपूर्ण एवं भावुक प्रवृत्ति वाला होता है। ऐसे व्यक्ति का हृदय सच्चा होता है एवं यह अच्छा साथी भी सिद्ध होता है। इस प्रकार की हृदय रेखा के स्वामी व्यक्ति प्रिय पुत्र, स्नेही मित्र एवं आज्ञाकारी बच्चे सिद्ध होते हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: