लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under विविधा.


‘प्रवक्ता डॉट कॉम’ वेब पत्रकारिता का चर्चित मंच व वैकल्पिक मीडिया का प्रखर प्रतिनिधि है। इसकी शुरूआत 16 अक्टूबर, 2008 को हुई थी। ‘प्रवक्‍ता’ का उद्देश्‍य है जनसरोकारों से जुड़ी खबरों को लोगों तक पहुंचाना एवं विचारशील बहस को आगे बढ़ाना।

विचार पोर्टल प्रवक्‍ता डॉट कॉम के दो साल पूरे होने पर एक ऑनलॉइन लेख प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है।

प्रतियोगिता में भाग हेतु निम्‍नलिखित नियमों से सहमत होना अनिवार्य है-

प्रतियोगिता का विषय : वेब पत्रकारिता : चुनौतियाँ व सम्भावनाएँ

पुरस्‍कार

प्रथम पुरस्‍कार: रु. 1500/-

द्वितीय पुरस्‍कार: रु. 1100/-

योग्‍यता : इस प्रतियोगिता में कोई भी व्‍यक्ति देश या विदेश से भाग ले सकता हैं।

अवधि : 15 नवम्बर, 2010 तक लेख भेज सकते हैं।

शब्‍द सीमा : लेख 2000 से 3000 शब्दों के बीच का होना चाहिए।

भाषा : लेख केवल हिन्दी भाषा में होना चाहिए।

विजेता की घोषणा :

16, नवम्बर 2010 को प्रवक्‍ता डॉट कॉम पर विजेता के बारे में घोषणा की जाएगी।

अन्‍य नियम

आपका लेख अप्रकाशित एवं मौलिक होना चाहिए।

लेख प्रवक्‍ता डॉट कॉम पर प्रकाशित किए जायेगा एवं बाद में इसे पुस्‍तक का स्वरूप भी रूप दिया जा सकता है।

लेख के साथ अपना किसी सरकारी संस्थान द्वारा जारी परिचय पत्र की छाया-प्रति, जीवन परिचय एवं फोटोग्राफ भी भेजें।

पुरस्कार की राशि डाक द्वारा भेजी जाएगी।

पुरस्‍कार के संबंध में जजों का निर्णय ही सर्वोपरि होगा।

अपना लेख ईमेल या फिर डाक (सामग्री- फ्लॉपी या सीडी में केवल) के जरिये हमें निम्न पते पर भेजें-

mail@pravakta.comprawakta@gmail.com

कृपया अपना लेख हिन्दी के युनिकोड फ़ोंट जैसे मंगल (Mangal) में अथवा क्रुतिदेव (Krutidev) में ही भेजें।

नोट- विस्‍तृत जानकारी के लिए यहां क्लिक करें।

23 Responses to “प्रवक्ता डॉट कॉम के दो साल पूरे होने पर ऑनलाइन लेख प्रतियोगिता”

  1. Animesh kumar jain

    प्रवक्ता .कॉम के २ varsh पुरे होने की subhkamnaye .

    Reply
  2. vivek ranjan shrivastava

    वेब पत्रकारिता एक नितांत नया क्षेत्र है , वेब की सारी दुनिया में त्वरित पहुंच ने इसकी महत्ता स्वयमेव स्थापित कर दी है , किसी भी नये फील्ड को स्थापित करना साहसिक कार्य होता है , जिसमें श्रम , धन , समय सब कुछ लगता है . आप यह महत्वपूर्ण कार्य करते जा रहे हैं और चुनौतियो के २ वर्ष पूर्ण भी कर चुके हैं …मंगलकामनाये , बधाई …आपके साथ
    विवेक

    Reply
  3. rajendra kashyap

    संजीव कुमार जी प्रवक्ता को लगाटर सफलता से चलाना, का काम बहुत मुशाकेल hai

    Reply
  4. राम कृष्ण खुराना

    R K KHURANA

    महोदय,
    प्रवक्ता ने दो वर्ष पूरे कर लिए इसके लिए आपको लाख लाख बधाई ! इश्वर से प्रार्थना है की यस इसी प्रकार निरंतर आगे बढती रहे !
    शुभकामनायों सहित
    राम कृष्ण खुराना

    Reply
  5. नरेश भारतीय

    प्रिय बन्धु संजीव जी

    प्रवक्ता डॉट काम के दो वर्ष पूरे होने पर आपको हार्दिक बधाई और शुभ कामनाएं प्रेषित कर रहा हूँ. आपके इस उपक्रम की प्रभाविकता का ही परिणाम है कि अपने साहित्यिक और पत्रकारिता के जीवन में हमेशा हाथ से ही लिखने का अभ्यास होने के बावजूद सत्तर वर्ष की आयु में मेंने पहली बार यदा कद कुछ शब्द प्रस्तुत माध्यम से टंकित करके आपको भेजने की कला सीख ली है. आपके द्वारा अत्यंत महत्त्वपूर्ण कार्य हो रहा है. मात्र वेब पत्रकारिता का सर्वेश्रेष्ठ स्वरूप ही अनुभव में नहीं आया है अपितु इसके साथ ही हिंदी के प्रयोग को भी प्रोत्साहन मिल रहा है. आशा करता हूँ अपने इस श्रेष्ठ प्रयोग को आप अंग्रेज़ी की दासी नहीं बनने देंगे जैसा कि आज भारतवर्ष में सर्वत्र हो रहा है. यह दुर्भाग्यपूर्ण और राष्ट्रहित घातक स्थिति विकास है.

    विचारों का उन्मुक्त आदान प्रदान आज के परिवेश में नितान्त महत्त्वपूर्ण है. लेकिन जहाँ तक भारत का सम्बन्ध है उसमें सर्वाधिक योगदान भारत की माटी के साथ जुड़े विचारवान लोगों का ही होना चाहिए नाकि उनका जिनका प्रेरणा स्रोत विदेश हो. जो मात्र विदेशी भाषा में सोचते हों, विदेशी दृष्टि से भारत को देखना चाहते हों और विदेशी ढंग से ही जीना और जीना सिखाना चाहते हों. मैं अब एक विदेशवासी भारतीय हूँ लेकिन अपनी जन्मभूमि, मातृभूमि, पितृभूमि और पुण्यभूमि की पारंपरिक श्रेष्ठता और महत्ता पर घोर वैदेशिकता के साये मंडराते देख कर व्यथित होता हूँ.

    शुभाकांक्षी.

    नरेश भारतीय
    लेखक, पत्रकार और समीक्षक
    यू. के.

    Reply
  6. राजश्री

    सर
    आपको पहेले दूसरे जन्मदिन की शुभ आशीष. हिंदी को बढावा देने का एक महत्त्वपूर्ण कदम सराहनीय हैं

    Reply
  7. अमिताभ श्रीवास्तव

    हिन्दी के विस्तार और विचारों के प्रवाह के प्रति आपके प्रयास निश्चित ही सराहनीय है। मेरी अनेकानेक शुभकामनाये हैं।

    Reply
  8. Jeengar Durga Shankar Gahlot

    श्री संजीव सिन्हा जी, नमस्कार. ‘ प्रवक्ता डोट कॉम ‘ के दो वर्ष पुरे होने पर हार्दिक बधाई और इसकी निरंतर प्रगति व सफलता की मंगल कामनाये. साथ ही, आपके इस साहसिक प्रयास के लिए नमन.
    – जीनगर दुर्गा शंकर गहलोत, प्रकाशक व संपादक, पाक्षिक समाचार सफ़र, मकबरा बाज़ार,
    कोटा – ३२४००६ [राज.] ; मो. ०९८८७२-३२७८६ ;
    वेब-साईट: डब्लू डब्लू डब्लू डोट समाचार सफ़र डोट कॉम
    ब्लॉग: डब्लू डब्लू डब्लू डोट समाचार सफ़र डोट ब्लागस्पाट डोट कॉम

    Reply
  9. श्रीराम तिवारी

    shriram tiwari

    गहन वन घाटियों गिरी कंदराओं से गुजरकर हे पथिक ,
    तुझे अभी मीलों दूर जाना है …….बधाई :

    Reply
  10. Saurabh Tripathi

    Sanjeev Ji namaskar pravakta ko do varsh pure hone ke liye bhaut bhaut dhanayvad

    Reply
  11. डॉ. राजेश शर्मा

    Dr Rajesh Sharma

    Priya Bandhu Sanjeev Kumar ji,
    Prawakta ke do Varsh pure hone ke liye apko badhai. Bahut hi sarahneey karya kiya he aapne.

    Shubhechchha ke sath
    Dr Rajesh Sharma

    Reply
  12. rekha srivastava

    इस प्रतियोगिता का आयोजन इस दिशा में एक सराहनीय कार्य है और हिंदी की दिशा में एक सकारात्मक प्रयास भी.
    शुभकामनाएं.

    Reply
  13. Ram Prasad Singh

    भाई जी, प्रवक्‍ता डाट काम अपने दो वर्ष पूरे होने के अवसर पर जो आन लाइन प्रतियोगिता का आयोजन करने जा रहा है उसके लिए बहुत बहुत साधुवाद

    आपने एक तीर से कई निशाने एक साथ साधने का जो प्रयास किया इसमें सफलता आपको अवश्‍य मिलेगी क्‍योंकि जो विषय का चयन लेख के लिय किया गया हैा उसमें इस देश के बुदधजीवियों युवाओं और पृकारों के विचारों को अच्‍छी तरह से समझने का मौका भी मिलेगाा

    Reply
  14. Anil Sehgal

    प्रवक्ता डॉट कॉम के दो साल पूरे होने पर ऑनलाइन लेख प्रतियोगिता
    प्रथम पुरस्‍कार: रु. 1500/- द्वितीय पुरस्‍कार: रु. 1100/-

    आजकल “कौन बनेगा करोड़पति” प्रतियोगता टी.वी. पर चल रही है.
    प्रवक्ता डॉट कॉम पुरस्कार की राशी पर कुछ विचार करें.
    लेख तो बहुत प्रस्तुत होंगे, राशी कुछ भी हो, इसका अर्थ यह नहीं कि पुरस्कार नाम-मात्र ही हो.

    -अनिल सहगल –

    Reply
  15. Sehar

    बहुत बधाई !!

    प्रशंसनीय प्रयास के लिए भी बहुत शुभकामनायें !

    Reply
  16. अविनाश वाचस्‍पति

    अविनाश वाचस्‍पति

    महाशुभकामनायें। ऐसे कार्य नि:संदेह हिन्‍दी को बल प्रदान करेंगी। क्‍या मैं भी इसमें भाग सकता हूं और इस जानकारी को नुक्‍कड़ पर लगा सकता हूं।

    Reply
    • pramendraps

      प्रमेन्‍द्र प्रताप सिंह

      अविनाश जी आप क्यो नही भाग ले सकते है, जब देश-विदेश का कोई भी भाग ले सकता है तो आप मंगल ग्रह से तो हो नही ? 😉 और नुक्कड़ पर इस जानकारी को लगाने की बात है तो नेक काम मे देरी कैसी ?

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *