कमज़ोर नहीं है हिन्दी

राघवेन्द्र कुमार ”राघव”

हर बार की तरह इस बार भी १४ सितम्बर हिन्दी की याद दिला गया | हिन्दी का विकास हो रहा है , प्रचार – प्रसार में बड़ी -बड़ी बातें कहते हुए नीति नियन्ता, सब कितना अच्छा लगता है | मन को भी यह जानकर सांत्वना मिल जाती है कि वर्ष में एक दिन तो ऐसा आता है जिस दिन हिन्दी हर दिल अजीज हो जाती है | हिंदी दिवस के मौके पर राजनैतिक गलियारों में और स्वयं सेवी संगठनों के परिसरों में बेवजह का हल्ला किया जाता है , कहते है कि हिन्दी को प्रोत्साहन नहीं मिल रहा | भारत में सरे विभागीय कम विदेशी भाषा में होते है | ऐसे ही न जाने कितने कथित हिंदी प्रेमी आरोप – प्रत्यारोप करते हुए हिन्दी की संवैधनिक स्थिति को ही कटघरे में खड़ा कर देते हैं | कलुषित राजनीति को चमकाने के लिए दोषारोपण करते हुए हिन्दी को क्षेत्रीय परिसीमाओं में खदेड़ने की बाते भी आम होती है | लेकिन भाषा के नाम पर राजनीति करने वाले यह भूल जाते है कि हिन्दी किसी परिचय की मोहताज नहीं है | हिन्दी ने तो मुगलों और अंग्रेजों के राज में भी हार नहीं मानी , उत्तरोत्तर प्रगति करती गयी | कवि तुलसीदास , सूरदास , कबीर , रहीम , बिहारी और घनानंद जैसे सरस्वती साधकों ने हिन्दी को काफी मजबूती से विभिन्न रूपों में स्थापित किया है | चाहे हिन्दी , ‘अवधी’ और ‘बृज’ भाषा के रूप में रही हो या पालि , प्राकृत और अपभ्रन्श के रूप में , चाहें मगही , भोजपुरी और मैथिली के रूप में हर तरह से हिन्दी परिष्कृत हो कर आई है | पृथ्वीराजरासो , खुमाणरासो , परमालरासो , पद्मावत , अखरावट और आखरीकलाम जैसी रचनाओं ने हिन्दी को समृद्ध किया है | अंग्रेजों की प्रताड़ना के बीच मुंशी प्रेम चन्द्र जैसे व्यक्तित्व ने हिन्दी के गौरव शाली इतिहास की नींव रख उसे पुष्पित और पल्लवित किया | जिसे भारतेन्दु हरिश्चन्द्र , जयशंकरप्रसाद , मैथिलीशरण गुप्त , महावीरप्रसाद द्विवेदी , महादेवी वर्मा , निर्मल वर्मा आदि साहित्यकारों व इनके समकालीनों ने हिन्दी को नई बुलंदी पर पहुँचाया | भारत के आजाद होने के पश्चात १९५२ में हिन्दी भाषी संख्या के आधार पर विश्व में ५ वें स्थान पर थे | ८० के दशक में हिन्दी , चीनी और अंग्रेजी के बाद भाषियों की संख्या के आधार पर तीसरे पायदान पर थी | समय के साथ धीरे – धीरे २१ वीं सदी के पहले दशक में ही हिन्दी बोलने वालों की संख्या के आधार पर चीनी के बाद दूसरे क्रम पर आ गयी है | समालोचक इस जगह एक बात कहते हैं कि ‘ज्यादा लोगों द्वारा बोलने वाली भाषा’ हिन्दी इसलिए बन गयी है क्योंकि भारत की आबादी अधिक है | ठीक है मान लिया उनका कहना सही है लेकिन भाषा का प्रसार तो मात्रभूमि से होता है | आज जब हम वैश्वीकरण के युग में हैं तो एक दूसरे की संस्कृति और भाषा से परिचित हो रहे है | भारत को यह मौका काफी देर से मिला | जब सरे देश विज्ञानं और विकास की कहानी गढ़ रहे थे भारत गुलामी की जंजीरों में ज़कड़ा हुआ था | किन्तु आजादी के बाद विशाल आबादी को सँभालते हुए विकास करना प्रायः दुष्कर कार्य था , वो भी तब जब लोकतान्त्रिक व्यवस्था हो | लेकिन भारत ने बड़ी सूजबूझ से काम लेते हुए यहाँ तक आ पहुंचा है जहाँ उसे विश्व की बड़ी और प्रभावी अर्थ व्यवस्था कहा जा रहा है | इस सफलता के पीछे भारत को एक सूत्र में पिरोने वाली भाषा हिन्दी का अहम योगदान रहा है |

जो लोग कहते है कि भारत में आधिकारिक रूप से हिन्दी की जगह अंग्रेजी का वर्चस्व है वह कभी यह ध्यान नहीं देते कि उनके बच्चे भी हिन्दी छोड़ कुछ और ही पढ़ रहे हैं | कहते है बड़े दफ्तरों से लेकर न्यायालय तक अंग्रेजी का ही बोलबाला है , ऐसे में इसके पीछे का मनोविज्ञान जान लेना जरुरी है | अंग्रेजी सर्वमान्य वैश्विक भाषा है | वैश्विक विकास और वैश्विक संबंधों को अंग्रेजी ही आगे बढ़ा सकती है | ऐसे में अंग्रेजी को दोष देना उचित नहीं है | हाँ भारतीयों का अँग्रेज़ बनना ज़रूर हिन्दी को प्रभावित कर रहा है | उच्च आर्थिक स्तर का व्यक्ति हिन्दी बोलने में हीनता का अनुभव करता है तो आधुनिक युग का मध्यम वर्ग भी उसकी नकल का प्रयास करता है | फिर भी हिन्दी कहीं से कमजोर नहीं हुई है वरन कई सोपान आगे बढ़ी है | शासन – प्रशासन को दोष देना आसान है लेकिन अपने गिरेबान में झांकने की हिम्मत नहीं है | हम बच्चों को अंग्रेजी शिक्षा ही दिलाना चाहते है | हिन्दी को अगर हम घर में ही दुत्कारेंगे तो स्वाभाविक ही उसका ह्रास ही होगा | यहाँ तक कि नयी पीढ़ी खाना , पीना , उठना , बैठना और तो और दैनिक कार्य भी अंग्रेजी में करने लगी है | ऐसे में हिन्दी को ज़रूर ठेस लगती है | हिन्दी राष्ट्रभाषा नहीं राजभाषा है , इसससे भी कोई फर्क नही पड़ता | उसे फ़र्क तब पड़ता है जब कोई क्षेत्रीय भाषा कहकर इसे अपमानित करता है | जब सवा सौ करोड़ लोगों में हिन्दी बोलने वालों की संख्या महज़ ४० फीसदी हो | जब हिन्दी की रोटी अंग्रेज़ी की आग पर पकती है , तब हिन्दी को कष्ट होता है | अरे हिन्दी ने तो अपने बेटों से यहाँ तक कह दिया कि उर्दू और अंग्रेज़ी तुम्हारी मौसियाँ हैं | सारी भाषाएँ तुम्हारी पूज्य हैं | लेकिन आधुनिक भारतीयों के समझ में अब रिश्तों की अहमियत कम हो गयी है |

आज विश्व भर में ५० करोड़ से ज्यादा लोग हिन्दी बोलते हैं , १०० करोड़ से ज्यादा हिन्दी समझते हैं | यूरोप में लगभग २५ हिन्दी पत्र – पत्रिकायों का प्रकाशन होता है | अमेरिका के लोग बड़ी संख्या में हिन्दी सीख रहें हैं | ऐसे में हमें खुशी होनी चाहिए कि भारतीय भाषा वैश्विक हो रही है | लेकिन हम हिन्दी को लेकर गंभीर नहीं हैं | एक उदाहरण से बात रखता हूँ | हिन्दी दिवस के दिन हम अपने साथियों के साथ संसद भवन देखने गए थे | भवन दर्शन के दौरान कुछ मुख्या स्थानों पर देवनागरी लिपि में त्रुटियाँ दृष्टिगत हुयीं जिन्हें आप से साझा करता हूँ | वैसे ये त्रुटियाँ मानवीय और तकनीकी भूल का परिणाम रही होंगी लेकिन भारतीय लोकतंत्र के मंदिर में भाषा रुपी माँ का गलत चित्र (लिपि) हमारी संकीर्ण मानसिकता और हिन्दी के प्रति घोर उदासीनता का परिचायक है | जैसे ही हम संसद भवन के अंदर गए कमरा संख्या २२(अ) के द्वार पर लिखा दिखा ”पी. पी. शास्त्री (वरिष्ठ निजि सचिव )” यहाँ निजी को निजि लिखा है , जहाँ से अमूमन संसद सदस्य आते जाते है | भवन में अंदर जाने पर प्रेस दीर्घा को ”पेस दीर्घा” लिखा है | सार्वजानिक दीर्घा को ”सार्वजनिक दीघा” लिखा है | राज्य सभा की पत्र प्रतिनिधि दीर्घा को ”पत्र पतिनिधि दीर्घा लिखा है | चलो मान लिया इनमे मात्रा घिसकर मिट गयी , क्योंकि ऐसा कहा जा सकता है ? लेकिन संसद ग्रंथालय के द्वार पर ”छुट्टियाँ” को ”छुटटीयां” लिखा है | अब आप लोग विचार करे कि ऐसे में संवैधनिक स्तर पर हिन्दी को भला किस तरह प्रोत्साहन मिलेगा ?

आरोपों और प्रत्यारोपों की जगह सभी मिलकर हिन्दी को थोड़ी भी गम्भीरता से ले तो हिदी विश्व की सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा के साथ ही सुदृढ़ वैश्विक भाषा भी बन सकती है | वैज्ञानिकों के अनुसार हिन्दी एक वैज्ञानिक भाषा है | हिन्दी भावों की भाषा है | ऐसे में हिन्दी की स्वीकार्यता में तनिक भी संदेह नहीं है | बस आवश्यकता है हिन्दी को गर्व से अपनी पहचान के रूप में स्थापित करने की | यह हो पाएगा कि नहीं इसमें क्षेत्रीय परिदृश्य को देखते हुए समस्याएँ नज़र आती हैं |

1 thought on “कमज़ोर नहीं है हिन्दी

  1. बिलकुल हिन्दी कमजोर नहीं है पर —— गैर हिन्दी भाषी क्षेत्रों में हिन्दी सीखने की इच्छा रखने वालों को नि;शुल्क हिन्दी कोचिंग और हिन्दी अध्ययन सामग्री भी हिन्दी – प्रेमी अपने स्तर से मुफ्त उपलब्ध करवाएँ और उनकी मातृभाषा व स्थानीय संस्कृति के सम्मान के साथ उन्हें हिन्दी सिखाएँ ( विदेशों में हम सभी ऐसे कर रहे हैं – अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है ) !!!
    शिक्षण संस्थानों में जहां अंग्रेजीपरस्त अधिकारी हैं — वे षड्यंत्र करके सभी हिन्दी पदों जैसे — हिन्दी विभागाध्यक्ष- हिन्दी अधिकारी आदि पदों पर गैर हिन्दी या हिन्दी विरोधियों को बैठाकर हिन्दी का अधिकतम नुकसान कर रहे हैं और खानापूर्ति के लिए दिखावा भी हो जाता है कि मैं सरकारी आदेशों को मानकर हिन्दी को बढ़ावा दे रहा हूँ ??? हिन्दी प्रेमियों को सावधान रहकर इनका पता करके राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय स्तरों पर जबर्दस्त विरोध करना चाहिए ( उदाहरण के तौर पर अभी जहां मैं काम करता हूँ — गैर हिन्दी भाषी हिन्दी एच ओ डी ने 2016 में हिन्दी दिवस नहीं मनाया , हिन्दी पाठ्यक्रम में होने के बावजूद व अन्य शिक्षक-शिक्षिकाओं के निवेदन के बावजूद कक्षा – 6 के पाठ्यक्रम से ” महारानी लक्ष्मीबाई ” तथा कक्षा – 7 से ” वीर कुंअर सिंह ” जैसे महत्वपूर्ण पाठों को कोर्स से हटा दिया ???— फिर मैंने स्कूल कमेटी से बात करके 2017 से पुन: इन्हें लागू करवाया फिर भी हिन्दी को कमजोर करने के लिए क्लास – 9 उन्हीं से पढ़वाया जा रहा है जिन्हें हायर क्लास पढ़ाने का अनुभव नहीं है और वे इंटेरेस्टेड भी नहीं हैं ( स्कूल मैनेजमेंट कमेटी की मीटिंग में हिन्दी एच ओ डी ने कहा भी था, “मैं क्लास – 1 to 5 ही पढ़ाना चाहती हूँ |”🙏 🙏——— गल्फ के लगभग सभी देशों के इन्डियन स्कूलों पर इनका बर्चस्व है – कैम्ब्रिज बोर्ड इनको परमीशन दे नहीं रहा है स्टेट बोर्ड का परमीशन विदेश में अलाऊ नहीं है – मजबूरन ये सीबीएसई में रजिस्टर्ड हैं – हिन्दी पढ़ना नहीं चाहते हैं और ये अपनी नाराजगी हिन्दी शिक्षक-शिक्षिका पर उतारते हुए अपने बच्चों तक से उन्हें बेइज्जत करवाते हैं :—
    1) २२ सालों के अनुभव, ६१ साल की उम्र विनयी स्वभाव वाले श्री शांति शुक्ल ०४-१२-१६ ( इतवार – यहाँ शुक्रवार को छुट्टी होती है – इतवार वर्किंग होता है ) क्लास 5-सी में हिन्दी शिक्षण के लिए गए – सभी स्टूडेंट्स गुड मार्निंग बोले पर अधिकतर मलयाली स्टूडेंट्स ने “ पट्टी – बेगर ” कहा , मलयालम में पट्टी का अर्थ कुत्ता होता है शुक्ला जी जैसे अनुभवी आदमी समझ गए पर बात को टालते हुए बोर्ड पर हिन्दी लिखने लगे – उन्हीं में से कुछ मलयाली बच्चे – बच्चियों ने ही चिल्लाना शुरू किया :– “ सर इन लोगों ने आपको पट्टी – कुत्ता – भिखारी बोला – ऐसी आवाजें जब अधिक बढ़ गईं तो मजबूरन शुक्ला जी को ऐसी गंदी बातें करने में अगुआ बच्चे को लेकर इंचार्ज फहीम खान के पास जाना पड़ा – इंचार्ज ने पैरेंट्स को इन्फार्म करके यथासंभव अनुशासनात्मक कार्यवाहियाँ कीं , अगले दिन बच्चे की माँ ने आकर मलयाली प्रिंसिपल के सामने शुक्ला जी को बुलाकर बहुत हंगामा डाट –डपट किया और मलयाली प्रिंसिपल के दबाव से शुक्ला जी को सॉरी कहना पडा – आँखों में आंसू केवल शुक्ला जी के ही नहीं आए हम सभी हिन्दी टीचर्स रो पड़े – केवल यहीं तक नहीं – उसके बाद से कई दिनों तक रिसेस टाइम में मलयाली बच्चे फील्ड में नारे लगाते थे – एक बच्चा बोलता था – शुक्ला जी –तो अन्य दुहराते थे – पट्टी हैं –बेगर हैं — पर क्या करें लोकल कमेटी और राजधानी में बैठी सेन्ट्रल कमेटी और अधिकारी सभी में मलयाली और हिन्दी विरोधी हैं ?——- === ===== ( सुझाव :– आप सभी लोग विदेश मंत्रालय को विशेषकर सुषमा स्वराज मैडम से निवेदन कीजिए कि वे सभी दूतावासों को निर्देश दें कि स्कूल कमेटियों में हिन्दी विरोधियों को न रखा जाए ! ) ——
    2) जैसे लोग गंजी-बनियाइन बदलते हैं ये वैसे हिन्दी टीचर बदलते हैं –२०१० से लेकर २०१५ तक –मित्तल सर,गुप्ता जी, कौर मैम, एम.पी. शुक्ला आदि सीनियर टीचर को एक ही स्कूल से निकाला गया, एमपी शुक्ला वाइस प्रिंसिपल भी थे – | —————– इसी तरह भारत के डी अंबानी विद्या मंदिर रिलायंस ग्रीन्स जामनगर गुजरात में जहां की स्कूल चेयरमैन मुकेश अंबानी की पत्नी नीता अंबानी हैं – – 14 सितंबर 2010 को हिन्दी दिवस के दिन जब प्राचार्य मिस्टर एस सुंदरम को आशीर्वाद के शब्द कहने के लिए माइक पर बुलाया गया तो उन्होंने कहा , ” बच्चों हिन्दी राष्ट्रभाषा नहीं है – हिन्दी टीचर आपको गलत सिखाते हैं , आप नए जमाने के बच्चे हो – गांधी को छोड़ो फेसबुक को अपनाओ , पैर छूना गुलामी की निशानी है , माता-पिता भी डांटें तो पुलिस में शिकायत कर सकते हो ” कृपया माइक पर ऐसे न कहें ऐसे कहने से बच्चों में गलत संस्कार आएंगे ये निवेदन करने पर हिन्दी शिक्षण में लगे पुराने व अनुभवी 2 हिन्दी भाषियों को रिलायंस कंपनी ने नौकरी से निकाल दिया , आज वहाँ श्रीमती शोभा दहीफले हिन्दी विभागाध्यक्षा है जिन्होंने एक विषय के रूप में कभी हिन्दी पढ़ा ही नहीं और जिनको राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त प्राचार्य श्री जी थंगादुरई ने हिन्दी शिक्षिका के लिए भी नहीं चुना था — आप कल्पना कीजिए वहाँ हिन्दी की क्या दशा होगी – नौकरी के डर से कोई बोल भी नहीं सकता है –जिनको कोई संदेह या विस्तृत जानकारी चाहिए वे वाट्स अप नंबर – +919428075674 पर संपर्क कर सकते हैं — पर आपका धर्म-ईमान क्या कहता है ??? – कुछ कीजिए 🙏 🙏 🙏 🙏 🙏

    समाधान ‌‌ :——- गृहमंत्रालय के निर्देशन में सीबीएसई की निरीक्षण टीम अचानक जाँच करे और ऐसे दुष्कृत्य में लगे लोगों को गिरफ्तार करके उनपर राष्ट्रद्रोह के मुकदमे चलाए जाएँ !
    2) शिक्षक-शिक्षिकाओं के पर्सनल फाइल लिखने,परमोसन, किसी एवार्ड के लिए नॉमिनेट करने,एच.ओ.डी.-इंचार्ज आदि बनाने,बढ़ोत्तरी तथा मिसलेनियस एकाउंट के पावर अंग्रेजी परस्त प्राचार्यों से तुरंत ले लिए जाएं

Leave a Reply

%d bloggers like this: