Home साहित्‍य कविता हिन्दी- महिमा

हिन्दी- महिमा

भारत में जो रची बसी है , वह जनभाषा है हिन्दी।
भारतमाँ के माथे की है , वह प्यारी सी बिन्दी ।।
*
उत्तरदिशि केदारनाथ में , गूँज रही है ये हिन्दी।
दक्षिण में रामेश्वरम तक, व्याप रही अपनी हिन्दी।।
*
पूर्वदिशा में जगन्नाथपुरि , में भी तो छाई हिन्दी।
पश्चिम में है बसी द्वारिका,वहाँ भी सब बोलें हिन्दी।।
*
अब तो देश-विदेशों में भी, पढ़ें पढ़ाएँ सब हिन्दी।
बने राष्ट्रभाषा भारत की, जगभाषा होगी हिन्दी ।।
*
सभी कहीं सम्मानित होती, तुलसी “मानस” में हिन्दी।
सूरदास, मीरा के पद में , शोभित होती है हिन्दी ।।
*
स्वतन्त्रता-आन्दोलन में भी, सबने अपनाई हिन्दी।
हमको माँ सी जो प्यारी है, वह भाषा केवल हिन्दी।।
*
हिन्दी का उत्कर्ष सदा हो, सब में जोश भरे हिन्दी।
गौरवान्वित भारत होगा जब, सब मिलकर बोलें हिन्दी।।
*
मौसी सी प्यारी भारत की , सब भाषाएँ विकसित हों ।
एक सूत्र में बँधे सभी तो,भारत की संस्कृति की जय हो।।
***
—शकुन्तला बहादुर
कैलिफ़ोर्निया

Previous articleमप्र में सियासी ड्रामा
Next articleआज की नयी पीढ़ी
शकुन्तला बहादुर
भारत में उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ में जन्मी शकुन्तला बहादुर लखनऊ विश्वविद्यालय तथा उसके महिला परास्नातक महाविद्यालय में ३७वर्षों तक संस्कृतप्रवक्ता,विभागाध्यक्षा रहकर प्राचार्या पद से अवकाशप्राप्त । इसी बीच जर्मनी के ट्यूबिंगेन विश्वविद्यालय में जर्मन एकेडेमिक एक्सचेंज सर्विस की फ़ेलोशिप पर जर्मनी में दो वर्षों तक शोधकार्य एवं वहीं हिन्दी,संस्कृत का शिक्षण भी। यूरोप एवं अमेरिका की साहित्यिक गोष्ठियों में प्रतिभागिता । अभी तक दो काव्य कृतियाँ, तीन गद्य की( ललित निबन्ध, संस्मरण)पुस्तकें प्रकाशित। भारत एवं अमेरिका की विभिन्न पत्रिकाओं में कविताएँ एवं लेख प्रकाशित । दोनों देशों की प्रमुख हिन्दी एवं संस्कृत की संस्थाओं से सम्बद्ध । सम्प्रति विगत १८ वर्षों से कैलिफ़ोर्निया में निवास ।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here