लेखक परिचय

इक़बाल हिंदुस्तानी

इक़बाल हिंदुस्तानी

लेखक 13 वर्षों से हिंदी पाक्षिक पब्लिक ऑब्ज़र्वर का संपादन और प्रकाशन कर रहे हैं। दैनिक बिजनौर टाइम्स ग्रुप में तीन साल संपादन कर चुके हैं। विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में अब तक 1000 से अधिक रचनाओं का प्रकाशन हो चुका है। आकाशवाणी नजीबाबाद पर एक दशक से अधिक अस्थायी कम्पेयर और एनाउंसर रह चुके हैं। रेडियो जर्मनी की हिंदी सेवा में इराक युद्ध पर भारत के युवा पत्रकार के रूप में 15 मिनट के विशेष कार्यक्रम में शामिल हो चुके हैं। प्रदेश के सर्वश्रेष्ठ लेखक के रूप में जानेमाने हिंदी साहित्यकार जैनेन्द्र कुमार जी द्वारा सम्मानित हो चुके हैं। हिंदी ग़ज़लकार के रूप में दुष्यंत त्यागी एवार्ड से सम्मानित किये जा चुके हैं। स्थानीय नगरपालिका और विधानसभा चुनाव में 1991 से मतगणना पूर्व चुनावी सर्वे और संभावित परिणाम सटीक साबित होते रहे हैं। साम्प्रदायिक सद्भाव और एकता के लिये होली मिलन और ईद मिलन का 1992 से संयोजन और सफल संचालन कर रहे हैं। मोबाइल न. 09412117990

Posted On by &filed under राजनीति.


bjp_symbol_248इक़बाल हिंदुस्तानी

मुलायम सिंह सीबीआई से बचने को कांग्रेस का साथ दे रहे हैं!

सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने कहा है कि अगर भाजपा मुसलमान और कश्मीर आदि मुद्दों पर अपना नज़रिया बदल ले तो उससे सपा की दोस्ती हो सकती है। उनका यह भी कहना है कि अर्थव्यवस्था, सीमा सुरक्षा, आंतरिक सुरक्षा और विदेश नीति पर भाजपा और सपा की सोच एक है। लोकसभा में बोलते हुए यादव ने यहां तक कह दिया कि सपा कांग्रेस का साथ मजबूरी में दे रही है। यह ठीक है कि सपा सुप्रीमो आय से अधिक सम्पत्ति मामले में सीबीआई जांच में फंसे होने की वजह से यूपीए सरकार को समर्थन दे रहे हैं लेकिन जहां तक भाजपा के साथ दोस्ती का सवाल है तो मुलायम सिंह शायद यह सच जानबूझकर अनदेखा करना चाहते हैं कि भाजपा की असली कमान उसके मुखिया के हाथ में नहीं बल्कि हमेशा आरएसएस के हाथ में रहती है। अगर यह कहा जाये कि भाजपा संघ का राजनीतिक विंग है तो गलत नहीं होगा। आरएसएस अपनी हिंदूवादी सोच से बंधा है।

अगर आज भाजपा अपनी हिंदूवादी सोच से हटती है तो अव्वल तो उसको संघ ऐसा करने नहीं देगा और अगर ऐसा चमत्कार हुआ भी तो पहले राजनाथ सिंह और फिर ज़रूरत पड़ने पर उनकी पूरी टीम को जिनाह प्रकरण में आडवाणी की तरह बाहर का रास्ता दिखाया जा सकता है। इस पर भी अगर पूरी की पूरी भाजपा कथित सेकुलर बनने का अविश्वसनीय और आत्मघाती फैसला किसी दिन मुलायम सिंह को अपने साथ जोड़ने के लिये करने का दुस्साह करती है तो संघ उसी दिन राष्ट्रवादी भाजपा आदि के नये नाम से एक और राजनीतिक दल सियासत के मैदान में उतार देगा। इसकी एक वजह समझ में भी आती है कि जो भाजपा 1989 तक केवल दो सांसदों का दल थी वह आडवाणी की रामरथयात्रा और राममंदिर के मुद्दे पर एक झटके में 88 सीट तक उछलकर पहुंच गयी थी। इतना ही नहीं चार राज्यों में उसकी सरकार भी बन गयी थी।

इसके बाद अयोध्या में बाबरी मस्जिद के शहीद होने के बाद वह 1998 में गठबंधन करके इसी हिंदूवादी छवि के बल पर केंद्र की सत्ता में पहंुच गयी और कई राज्यों में अपने बल पर या गठबंधन सरकार भी वह बनाने मंे सफल होती गयी। ऐसे में सवाल यह है कि भाजपा की जो हिंदूवादी छवि उसको आज यहां तक लाई हो वह उसको कैसे छोड़ सकती है? यह ठीक ऐसी ही बात है जैसे कोई मेडिकल स्टोर वाले से कहे कि आप अपनी दुकान में दवा बेचनी बंद कर दो तो आपका स्टोर ज़्यादा अच्छा चलेगा। यह ठीक है कि राममंदिर का मामला अब पुराना हो चुका है और हिंदू भी यह मान चुके हैं कि भाजपा अपने बल पर पूर्ण बहुमत लाये बिना राममंदिर बना नहीं सकती और गठबंधन सरकारें अभी लंबे समय तक चलेंगी।

अभी तो यह समस्या आयेगी कि भाजपा को पहले की तरह 2014 में आमचुनाव के बाद समर्थन करने को कथित सेकुलर दल मिलने कठिन हैं क्योंकि पहले जिन सेकुलर दलों ने एनडीए बनाया था 2004 के चुनाव में उनको सेकुलर मतदाताओं खासतौर पर मुस्लिमों ने नकार दिया था जिससे वे दोबारा ऐसी भूल शायद ही करें? ऐसे दलों के लिये सबसे बड़ी बाधा गुजरात के सीएम मोदी को पीएम बनाने का भाजपा का प्रस्ताव होगा क्योंकि वाजपेयी के बाद अभी तो मुसलमानों और सेकुलर हिंदुओं के गले आडवाणी ही नहीं उतर सके हैं।

सवाल अकेला यह नहीं है कि मोदी गुजरात के दंगों के लिये गल्ती मानते हैं कि नहीं बल्कि यह है कि भाजपा अपनी मुस्लिम विरोधी सोच को बदलती है कि नहीं। सबको पता है कि भाजपा राममंदिर, मुस्लिम पर्सनल लॉ, अल्पसंख्यक आयोग, कश्मीर की धारा 370, वंदे मातरम, मुस्लिम यूनिवर्सिटी, हिंदू राष्ट्र, धर्मनिर्पेक्षता और आतंकवाद को लेकर विवादास्पद नज़रिया रखती है। इसी साम्प्रदायिक सोच का नतीजा है कि वह आतंकवादी घटनाओं में पकड़े गये बेक़सूर नौजवानों को आयोग द्वारा जांच के बाद भी रिहा करने के सरकार के प्रयासों का जोरदार विरोध करती है। वह सबको भारतीय ना मानकर हिंदू मानने की ज़िद करती है। वह दलितों के आरक्षण में मुसलमान दलितों को कोटा देनेेेे या पिछड़ों के कोेटे में से अल्पसंख्यकों को कोटा तय करने या सीधे मुसलमानों को रिज़र्वेशन देने का विरोध करती है जबकि सच्चर कमैटी की रिपोर्ट चीख़ चीख़कर मुसलमानों की दयनीय स्थिति बयान कर रही है।

भाजपा से हिंदूवादी राजनीति को छोड़ने की आशा करना ठीक ऐसा ही होगा जैसे किसी बार के संचालक से वहां शराब ना पिलाने की मांग करना या नाई से बाल काटने से परहेज़ करने की अपील करना। एनडीए की सरकार के बाद दो चुनाव हो चुके हैं देश ने ना तो आडवाणी जी का नेतृत्व और ना ही भाजपा का कट्टर हिंदुत्व स्वीकार किया है। आज मुसलमान ही नहीं हिंदुओं का एक बहुत बड़ा वर्ग भाजपा की कथनी करनी में भारी अंतर से आहत होकर उसका विरोध करता है जिससे कांग्रेस के नेतृत्व में भ्रष्टाचार के तमाम आरोप लगने के बावजूद यूपीए सरकार का विकल्प एनडीए बनता नज़र नहीं आ रहा है।

मोदी ही नहीं भाजपा जब तक अपनी साम्प्रदायिक राजनीति छोड़कर सभी भारतीयोें के लिये ईमानदारी से भलाई का काम करना शुरू नहीं करती तब तक कांग्रेस की जगह क्षेत्राीय दल चुनाव में आगे आते जायेंगे, भाजपा का यह सबसे बड़ा बदलाव माना जाना चाहिये कि कुछ समय पहले आडवाणी की भ्रष्टाचार विरोधी यात्रा समग्र क्रांति के जनक जयप्रकाश नारायण के जन्मस्थल बिहार स्थित सिताब दियारा से शुरू हुयी थी । साथ ही इसको हरी झंडी भी सेकुलर छवि के नीतीश कुमार ने दिखाई थी। अब ख़बर आई है कि जनाधार बढ़ाने के लिये भाजपा न केवल विवादास्पद मुद्दों से किनारा करने का मन बना चुकी है, बल्कि राजग के साथ फिर से नये साथी जोड़ने को भी इसी रथयात्रा को माध्यम बनाया जायेगा।

यह बात अब किसी से छिपी नहीं रह गयी है कि देश मंे अभी आगे भी गठबंधन राजनीति ही चलने जा रही है। हालांकि कांग्रेस की तरह भाजपा में भी यह अंतरविरोध सामने आ रहा है कि एक तरफ उसकी मातृसंस्था आरएसएस गुजरात के सीएम मोदी को भावी पीएम देखना चाहती है और दूसरी तरफ न केवल भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बल्कि उसके पुराने घटक भी मोदी से ज़्यादा आडवाणी के नाम पर सहमत होते नज़र आ रहे हैं। दरअसल बीजेपी को यह बात दीवार पर लिखी इबारत की तरह साफ नज़र आ रही है कि राजग के दो दर्जन घटक आज उसके साथ घटकर मात्र चार रह गये हैं जिनके बिना लालकिला फतह करना दिन में सपना देखना ही होगा।

इस समय भाजपा मोदी सहित उन तमाम विवादित मुद्दो को एक ओर रखना चाहती है जिनकी वजह से तदेपा, बीजद, रालोद, अगप और टीआरएस जैस दल उससे दूर हैं। हालांकि राजनाथ सिंह ने यह दावा किया है कि सपा भाजपा के बीच कोई दूरी नहीं है और अगले चुनाव के बाद सपा हमारे साथ होगी लेकिन सवाल यह है कि जो सपा पहले यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता कल्याण सिंह को भाजपा छोड़ने के बाद 2009 के लोकसभा चुनाव में अपने साथ लेकर अपने हाथ जला चुकी हो वह भाजपा के मुस्लिम विरोधी रूख़ पर अडिग रहते कैसे उससे दोस्ती कर सकती है।

वास्तविकता तो यह लगती है कि जैसे मुलायम सिंह राजनीति में अकसर धोबी पाट मारते हैं यह उसी श्रृंखला की एक और कड़ी है जिससे कांग्रेस को झटका दिया जा सके कि अगर वह सीटें कम आने पर सपा मुखिया को सपोर्ट करके पीएम बनाने के अपने लॉलीपॉप से पीछे हटी तो मुलायम भाजपा के साथ जाने का विकल्प भी खुला रखते हैं। वाजपेयी सरकार अविश्वास प्रस्ताव पास होने पर गिरने के बाद सोनिया को पीएम बनाने से पलटकर ,वामपंथियों द्वारा पिछली यूपीए सरकार से परमाणु करार पर समर्थन वापस लेकर उसे गिराने और एफडीआई के मुद्दे पर ममता बनर्जी के साथ सदन में कांग्रेस सरकार के खिलाफ मतदान करने के वादे से पीछे हटकर और प्रेसीडेंट के चुनाव में अपना गैर कांग्रेसी उम्मीदवार उतारने के दांव से मुकर जाने को लेकर मुलायम सिंह यादव अपनी सियासी चालों का सबूत पहले से ही देते रहे हैं जिससे भाजपा से दोस्ती करने की बात को बहुत अधिक महत्व नहीं दिया जाना चाहिये। यह अलग बात है कि मुलायम का यह बयान सपा और भाजपा की अंदर अंदर पक रही किसी खिचड़ी का संकेत हो।

सुविधा पर बिके लोग कोहनी पर टिके लोग,

करते हैं बरगद की बात गमलों में उगे लोग।।

 

One Response to “भाजपा हिंदूवादी सोच बदलेगी तो वह भाजपा नहीं रह जायेगी!”

  1. dr dhanakar thakur

    मुलायम सिंह यादव जैसे व्यक्ति के साथ क्या भाजपा को सर्कार बनानी चाहिए? उउन्होंने सोनिया का कभी विरोध जरूर किया था भाजपा का मुसलमान पर नज़रिया तोब्संझा ही नही जा सका है और कश्मीर जैसे मुद्दे पर सोच यदि सपा का लगा है तो सीमा सुरक्षा, आंतरिक सुरक्षा में कैसे सहमती? विदेश नीति पर भाजपा और सपा की सोच एकहो सकती है पर वह भी नहीं- इस्रायल या फिलस्तीन? सपा कांग्रेस का साथ मजबूरी में दे रही है या सी बी आई के शिकंजे के दर से? अगर यह कहा जाये कि भाजपा संघ का राजनीतिक विंग है तो गलत नहीं होग या सही इससे उन्हें क्या लेना देना है – ऐसा नहीं है की जनता पर्त्य्के समयमे वे जन्सन्घिओयोन के साथ नहीं गए थे? । आरएसएस अपनी हिंदूवादी सोच से बंधा है यह तो सर्वविदित है- सवाल है की भारत का कौन दल हिंदूवादी नहीं है कमसे कम कोई हिंदुविरोधी होने की बात मुखरता से कहे तो..।.

    भाजपा अपनी हिंदूवादी सोच से हेट क्यों> संघ ऐसा करने नहीं देगा का सवाल कब उठेगा जबकि आज तक भाजपा को किसने मत दिया है? आडवाणी यह भूल गए की कोई आदमी संस्था असे बड़ी नहीं होती (यह बात मोदी पर भी लागु है) पर उन्हें बाहर जाना पडा गलत है – उन्हें या औरो को नानाजी के रास्ते पर स्वयम जाना चाहिए था राष्ट्रवादी भाजपा आदि के नये नाम से एक और राजनीतिक दल सियासत के मैदान में उतार देगा जरूर यदि भाजपा राष्ट्रवादी नहीं रह कोंग्रेस की बी टीम हो जाये । यह बा तभी गलत है की केवल आडवाणी की रामरथयात्रा और राममंदिर के मुद्दे पर 1989 तक केवल दो सांसदों का दल थी वहएक झटके में 88 सीट तक उछलकर पहुंच गयी थी तो फिर आपके पास १९८४ के पहले के भी आंकड़े होंगे- १९६७ से लगातार जनसंघ बढ़ रहा था और जनतांत्रिक पद्धति से १९७७ में वाजपेयी को प्रधान मंत्री होना था( आतंरिक आंकड़ों की जानकारी होगी- ९८ जनस्संघी थे उस समय ) ।हीं चार राज्यों में उसकी सरकार भी बन गयी थी सहे एही पर क्या पहले से उन राज्यों में जनसंघ का प्रभाव नहीं था । नाग्लादेश की जीत या श्रीमती गांधी की ह्त्या के बाद सभी विरोधी दलों को नुकसान हुआ पर भाजपा को २ सीट का अर्थ यह नाहे एकी उसका आधार ही नहीं बचा था?

    अयोध्या में बाबरी मस्जिद नहीं राम मंदिर ढाई गयी थी? हिंदूवादी छवि के बल पर केंद्र की सत्ता में पहंुच गयी यह सहे एही पर ये सब नाहे इभी होता तो भी भाजपा का कोई ना कोई रूप राजनातिक पटल पर होता भाजपा की हिंदूवादी छवि यहां तक लाईहै पर उसका हिन्दुवाद उग्र कभे इनहे एरहा है हिंदू भी यह मान चुके हैं कि भाजपा अपने बल पर पूर्ण बहुमत लाये बिना राममंदिर बना नहीं सकती और गठबंधन सरकारें अभी लंबे समय तक चलेंगी क्योंकि देश में रास्ट्रीय दलों का अलकाल है और राष्ट्रिय नेता अ किसी भी दल में अब नहीं बनाने वाले हैं झना त्याग नहीं पद लोगों के लिए भी नियामक हो- कोई देश भर घूमेगा क्यों( मेरे जैसा अराजनैतिक व्यक्ति घूम सकता है पर यदि किसी सी ऍम को ही पी ऍम बना हो तो देश का चकक्र लगाने की क्या जरूरत है.)

    भाजपा को 2014 में कोई दिक्कत नाहे एहोगी- वह अब हिंदूवादी रहा नहीं है उसका कांग्रेस्सिकर्ण पूरा हो चुका है सीएम मोदी को पीएम बनाने का भाजपा का प्रस्ताव शायद ही होगा इस्ल्लिये नहीं की क्योंकि वाजपेयी के बाद अभी तो मुसलमानों और सेकुलर हिंदुओं के गले आडवाणी ही नहीं उतर सके हैं – अडवानी अब बूढ़े हो गए हैं और भाजपा ने रास्ट्रीय नेता नहीं बनाये तब तो दिल्ली में गणेश परिक्रमा कर जो बैठे हैं वे प्रांतीय क्षत्रपों के सामने हाथ उठा देंगे – सवाल है की किसके पास कितनेऍम पी हैं जिसमे मोदी मर खा जाते हैं- गुजरात की २५ में भी २० उन्हें नहीं मिले और दूसरे प्रांत में कौन उनको समर्थन देगा.
    न तो मोदी गुजरात के दंगों के लिये गल्ती मानेंगे न ही भाजपा अपनी सोच बदलेगा पर हर हिंदूवादी सोच मुस्लिम विरोधी नहीं है । सबको पता है कि भाजपा राममंदिर, मुस्लिम पर्सनल लॉ, अल्पसंख्यक आयोग, कश्मीर की धारा 370, वंदे मातरम, मुस्लिम यूनिवर्सिटी, हिंदू राष्ट्र, धर्मनिर्पेक्षता और आतंकवाद को लेकर विवादास्पद नज़रिया नेताओं को लग सकता पर देश के बहुसंख्य मतदातों को नहीं – पर भाजपा तो कोंग्रेस्सी स्वाभाव की है_ शिवसेना बालका भी उसका रूख नहीं है आतंकवादी घटनाओं में पकड़े गये बेक़सूर नौजवानों को जरूर छिड़ना चाहिए पर आजमगढ़ और दरभंगा में वे कैसे बनते हैं उसे रोकना चाहिए. दलितों के आरक्षण में मुसलमान दलितों को कोटा देनेेेे या पिछड़ों के कोेटे में से अल्पसंख्यकों को कोटा तय करने या सीधे मुसलमानों को रिज़र्वेशन देने का विरोध करना सही है – जबकि सच्चरकोई खुदा नहीं की उनकी बात मन ली जाये? भारत का धर्म के नाम पर कई बार बिभाजन हुआ है और देश की बहुसंख्य हिन्दू जनता ऐसी बैटन की विरोधी है.
    भाजपा से हिंदूवादी राजनीति को छोड़ने की आशा करना ठीक नहीं पर वह हिंदूवादी नाहे एही वह कांग्रेस से कभी १९५२ में निकली आज भी वही है । देश ने ना तो आडवाणी जी का नेतृत्व और ना ही भाजपास्वीकार किया क्योंकि वे का कट्टर हिंदुत्व वादी नाहे एहेन.ठीक में आज मुसलमान ही नहीं हिंदुओं का एक बहुत बड़ा वर्ग भाजपा की कथनी करनी में भारी अंतर से आहत होकर उसका विरोध करता है जिससे कांग्रेस की तरह भ्रष्टाचार आना सबसे प्रमुख है. यूपीए सरकार का विकल्प एनडीए बनता नज़र नहीं आ रहा है यह सही नहीं है – सरकार कोई भे इबने उसके भीतर अधिकतर कांग्रेस या दलबदलू स्वार्थी तत्व रहनेवाले हैं क्योंकि जनता ईमदारों को चुनती नहीं..

    आडवाणी की भ्रष्टाचार विरोधी यात्रा इससे लिए सफल नहीं हुई- भाजपा नियम बना ले की किसी भी पद पर सपर्प्त लोक को टिकट देगी -दलबदलू भ्रस्त को नहीं -देखिये कैसे वह जीत जायेगी. यानी उसके उम्मीदवारों में कमसे कम १० साल से पार्टी में कम्कर्नेवाले को वह टिकट दे – टिकट के लिए आनेवालों से पत्ता छुडाये – सभी ओउराने १० साल (कुल जोड़कर सनासाद रहे लोगों को टिका त्नाही दे ) यह गलत कहना है की आरएसएस गुजरात के सीएम मोदी को भावी पीएम देखना चाहती मुलायक भरोसेमंद नहीं हैं और यह जनता को तय करना अहै? उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, आन्ध्रप्रदेश जैसे बड़े प्रान्तों का विभाजन जब तक नहीं होगा – खेस्त्रीय नेताओं में भी असामनता रहेगी – २०-२५ ऍम पी के प्रांत यदि २० बन जाएँ तो राष्ट्री राजनीती बदल जायेगी पर यह तुरंत नहीं होगा. पर जब तक नहीं होगा ऐसे ही चलेगा और कम मतदान प्रतिशत में कोई २ जाती का गठबंधन विजय पाटा रहेगग( मुस्लमान + यादव की चल के काट के लिए नीतीश ने भी २ जाती बना डाला अतिपिच्झ्हदा और महादलित.. ऐसा ही मायावती ने किया — छोटे प्रान्त होने पर ही मतदान प्रतिशत बढ़ेंगे – हिन्दू मुसलमान के नाम ओपर बंटी राजनीती दूर हो सकेगी.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *