केजरीवाल को मिलेंगी कितनी सीटें – दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020

दिल्ली में विधानसभा चुनावों की तारीखों की घोषणा होते ही, दिल्ली में चुनावी हलचल, राजनैतिक सरगर्मियाँ तेज हो गयी है। राजनैतिक सभा और नेताओं को पांच साल बाद आमजन की सुध लेने की याद आ गयी है।  दिल्ली में 8 फरवरी को चुनाव होना तय हुआ है और चुनाव के परिणाम 11 फरवरी को आएंगे। यदि पिछले चुनाव परिणामों पर एक निगाह डालें तो हम पाते है की पिछले विधानसभा चुनावों में आम आदमी पार्टी को 70 में से 67 सीटें हासिल हुई थी। वही, कांग्रेस एक भी सीट पर चुनाव नहीं जीत सकी थी।  हाँ भारतीय जनता पार्टी ने तीन सीटों के साथ अपनी उपस्थिति अवश्य दर्ज कराई थी। 

इस बार यहाँ का चुनावी मुकाबला बहुत  दिलचस्प रहने वाला है। इसके कई कारण है,  पहला कारण है केजरीवाल जी का दिल्ली के निम्न तबके को अनेक सुविधाएं मुफ़्त में उपलब्ध कराने की योजनाओं को आमजन उन्हें इसके बदले में कितना वोट देता है। दूसरा बीजेपी लोकसभा चुनाव 2019 के बाद के क्षेत्रीय चुनावों में पहले की तुलना में कम सीट ले  पायी है। आलोचकों की माने तो बीजेपी अपनी लोकप्रियता खो रही है। वर्त्तमान में उसे अपनी नीतियों के लिए विरोध का सामना भी झेलना पड़ रहा है। अब देखना यह है की बीजेपी तीन से तीस तक पहुंच पाएगी या दिल्ली में उसका सूपड़ा साफ हो जाएगा?

केजरीवाल जी की कार्यनीतियों से आमजन बहुत खुश नजर  आ रहा है। लोकप्रियता तो यही कहती है कि इस बार केजरीवाल जी को 70 सीटें प्राप्त होंगी।  यह तो रही लोकप्रियता की बात आइये अब देखते है की इस विषय में ज्योतिष विद्या क्या कहती है?  केजरीवाल जी की कुंडली क्या कहती है?   

सबसे पहले केजरीवाल जी की कुंडली का अध्ययन करते है  – 

जन्मविवरण – 16 अगस्त, 1968, समय – 23:46, जन्मस्थान – हिसार, हरियाणा  

इस जन्मविवरण के अनुसार बनाई गयी कुंडली वृषभ लग्न और वृषभ जन्म राशि की है। कुंडली में मंगल  पराक्रम भाव में नीचस्थ है, चतुर्थ भाव पर चार ग्रह शुक्र, गुरु, सूर्य और बुध स्थित है जो दशम भाव, कर्म भाव को दृष्टि दे रहे है। केतु पंचम भाव में और राहु एकादश भाव में स्थित है, इसके अतिरिक्त शनि नीचस्थ होकर द्वादश भाव में स्थित है। 

वर्तमान में इनकी गुरु महादशा में राहु के अंतर्दशा प्रभावी है जो अगस्त 2020 तक रहेगी। इसके पश्चात अगस्त से शनि महादशा रहेगी, जिसकी अवधि अगस्त 2020 से अगस्त 2039 के मध्य की रहेगी। महादशा गुरु की है, जो लाभेश है, अन्तर्दशानाथ राहु स्वयं उन्नति, सफलता और लाभ के भाव में स्थित है, तथा आने वाली दशा शनि की है जो इस लग्न के लिए योगकारक होते है, नवमेश और कर्मेश की दशाएं केजरीवाल जी को सफलता की नयी उछाईयाँ देंगी, जिसमें  सफलता के नए कीर्तिमान केजरीवाल जी स्थापित कर पाएंगे। जनवरी माह 2020 के अंत से शनि इनके भाग्य भाव पर गोचर करने लगेंगे। कुल मिलाकर स्थिति इनके अनुकूल बनी हुई है। इन्हें 60 से 65 के मध्य सीटें मिलनी चाहिए।   

Leave a Reply

%d bloggers like this: