साल 2020 में धन कितना आएगा? कितना जायेगा? – अपनी राशि से जानें

इस मानव जीवन में धन की आवश्यकता सभी को होती है और उस धन को अर्जित करने के कई मार्ग हैं, कुछ लोग धर्मादि कार्य, व मेहनत करके धन अर्जित करते हैं और कुछ लोग निन्दित कार्य से धन संचित करते हैं। हमारे इस ज्योतिषशास्त्र में धन का विचार बृहद रूप से किया गया है। ज्योतिषशास्त्र में धन का विचार 2, 11, 9, 5, 7, 10, 6 भावों से करते हैं। धन के विचार में प्रमुख भावों में 2, 11, 5 एवं 9 भाव है। इन भावों का परस्पर, प्रबल सम्बन्ध उत्तम धन को प्राप्त करता है। उपरोक्त विचारणीय भावों से जो धन का विचार किया जाता है इनकी प्रवृत्ति व विचारणीय तथ्य का स्वरुप अलग-अलग होता है।

भाव संचित धन का कारक भाव है, 11 भाव धनागमन भाव है, 10 भाव धन से संबंधित किये गए कार्य का भाव है, 7 भाव पैतृक सम्पत्ति का भाव है यह भी धन का ही स्वरुप है, 9, 5, भाव भाग्य और कुशलता के आधार पर होने वाले कार्य के द्वारा धन आगमन का विचार है, 6 भाव लाटरी, सट्टा, सेयर मार्किट, सूद, व्याज और ऋण से संबंधित भाव है। भाग्येश की सबलता का प्रभाव एकादश द्वितीय या पञ्चम में हो तो जातक इस स्थिति में प्रचुर धन प्राप्त करता है.  6 भाव का सम्बन्ध बुध से होकर 10 मेष से भी उत्तम सम्बन्ध का भी निर्माण करता हो तो इस स्थिति में जातक लाटरी, सट्टा, शेयर मार्किट इत्यादि से धन की प्राप्ति करता है। भाग्येश, पंचमेश, एकादशेष, द्वीतियेश, व दशमेश का परस्पर शुभ सम्बन्ध जातक के जीवन में व्यापक धन प्रदान करता है यदि उपरोक्त भावों में गुरु, बुध, शुक्र, चन्द्र इत्यदि का सम्बन्ध हो तो धन भोग में यह श्रेष्टतम योग होता है। 9, 2 व 11 भाव में बली गुरु का स्थित होना भी धन योग होता है।

कुछ इसी तरह के योगों और ग्रह गोचर की स्थिति से व्यक्ति के धन आगमन का अनुमान लगाया जाता है। साल 2020 में आपकी राशि के अनुसार आपके धन की स्थिति किस प्रकार की रहेगी, आज हम आपको यह बताने जा रहे हैं। साल 2020 में कब कब आप पर लक्ष्मी जी प्रसन्न रहेंगी और कब आपको उन्हें मनाना पड़ेगा। आईये जानें-

मेष राशि

इस साल के पूर्वार्द्ध में धन कारक गुरु आपकी राशि से नवम और दशम भावपर गोचर करेंगे, ऐसे में धन आगमन तो पहले से बेहतर होगा परन्तु धन संचय करना आपके लिए इस समय में सहज नहीं होगा। पूर्वार्द्ध में आपकी आमदनी में निरंतरता बनी रहेगी। आमदनी के किसी नए श्रोत के मिलने की भी उम्मीद है। किसी व्यापार या व्यवसाय को शुरु करने में खर्चे हो सकते हैं। 2020 मेष राशिफल आपको सचेत करता है कि कहीं से अचानक कोई बड़ा लाभ भी हो सकता है।   इस वर्ष आप कोई बैंक बैलेंस न बना पाएं। हालांकि इसके पीछे कारण यह हो सकते हैं जैसे कि आप कोई सम्पत्ति खरीद सकते हैं या कहीं पूंजी निवेश कर सकते हैं। यानी कुल मिलाकर मेष 2020 राशिफल कहता है कि यह वर्ष आपके धन व लक्ष्मी मामलों के लिए अनुकूल रहेगा। वर्ष उत्तरार्द्ध में गुरु धन और व्यय दोनों को प्रभावित करेंगे, इस स्थिति में धन विनियोजन, और धन संचय दोनों संभावित होंगे।

उपाय -नियमित दुर्गा सप्तशती, दुर्गा चालीसा या लक्ष्मी चालीसा का पाठ करें।

वृषभ राशि

इस वर्ष आपके धन की स्थिति अच्छी रहने वाली है।   घर-परिवार में लक्ष्मी जी का आगमन के मुख्य कारक ग्रह गुरु है। गुरु इस साल तीनों अर्थ भावों को सक्रिय कर रहे हैं। इसलिए बचत करने में भी आप सफल रहेंगे। इस वर्ष लाभ दिलाने में छोटे भाई या मित्र सहायक बन सकते हैं। अप्रत्याशित ढंग से भी धन की प्राप्ति हो सकती है। लेकिन यदि आप जुआं, लाटरी आदि के माध्यम से कमाई करते हैं तो इनमें बडा निवेश करने से बचें। साथ ही पैसों की सुरक्षा को लेकर चिंतन करें अन्यथा कुछ धन व्यर्थ में खर्च हो सकता है या खो सकता है। वृषभ भविष्यफल 2020 के अनुसार, साल के दूसरे भाग में कुछ घरेलू सामानों की खरीददारी में भी धन खर्च हो सकता है। घर या वाहन खरीदने में भी खर्चे हो सकते हैं।

उपाय – शुक्रवार के दिन व्रत रखें और घर में तुलसी का पौधा लगाएं।

मिथुन राशि

धन संबंधित मामलों के लिए साल 2020 शुभ रहेगा। इस साल आपकी आमदनी में बढोत्तरी सम्भव है। विशेषकर साल का दूसरा भाग धन से जुड़े मामलों के लिए काफी अनुकूल है। कोई अप्रत्याशित लाभ भी मिल सकता है। हालांकि आप किसी धार्मिक कार्य में कुछ खर्चे कर सकते हैं अथवा परिवार के सदस्यों तथा अन्य लोगों के हित में भी यह व्यय हो सकते हैं। साल के दूसरे भाग में किसी बड़े निवेश विशेष कर जमीन जायदाद में निवेश करने से पहले भली भांति सोच विचार जरूरी होगा। आर्थिक मामले में इस वर्ष कुछ बेहतर उपलब्धियां आपके हिस्से में आ सकती हैं। कहीं से अचानक धन की प्राप्ति हो सकती है। किसी लाटरी या बीमा के माध्यम से भी धनार्जन होने के योग हैं। इस वर्ष धन संचय करने में भी आप सफल रहेंगे। आप कोई बड़ा फायदा पाने वाला समझौता आप करेंगे।

उपाय- चंदन के तेल में कपूर डालकर उपयोग करें एवं काली चींटियों को चीनी खिलानी चाहिए।

कर्क राशि

कर्क 2020 राशिफल के नज़रिए से इस साल भूमि भवन आदि ख़रीदने के योग बन रहे हैं। यानी कि यदि आपने मेहनत की है तो यह साल आपको धन साधन व रूपया पैसा जरूर देगा। परन्तु आपको आपको इस वर्ष आर्थिक मामलों में विशेष सावधानी से काम लेना होगा। कुछ खर्चे तो अचानक आ सकते हैं और आपकी धन स्थिति बिगड़ सकती हैं अत: पहले से इस मामले को जानकर आप अभी से कुछ अतिरिक्त धन संचय कर सकते हैं। हालांकि साल के दूसरे भाग में स्थितियां थोड़ी सी बेहतर होंगी लेकिन सावधानी की जरूरत तो उस समय भी रहेगी। आपको गुजारे लायक धन मिलता रहेगा लेकिन खर्चों पर नियंत्रण करना जरूरी होगा।

उपाय – सूर्य के मन्त्रों में ;ॐ घृणि: सूर्य आदित्य:  ; मन्त्र का जाप करें।

सिंह राशि

इस साल व्यर्थ के व्यय आपकी चिंताओं क बढ़ायेंगे। धन आगमन भी मनोनूकुल न रहने की संभावनाएं बन रही हैं। वर्ष पूर्वार्द्ध में गुरु के भाग्य और आय भाव को देखने के कारण धन आगमन भी ठीक रहने के संकेत मिल रहे हैं। आय क्षेत्रों का विस्तार होगा और बचत करने में भी आपको सफलता मिलेगी। यदि आपके पास कोई पुराना कर्ज है तो साल के पहले भाग में उसे चुकाने की कोशिश करें क्योंकि साल के दूसरे भाग में कुछ नए कामों की शुरुआत करने के कारण आपको अपने संचय किए हुए धन को खर्च करना पड़ सकता है। यदि आपके काम का कोई संबंध विदेश से है तो साल के दूसरे भाग में वहां से कमाई हो सकती है। शनि का आय और धन भाव को देखना आय में निरंतरता, वह भी मंद गति होने का संकेत दे रहा है। कुल मिलाकर धन की स्थिति इस साल में आपके नियंत्रण में रहेगी।

उपाय – ऊँ ब्रां ब्रीं ब्रौं स: बुधाय नम: मंत्र का नियमित जाप करें।

कन्या राशि

धन आगमन और धन प्राप्ति के सुखद संयोग बन रहे हैं। साथ ही इसके लिए आपको विशेष प्रयास भी करने पड़ेगे। इस साल ॠण लेने-देन सावधानी के साथ करना होगा। धन क्षेत्रों में अचानक से बाधाएं और उतार-चढ़ाव आना संभावित है। साल के उत्तरार्द्ध में धन से जुड़े मामलों में भाग्य का सहयोग मिलेंगा। इससे रुका हुआ धन भी आपको प्राप्त होगा। साल के शुरु में आप धन उधार लेने के सभी कार्य पूर्ण कर सकते हैं. अनिश्चित क्षेत्रों से भी धन आने की संभावनाएं बनेंगी। वर्ष उत्तरार्द्ध में भाग्य आपका साथ देगा। और धन के नए साधनों का सामने आना आपको प्रसन्नता देगा।

उपाय – गायों को हल्दी के पीले रंग से रंगे (उबले हुए) दो किलोग्राम आलू खिलाएं।

तुला राशि

साल की शुरुआत धन आगमन के लिए प्रतिकूल बनी हुई है। व्यवसायिक विस्तार करना चाहें तो आप कर पायेंगे परन्तु धन के रुप में परिणाम आपको अभी प्राप्त नहीं हो पायेंगे। इसके लिए साल के उत्तरार्द्ध तक आपको प्रतीक्षा करनी पड़ सकती हैं। अच्छी बात यह है कि आप अपने बढ़े हुए व्ययों पर नियंत्रण लगाने में सफल रहेंगे। इसके अतिरिक्त आपको इस समय में इस बात का भी ध्यान रखना है कि स्वास्थ्य विषयों पर आपका धन खर्च हो सकता है। साल के दूसरे हिस्से में धन स्थिति में सुधार होगा और परिणाम आपके मनोनूकुल आयेंगे। साल की अंत में यदि आपके पैसे कहीं फंसे हुए हैं तो थोड़े से प्रयास से वो आपको मिल जाएंगे। अक्तूबर से दिसम्बर के मध्य की अवधि धन विषयों के लिए अच्छी रहेगी।

उपाय – मंगलवार को शिवलिंग पर जल चढ़ावे।

वृश्चिक राशि

आर्थिक मामलों के लिए इस साल को बहुत अच्छा तो नहीं कहा जा सकता, क्योंकि धन का कारक ग्रह साल के पहले भाग में बारहवें भाव में रहेगा। इस समय व्यय अधिक रहेंगे। धन की कमी के कारण कई कार्य बाधित हो सकते हैं। यह भी संभावित है कि आपको किस कार्य के लिए ॠण भी लेना पड़ जाए। धन की परेशानियां साल के आरम्भ में आपके लिए बनी रहेंगी। वर्ष के दूसरे भाग में धन आगमन बहुत अच्छा नहीं होगा परन्तु कुछ सुधार अवश्य होगा। बीच-बीच में धनार्जन होता रहेगा जो आपको धन विषमता से बचाएगा। साल के दूसरे भाग में आर्थिक स्थिति में कुछ सुधार होगा लेकिन धन स्थान पर शनि के होने के कारण इस वर्ष इस वर्ष आप अधिक संचय नहीं कर पाएंगे। इस वर्ष साल के उत्तरार्द्ध में कहीं भी निवेश करने से पहले भली-भांति चिंतन मंथन जरूरी होगा।

उपाय – केसर का टीका लगायें।

धनु राशि

इस वर्ष आपकी आमदनी के श्रोतों में इजाफा होता नजर आ रहा है। इससे लक्ष्मी जी प्रसन्न होकर आपके यहां आयेंगी। धन कारक गुरु लाभ भाव पर है। अत: लाभ की सम्भावनाएं काफी मजबूत रहेंगीं। आमदनी के किसी नए श्रोत के मिलने की भी उम्मीद है। कहीं से अचानक कोई बडा लाभ भी हो सकता है। वर्ष के पहले भाग में व्यापार- व्यवसाय के माध्यम से अच्छा लाभ मिलने से भी आप अच्छी बचत कर पाएंगे। साल के दूसरे भाग में आमदनी की गति कुछ हद तक धीमी रह सकती है। इस समय निवेश के मामले में सावधानी की जरूरत रहेगी। परन्तु यह कार्य साल के पूर्वार्द्ध में ही निपटा लें। धन निवेश और ॠण कार्यों को उत्तरार्द्ध के लिए न टालें।

उपाय – ॐ बृं बृहस्पते नम: । मंत्र का कम से कम १०८ बार जाप करें।

मकर राशि

इस साल खर्चों का अत्यधिक होना, आपके धन के बजट को बिगाड़ सकता है। इससे धन, वित्त और आर्थिक स्थिति डांवाडोल हो सकती हैं। बहुत प्रयास करने पर ही आप खर्चों को रोक पाने में सफल रहेंगे। साल के पूर्वार्द्ध की तुलना में

साल का उत्तरार्द्ध बहुत अच्छा प्रतीत हो रहा है। यदि आप निष्ठा के साथ प्रयास करते हैं तो पैसों को लेकर परेशानी नहीं होगी। लेकिन शनि का तीसरी दृष्टि संचित धन पर होने के कारण देर से ही सही और कम मात्रा में ही सही बचत करने में आपको सफलता मिलेगी। हालांकि अक्तूबर से दिसम्बर के मध्य अवधि में धन आगमन में किसी तरह की परेशानी नहीं होने देगी लेकिन फिर भी बचत की कोशिश तो करनी ही होगी। किसी बड़े निवेश में भी सावधानी से काम लेना होगा।

उपाय – शनि दोष निवारण यंत्र का जाप करें।

कुम्भ राशि

वर्ष 2020 के पहले भाग में व्यापार-व्यवसाय के माध्यम से अच्छा लाभ मिलने से भी आप अच्छी बचत कर पाएंगे। धन के साधनों में बढोत्तरी होगी आप बचत करने में भी कामयाब रहेंगे। कहीं से अचानक कोई बडा लाभ भी हो सकता है। यात्राओं से जुडी नौकरी करने वालों के लिए भी धनार्जन करने का समय है। साल के दूसरे भाग में यदि आपके पास कोई पुराना कर्ज है तो आप इस वर्ष उससे छुटकारा पा सकते हैं। लेकिन जमीन जायदाद के मामलों में बहुत ही सावधानी से निवेश करें। करना भी हों तो आप इसके लिए साल के उत्तरार्द्ध का प्रयोग करें। इस समय गुरु आपके धन भाव को देखेंगे ऐसे में धन की स्थिति मजबूत होगी।

उपाय – पीपल के पेड़ की सेवा करें।

मीन राशि

धन से जुड़े मामलों को साल के पूर्वार्द्ध में निपटाना लाभकारी रहेगा। उत्तरार्द्ध में धन संचय करना आपके लिए सहज नहीं हो पाएगा। बहुत कम मात्रा में धन लाभ होने की संभावना जरुर बनेंगी। लेकिन जोखिम लेना नुकसान का कारण बनेगा। व्यय अधिक रहेंगे परन्तु बढ़ते हुए व्यय धन बढ़ोतरी का कारण भी बनेंगे। साल के उत्तरार्द्ध में धन मामलों में निरंतरता न रह पाए। हालांकि बीच-बीच में अचानक धन लाभ होने की संभावना जरूर बन रही है। लेकिन जोखिम उठाने के लिए भी समय ठीक नहीं है।

उपाय – ब्रह्माणों एवं गरीबों को दही खिलायें।

Leave a Reply

%d bloggers like this: